Wednesday, August 13, 2014

-----॥ सोपान-पथ १८ ॥ -----

शुक्रवार, ०७ अगस्त, २०१४                                                                                               

तिलछित नैन किए बैन सर छोरे । बोलि होरि कू ठौर न थोरे॥ 

अजहु देहिहु हेल तुअँ केतहु । फिरौं न मैं कहहु चहे जेतहु ॥ 
तिरछे नयन किए जब वांणी रूपी प्रचंड वाण छोड़े और कहा : -- वासियों को वास की अल्पता नहीं । अब से चाहे तुम कितना ही आह्वान करना चाहे जितना कहना फिर मेरा फेर न होगा ॥ 

फुलाउब गालु पचारत पाउँ । करत रोख  जा बसी दुज ठाउँ ॥ 

लिख लिपि पिछु जो कछु सुरताई । लेख तहाँ  नउ पीठ रचाई ॥ 
वधु वहां से गाल फुलाती, पाँव पटकती हुई अर्थात रोष व्यक्त करती किसी दूसरे ठौर में जा बसी ॥ ठौरन की अल्पता थोड़े ही थी ॥ वहां एक नविन पृष्ठ की रचना की । पिछ्ला लिखा जो कुछ भी स्मरण रहा उसे उस पृष्ठ पर लिपि बद्ध करती चली गई । 

नवल ठौर नउ भनित नउ गीति । रस जुगत 
सिंगारी सब रीति ॥ 
कहत बचन कृत कथन प्रबोधा । दमन  कारिनी नीति बिरोधा ॥ 
नवल निवास में नई कवितायेँ नई नई गीतिकाएं थीं  जिनका सभी रीतियों से सुंदरता पूर्वक श्रृंगार किया ॥ रचित वचन यथार्थ ज्ञान का कथन कहते हुवे दमन कारी नीतियों का विरोध करते । । 

कहुँ भाष बध सुभाषित भासी । कहूँ जमन उद्भास संभासी ॥ 
लिखनि लीक  भै गुन कोदंडा । बियंगित बचन बान प्रचंडा ।। 
कहीं हिंदी भाषा  तो कहीं यमन भाषा में लिखित कवित्तमय उक्ति आलोकित होकर परस्पर वार्त्तालाप करती ॥ कहीं लेखनी  धनुष एवं लीक प्रत्यंचा हो गई थी,  व्यंग वचन प्रचंड वाण हो चले थे ॥ 

धरिअ हस्त साध लस्तक, धर मुख सान सुधार ।  
 ताकि तमक लख अनुमान, छाँडत करे प्रहार ॥ 
अब वधु शाण ( एक कृत्रिम पाषाण जिसपर लोहा तेज किया जाता है ) में सुधारती फिर मूठ हस्तगत किए धनुष  साधते हुवे लक्ष्य का अनुमान कर उद्वेग पूर्वक वाण रूपी उन व्यंग वचनों का प्रहार करने लगी ॥ 

सोमवार, ११ अगस्त २०१४                                                                                               

भए  सान सर बरन के कोषा । दुराचरन भए कारन रोषा । 
बरनै जब रीत प्रीत्यरथा । अर्थ भृत गरुबर हन अनरथा ॥ 
शब्द कोष शायक सुधारक शाण हो गए  । जगत में व्याप्त दुराचरण रोष का कारण  हो गए ॥ वधु जब रीति-काव्य में कुछ वर्णन करती । अर्थ के अधिकारी  अर्थ की गंभीरता को नष्ट करते हुवे उसका अनर्थ कर देते ॥ 

सत्य संध  तब छाँड़े लच्छा । काल सरप जिमि चले सुपच्छा ॥ 
सँधाने जब  दान नाराचे । मुखर होत मंजुल गति नाचे ॥ 
तब वधु ने सत्य-संध बाण नामक वाणों की वर्षा की , तब वे ऐसे चल मानो पंख वाले काल सर्प चल रहे हों ॥ जब दान के नाराच का संधान किया तब वे मुखरित हो उठे एवं मंजुल गति से नृत्य करने लगे ॥ 

धरि गुन त्याग बान त्यागे । धाए जहँ  तहँ सबइँ ते आगे ॥ 
प्रचरे प्रजर दयासर पुंजा । निकसे होत कुमुद कल कुंजा ॥ 
 त्यागनामक बाण को  प्रत्यंचा पर संधान किया तब वे सभी बाणों से अग्रसर  होका यत्र-तत्र  दौड़े ॥  दया -वाण समूह जब प्रचारित हुवे तब वह प्रज्वलित होकर कौमुद के सुहावने निकुञ्ज से होते हुवे निकले ॥ 

तरे तपस तर तीरत चापा ॥ अहंकारी भूरे निज आपा ॥ 
जैसे अहिँसा बान  चलाई । हिंसा है हहरत  हिन्साई  ॥
 धनुष खैचकर जब तपस्या -वाण अवतरित हुवे तब अहंकारी अपना अहंकार भूल गए ॥ जैसे ही अहिंसा का वाण छूटा हिंसा के अश्व काँप उठे और भयवश हिनहिनाने लगे ॥ 

काल बाण बन गहन घन, किए गगन महा नाद । 
नदी परबत बन उपबन, करे मधुर संवाद ॥  

काल  बाण गहरे बादल बनकर गगन में महानाद करने लगे । इस नाद से निह्नादित होकर नदी -पर्वत, वन-उपवन परस्पर मधुर संवाद करने लगे ॥ 

बुधवार, १३ अगस्त,२०१४                                                                                                      

 बधु लेखोन्मद माहि खोई । उत  पिया पढ़इ उत पूरन होई ॥ 
सेबक एकै दुइ सेवकाई ।  गेह भार पुनि गहन पढ़ाई ॥ 
इधर वधु लेखानुराग से अनुरागित हो चली थी  उधर  उसके प्रियतम का अध्ययन कार्य पूर्णता को प्राप्त हो गया ॥ सेवक एक और सेवकाई दो, फिर गृहस्थि का भार उसपर गहन अध्ययन ॥ 

लगे सो तेहि अवसर ऐसे । कोलहु जुते मेष के जैसे ॥ 
अंक सूचि लह अजहुँ समाजू । रहे सेष परिजोजन काजू ॥ 
उस समय प्रियतम  ऐसे दर्शित  हो रहे थे जैसे कोई कोल्हू में बैल जुता हुवा हो ॥ अंक सूची प्राप्त हो चुकी थी अब परियोजन कार्य तैयार करना शेष रह गया था  ॥  

साँझ रयन किए दिन कर कांति । कछुक काल बीते एहि भांति ॥ 
बाल बिरध घिरि गह जो कोई । सोइ सकल सुख सम्पद जोई ॥ 
संध्या काल को रयन में  परिवर्तित कर रयन काल से दिवस को कांतमान करते हुवे फिर समय कुछ इसी प्रकार व्यतीत हुवा ॥ बालक एवं वृद्धजनों से भरपूर गृह  में सुख की समस्त संपत्तियां संकलित रहती हैं ॥ 

गेहिनी जहां लखि संकासा । हरि निबास निभ गेहि निबासा ॥ 
प्रबंध के सब साधन साजे । भगवदीअ मन भाउ बिराजे ॥ 
जहां गृहणी श्री  का रूप  हो वह गृह श्रीधर का निवास हैं क्योंकि वहां गृहपति श्रीधर स्वरूप में निवास करते हैं । जहां चित्त में भगवद भक्ति का भाव विराजमान होता है वहाँ गृह प्रबंध के सभी साधन श्री को प्राप्त करते हैं ॥ 

असनासन हो कि वासन  लोचन सब सुख लाखि । 
आए सोइ दिन काल जब, देखे सम्मुख साखि ॥ 
उत्तम भोजन हो कि वसन हो की उत्तम निवास हो  वधु के लोचन ने सभी ऐहिक सुखों का दर्शन किया । और वह दिन भी आया जब उसने साक्षात काल के दर्शन किए ॥ 

बृहस्पतिवार, १४ अगस्त, २०१४                                                                                                    

ते अवसर बधु  लेवनु थाही । सबद सिंधु रहि गह अवगाही  ॥ 
तबहि द्वारि पिया दिए हेरी । हेर मुक्ति तुर बधु मुख फेरी ॥ 
उस समय  वधु  शब्दों के सिंधु में गहरे गोते लगाते हुवे उसकी थाह ले रही थी  कि तभी प्रियतम ने द्वार पर हाँक  लगाई । शब्द मुक्तियों का अन्वेषण करती वधु ने  तत्काल ही मुख फेरा ॥ 

चले पिय साँस धुकनि सकासे । मंद प्रभा मुख सीकर बासे ॥ 
कहे हहर उर होत  अधीरा । पिंड हरिअ हरि  होइहि पीरा ॥ 
और क्या देखा कि प्रियतम की सांस धूकनी के सदृश्य तीव्र थी । मुख की प्रभा धूमिल हो गई थी और उसपर श्रम सीकर का वास हो चला था ॥ काँपते स्वर में वे अधीर होते हुवे बोले : -- मेरे ह्रदय पिंड में हलकी पीड़ा हो रही है ॥ 

अस सुनत प्रिया भई अबाके । अचरज दीठ कंत मुख ताके ॥ 
प्रभहत चितबत चितब अचेती ।परिहरि सुधि पुनि हरि अरि चेती ॥ 
ऐसे वचन श्रवण कर  वधु अवाक रह गई । वह विस्मय भरी दृष्टी से  कांत के मुख को एकटक निहारने लगी ॥ हतप्रभता  एवं स्तब्धता के कारण  उसकी चेतना- शुन्य सी हो गई । तत्पश्चात निश्चेष्ट चित्त  शनै-शनै चैतन्य हुवा  ॥ 

हहरत  पहिले जीउ सँभारी । पठइ निअरई बैदु दुआरी ॥ 
रहे सकास एक सख नुरागीं । सुनी अघात पिय संग लागीं ॥ 
चकित होकर उसने प्रियतम की सांस को किसी भाँति संयत किया ॥  फिर निकट के चिकित्सक के पास प्रथमोपचार हेतु भेजा ॥ प्रियतम का एक अनुरागी सखा निकट में निवासित थे । जब उन्होंने आघात के विषय में जाना तब वह सखा प्रियतम के  संग हो लिए ॥ 

गहे घन गहन भइ रयन, घरि घरि किए घन नाद । 
छाए वधु मुख मंडल इत, रयनै सम अवसाद ॥ 
रात बहुंत ही गहरी हो चली थी बादल घड़ी घड़ी निह्नादित हो रहे थे । इधर  वधु के मुखमंडल पर भी रयनी के समृश्य ही अवसाद के बादलों का निवास हो गया था  ॥ 

शुक्रवार, १५ अगस्त, २०१४                                                                                                   

बहुत सिथिर मन चरन बहुराए । निगद जीवद सोइ आन बताए ॥ 
प्रथमहिं लै हिय कम्पन रेखे । लेख यन्त्र लिखि लिपि का देखें ॥ 
पृयतम् अत्यंत ही शिथिल चित्त एवं चरणों से घर लौटे । जैसा चिकित्सक ने कहा प्रियतम ने वैसे ही श्रुत निगदिन किया ॥ सर्वप्रथम ह्रदय कम्प आलेख लेवें । फिर देखते हैं की लेख यन्त्र  कैसी लिपि उद्भाषित  करता है ॥ 

ते अवसर तमरघन काल अधारी । बोलि बधू  कर चिंतन  भारी ॥ 
करो बिश्राम रहौ कर जोरे । गमनोचित होइहि जब भोरे ॥ 
उस समय अन्धेरे पर घनश्याम आधारित हो गया था । तब वधु ने भारी चंता करते हुवे कहा : -- युगीत हस्त स्वरूप में अभी आप विश्राम कीजिए । प्रभात काल में कहीं जाना उचित होगा ॥ 

भए अध निसि मर्म उर दाहू । फरकेउ बाम नयन अरु बाहू ॥ 
डरपत जस तस रैन बिताई । नयन पलक पट देइ लगाईं ॥ 
अर्द्ध-रात्रि हो चुकी थी वधु के ह्रदय को मर्म जैसे दहन करने को ही तुला था । किन्तु उसके बाएं अंग फड़क रहे थे ॥ उसने भयविह्वल होकर नयनों में पलकों का पट दिए जैसे-तैसे वह रात काटी ॥  

मत मीर माहि डूबि तिराई  । मुख पट प्रथम किरन परसाई  ॥ 
बहुरि  पिया अरु बिलम न कारे । गत हरिदै बिग्यानि दुआरे  ॥ 
 वधु विचारो के सिंधू में डूबते उतरती रही, मुख पटल पर भोर की प्रथम किरण का स्पर्श प्राप्त हुवा  ॥ प्रियतम  ने फिर और अधिक विलम्ब नहीं किया । वे ह्रदय विशेषज्ञ के द्वार पर गए : --- 

लेइ अचिरम बिद्युति गति, हृदय स्पंदन लेख । 
पढेँ पिय बेदु  मुख रंग , बेदु लिपि रहे देख ॥ 
फिर विद्युत की गति सी शीघ्रता बरतते हुवे ह्रदय स्पंदन आलेख की लिपि लिए । इधर  चिकित्सक लिपि का निरक्षण कर रहा था  वह उसके मुख की रंगत पढने का प्रयास कर रहे थे ॥ 

शनिवार, १६ अगस्त, २०१४                                                                                                  

बाधित गति सँग हिय हिचकोले  ।  बैदु हहरत बानि मह बोले ॥ 
अनभल कँह हिय कंप लिखाई । तुर हिय ब्याधि भवन पठाईं ॥ 
 कुछ समय पश्चात चिकित्सक ने कंपकंपाती वाणी से कहा : -- किसी प्रतिरोध के कारण ह्रदय हिचकोले ले रहा है ॥  स्पंदन आलेख किसी हानि का संकेत कर रहे  है । और जीवाद ने तत्काल ही प्रियतम को ह्रदय चिकित्सालय भेज दिया ॥ 

पैठत भवन साँझ पग फेरी । रयनी काल बरन लिए घेरी ॥ 
अंतर भीड़ रह अति भारी । परिजन पीड़ित हिय कर धारी ॥ 
चिकित्सा भवन पहुंचते पहुंचते संध्या की पग फेरी हो चुकी थी  । काल वर्ण लिए रयनी घेरे हुवे थी ।   अंतर भवन में  जन संकुलता अति गहन थी । परिजन एवं पीड़ित हाथों में ह्रदय लिए निरिक्षण हेतु प्रतीक्षा रत थे ॥ 

अचिरम उर छत भवन पधारे । हराहरि ह्रदय कर मह धारे ॥ 
निरखए  बैदु हरिदयागासा । पडत कम्पन लेख के भासा ॥ 
शिथिल हो चुके ह्रदय को हाथ में लिए प्रियतम ने शीघ्रता करते हुवे ह्रदय चिकित्सालय में प्रवेश किया ॥ चिकित्सकों ने कम्पन आलेख की भाषा का अध्ययन करते हुवे संपूर्ण ह्रदय का निरीक्षण किया ॥ 

संगनक अंतरायन चाके । हहर बैदु बहुटी दिए हाँके ।। 
पूछि अरु को होइ तुअ संगा । भयऊ अतिसय गहन प्रसंगा ॥ 
संगणक ने अपने पटल  पर ह्रदय के अंतर जगत का दृश्य उकेर दिया । तब चिकित्सक गण ने घबरा कर वधु को पुकारा । उन्होंने प्रश्न किया  अति गम्भीर विषय हैं तुम्हारे साथ कौन कौन हैं॥ 

कहि पिय सख सह कौटुम होई । अबर हमहि अरु संग न कोई ॥ 
भाव भए प्रबन् सिथिरै अंगा । प्रतिभाषत मुख भयउ बिरंगा ॥ 
वधु ने उत्तर दिया : -- प्रियतम के मित्र सपरिवार हैं । हमारे संग अन्य कोई नहीं है ॥ ऐसा उत्तर देते हुवे वधु भावुक  हो गई उसके अंग शिथिल हो गए प्रतिभास करते हुवे मुख विवर्ण हो गया ॥ 

पडत जीवद बदन रेख, बहियर भई अधीर । 
डरपत पूछी का अहैं, सोए बिषय गम्भीर ॥ 
उस समय चिकित्सक के मुखाकृत की रेखाओं का अध्ययन कर वधु अत्यंत अधीर हो गई । भयभीत होकर उसने प्रतिप्रश्न किया वह गम्भीर विषय है क्या ॥ 

रविवार, १७ अगस्त, २०१४                                                                                                     


तीनि बाहिनिहि भयउ बिभंगा । जुगित जोइ मुख हरिदै संगा ॥ 
रुधिराभिसरन जौ रुध होही । साँसत हरिदै साँस न जोही ॥
तीन रक्त वाहिनियां अवरुद्ध हो गई हैं यह अवरोधन ह्रदय के मुख्य द्वार से सलंग्न हैं ॥ यदि रुधरिाभिशरण अवरुद्ध हो गया तब सांस रुकने की पीड़ा के सह ह्रदय स्वांस ग्रहण नहीं करेगा ॥ 

 स्वेद  दै  हिय तुर कम्पन किन्हे  । पहिले कभु अस लच्छन चिन्हे ॥ 
बधूटी सिरु कहे  नहि नाही । जीवद गहन सोच अवगाही ॥ 
तुमने पहले कभी रोगी में ऐसा लक्षण  है श्रम सीकर के सह ह्रदय तीव्र गति से स्पंदित हुवा हो ॥ उत्तर में वधु के सिर ने नहीं कहा । तब चकित्सक गहरी सोच में पड़ गए ॥ 

 प्रसन  निरंतरप्रस्नी पूछी । बधु प्रतिभासन भासत छूछी ॥ 
अरु बहु भाँति पूछ बुझाईं । थकित नयन बधु कह समुझाई ॥ 
प्रश्न पूछने वाले निरंतर प्रश्न कर रहे थे । वधु भासते भासते उत्तरों स रिक्त हो रही थी । और बहुंत प्रकार की पूछ को बुझाते वधु थकित नयन होकर कहती समझाती गई ॥ 

कहे जीवद तब हतप्रद बदन । जे अपने पो  अभिन्न प्रकरन ॥ 
स्थूल तन न ब्यसन न कोई । मधु मेह संग ग्रसित न होई ॥ 
तब हतप्रभ मुख से चिकित्सकों  ने कहा यह अपने आप में एक एकेला प्रकरण है ॥ कारण कि रोगी का शरीर न तो स्थूल है न उसे कोई व्यसन है न वह मधुमेह के रोग से ग्रस्त है ॥ 

चले सुधित बहु संजमित रुधिरू चरन के चाप । 
का कतहुँ कबहु परिखेहु,  पित सांद्रव संतापा ॥ 
उसके रुधिर के पद चाप भी व्यवस्थित एवं संयमित हैं । क्या कभी कहीं रक्त के पित्त गाढ़ेपन का अर्थात रक्तवसा  का परिक्षण किया है ॥ 

सोमवार, १८ अगस्त, २०१४                                                                                                         

अस कह बेदु  पद कतहुँ  बाढ़े । बहुरत बोलि पित्त अति गाढ़े ॥ 
रुधिरभिसरनु चाप अनियंता । लघु घात कृत बर किए अंता ॥ 
ऐसा कहकर चिकित्सक के चरण कहीं बढ़े और लौटकर कहा रक्तवसा स्निग्ध है ।  रक्त के  दाब की अधिकता उसके परिभ्रमण को अनियंत्रित कर देती है जो लघु आघात को भी वृहद कर रोगी का अंत करने में सक्षम होती है ॥ 

एहि भल पिय मधुमेह न जोई । नियंत चाप अरु भली होई ॥ 
न तरु मीच हरिदै दिए काँचे । जो किए अंत  पलक पै पाँचे ॥ 
यह भी एक भली बात हुई कि रोगी को मधुमेही नहीं है उसपर रक्त चाप भी  नियंत्रित है ॥ अन्यथा  मृत्यु ह्रदय को खंडित कर पालक भर में ही रोगी का अंत कर देती है ॥ 

अजहुँ एहि बचन  हमहि समझाएँ । गत रयन कतहुँ काहू न धाए ।। 
उरस पीर जब अल्पक देखे । अहइँ घात एहि हम नहि लेखे ॥ 
अब हमें यह समझाओ  बीती रात उपचार हेतु तुम कहीं गए क्यों नहीं ॥ ह्रदय की पीड़ा को जब अल्प स्वरूप में देखा तब हमें समझ नहीं अाया कि यह ह्रदय आघात है ॥ 

अस कह बधु धीरज गइ हारे । नयन पटल  जर  झर झर झारे ॥ 
कहत एहि बरन फूटी धारा । मूसक हेरि निकसे पहारा ॥ 
ऐसा कहकर वधु धीरज हार गई  नयन पटल से झर झर कर जल झरने लगा ॥ और ये शब्द कहते हुवे जल  की जैसे धारा ही फूट पड़ी ।मूसक ढूंडने चले थे, पहाड़ निकल आया ॥ 

अरु प्रतिभेदन क्रिया के, जीवद किए संभारि  । 
कहत अचिरम बोलि पठउ, रुधिरु हेतु परिबारि ॥   
तदनन्तर  चिकित्सक शल्यक्रिया की तैयारी करने लगे  । यह कहते हुवे कि रक्त दान हेतु  अपने कुटुंब को शीघ्रातिशीघ्र बुला भेजो ॥ 

मंगलवार, १९ अगस्त, २०१४                                                                                                           

देइ संग दिनुभर  के होरी । सखा कौटुम्ब सहित बहोरी ॥ 
बँधे धीर तिन पलक बिभंगे । बहे नीर बन नयन प्रसंगे ॥ 
 जो दिनभर चिकित्सालय में रुके रहे और वरवधु का साथ दिया  वह सखा अब कुटुंब सहित लौट चुके थे ॥  कुछ धीरज पलकों ने बांधे रखा था वह भी विभंगित होते हुवे  पलकों के संग नीर बनकर बह चला ॥ 

जासु सपन महु रहि न अँदेसा । सोइ केहि कस कहउँ सँदेसा ॥ 
भए घनबर तरंग के नाई । एक रंग अवाई एक जाईं ॥ 
जिस घटना का स्वप्न में भी कहीं अंदेशा नहीं था उसका  सन्देश किसे व् कैसे कहूँ ॥ ( यह विचार कर ) वधु का मुख तरंग की भाँती हो गया । उसपर एक रंग आता दुसरा लौट जाता ॥ 

ताप सिंधु उर कंठ भरे । उदहार बन लोचन कन झरे ॥ 
इत हिय बल्लभ ब्याधि भोगे । उत गह बालक पालक जोगे ॥ 
सन्तापित ह्रदय रूपी सिंधु,  कंठ में भर आया । वह बादल बनकर नयनों से बरसने लगा ॥ इधर ह्रदय वल्लभ  ह्रदय व्याधि से ग्रसित हैं उधर गृह में बालक अपने पालकों की प्रतीक्षा में हैं ॥ 

कवलन पिय  पथ काल जुहारी । होत बिलंबु उतारिहि पारा ॥ 
बैदु आन कहि बारहि बारे । बेगि करो तनि रुधिरू जुगारैं ॥ 
 कवलित करने हेतु काल प्रियतम की प्रतीक्षा कर रहा है विलम्ब होते ही वह जीवन नैया को संसार सिंधु से पार लगा देगा ॥ चिकित्सक वधु के पास आकर वारंवार कहते । थोड़ी शीघ्रता करते हुबे रुधिर की व्यवस्था करें ॥ 

पलक दसा सुभ रीत रही, अजहुँ  भई बिपरीत । 
जीवन मरन रनांगन  , होइहि बिधि के जीत ॥  
क्षण भर पहले जो दशा मंगलकारी थी वही अब विपरीत हो गई । जीवन -मरण के रणांगण  में अंतत: विधाता की ही विजय होती है ॥ 

बुधवार, २० अगस्त, २०१४                                                                                                       

दुर्दसा दर्प एहि सोच करे । सहुँ जनम मरन  के प्रसन खरे ॥ 
अस बिपति सँदेसु केहि दाईं । कौन सुहरिदै कौन सहाई ॥ 
 दुर्दशा दर्प से युक्त हो कर यही विचार करने लगी ।  सम्मुख जीवन-मरण का प्रश्न मुंह बाए खड़ा है ॥ ऐसी  विपत्ति का सन्देश किसे भेजूँ । कौन सरल हृदयी है कौन सहायता करेगा  ।

स्व अर्थ सहारथ आन पड़े ॥ पुरजन परिजन कि बिरधा बड़े बिरध बड़े 
परे बिपति पुनि कहन सँकोची । दोनउ तईं कहहि का सोची ॥ 
प्रियजन हो कि परिजन हो कि  घर के बड़े-बूढ़े हों स्वार्थ को उनके सहयोग की आवश्यकता आन पड़ी है । उन्हें सूचना देते हुवे वधु संकोच करने लगी कि वे दोनों के प्रति क्या सोचेंगे ॥ 

आरत के जस गेह बसाही । लिए बुलाए परिगह जब चाही ॥ 
छाँड़ साँस पुनि ऊपर खींची । कथन सँभार  दीठ किए नीची ॥ 
रोगों की तो जैसे इन्होने गृहस्थी ही बसा रखी है ।  एक साँस छोड़ कर उसे ऊपर खींचते,  दृष्टि नीची किए वधु ने शब्दों को संभाला ॥ 

मात पिता बिरधा बय  भोगहि । सेव सहारथ आपहि जोगिहि ॥ 
बहुरि बिनु अरु समउ चूकाही । बड़े भगिनि सब  कही बुझाई ॥ 
मात-पिता बृद्धावस्था को भोग रहे हैं सेवा सहायता की वह  स्वयं ही प्रतीक्षारत हैं ।ऐसा सोचते हुवे अधिक समय नष्ट न कर बड़ी भगिनी को सारा समाचार कह सुनाया  ॥ 

दिए सँदेसु सकल परिजन, पुनि उर धर बहु धीर । 
कहत नयन निर्झर भयो, झर झर झलके नीर ॥  
तत्पश्चात  धैर्यवान  ह्रदय से बारी बारी सभी परिजनों को सुचना देते हुवे वधु के नयन निर्झर हो गए उनसे झर झर करते हुवे जल की धारा फूट पड़ी ॥ 

बृहस्पतिवार, २१ अगस्त, २०१४                                                                                             

बालकिन्ह लिए सख बहुराई  ।  क्रमबध बधु सब दसा बुझाई ॥ 
प्रिय हो पुर हो दूर कि धूरे । हरियर भवन सबइ जन जूरे ॥ 
इधर प्रियतम के मित्र बालकों को लेते आए ।  वधु ने  उन्हें क्रमवार सारी घटना कह सुनाई ॥ प्रिय हो कि पर हो दूर के हो की निकट सम्बन्धी हों शनै: शनै: सभी निवारण भवन में एकत्रित हो गए  ॥ 
 
भगिनी भाबुक भौजि कि भ्राता । आनि संग लिए जात जमाता ॥ 
सुमिरि जननि अस आइहि धाई । बत्स रूप जिमि धेनु लवाई ।। 
भगिनी हो की भावुक हों भावज हो कि भ्राता हों सभी अपनी पुत्रों एवं जमाता सहित आए । प्रियतम का स्मरण कर जननी ऐसे दौड़े आईं जैसे वत्स-रूप ( छोटा बछड़ा )  को स्मरण कर गौवें दौड़ी आती हैं ॥ 

बरसन जस रस घन निकचाहिहि । पूछ प्रसन सब झरी लगाहिहि ॥ 
भई दसा जब अस गंभीरे । पूरब काहे नाहि कही रे ॥ 
 जैसे झड़ी बांधने हेतु नभ में मेघ संकलित होते हैं वैसे ही निवारण भवन रूपी गगन में परिगृह संकलित हुवे एवं पूछ-प्रश्न की सभी ने झड़ी सी लगा दी ॥ जब ऐसी गम्भीर दशा थी । तब तुमने हमें पहले क्यों नहीं कहा ( उन्होंने पूछा ) ॥ 

  सोक बिबस बधु कही न पारा । डूबे भयउ तृन के सहारा ॥ 
आगत संग चिंतत महतारी । कटोक्ति किए बत कही चारी ॥ 
वधु शोक से संतप्त थी विवशता के कारण वह कुछ उत्तर न दे पाईं । किंतु डूबे  को तृण का सहारा अवश्य प्राप्त हो गया था ॥  पदार्पण करते ही माता वधु के संग प्रियतम हेतु चिंतत हो उठी । और कटोक्ति कर चार बाते भी कह सुनाई ॥ 

दोनउ कुल भयउ दोउ कूला । धीरबान मन धीरज भूला ॥ 
दुःखकर लोचन जल भर लाई । बहियर भइ निर्झरनि के नाईं ॥ 
उस समय वर-वधु दोनों के कुल दो तट हो चले  । चित्त अत्यंत धैर्यवान था किन्तु ऐसे कटुक वचन श्रवण कर वह अपना धीरज भूल गया ॥ दुख करते हुवे वधु लोचन में जल भर लाई । पलक में ही वह निर्झरणी स्वरूप हो गई ॥ 

 लेखे हरुबारी निकसे भारी उरस छत आरत महा । 
पुनि सकल कहानी बधू बखानी बदन जस लच्छन कहा ॥ 
प्रतिभेद क्रियाहि सब संसय लाहि अबर नगर गवन कहे । 
जीबद बहु कुसल जुग साधन सकल जदपि अरुज भवन रहे ॥ 
जिसे  छोटा समझा ह्रदय को ग्रस्त करता हुवा वह रोग महा भारी निकला ।  देह ने जैसे लक्षण प्रदर्शित किए वधु ने वह सारी घटना कह सुनाई ॥ यद्यपि निवासित  नगर का निवारण भवन चिकित्सकीय संसाधनों एवं कुशल चिकित्सकों से  परिपूर्ण था तथापि  परिगृही शल्य क्रिया के प्रति संशय व्यक्त करते हुवे किसी अन्य नगर में निर्गमन हेतु कहने लगे ॥ 

पर पुर गमन निरखत नहि, मम नैन को निहोर ।  
कहत बधुरि नीर नीरज, करत करज के कोर । 
मेरी दृष्टि को पराई नगरी जाने का कोई उचित कारण गॉचर नहीं होता ।  अश्रु -मुक्ता को हस्त्यमाल  में संकलित करते हुवे वधु ने ऐसे वचन कहे ॥ 
शुक्र/शनि , २२/२३  अगस्त, २०१४                                                                                                  

जदपि कहि बचन सकल  परिबारि । पिय छत हिय कृत हेतु हितकारि ॥ 
स्यान नयन जिउ मरनि पेखे । अग जग लग के चरितर देखे ॥ 

जह जी जोनि बहुत अनमोले । परिजन कह समुझावत बोले ॥ 
जो तुहरे मन धन के चिंता । तिन संजुत गत भयउ अचिंता ॥ 

भाव सरबर कंठ भर लाई । भगिनी पुनि पुनि कह समुझाई ॥ 
जे भाबुक तव पिता समाने । लग लॉग सो सन लए आने ॥ 

महा नगरि के  सुजस बखाने । सकल भवन जीवन बरदाने ॥ 
अहैं तहाँ बर बर बिग्यानी । पूछो त एकहु नाउ न जानी ॥ 

को रोग को पीर धरत , रूप धरे उन्माद । 
अधुनातन घर घर चले  चलन पलायन वाद ॥ 

पिहरारु पख हो कि ससुराई  । को मह नगरि गवनु समुझाई  ॥ 
बहियार चित भए दृढ़ चेता । निबारन निबास ह्रदय केता ॥ 

करत कीरत महा नगरी के । कहत इहाँ भरोस काजी के ।। 
को किछु कहई को किछु कहई । बधु मत संग असंगत रहई ॥ 

मात भ्रात पुनि पिय पहि गयऊ । पूछे तुहरे मति का कहऊ ॥ 
कराउ सोइ अरु सोच बिनाही । जो प्रान समा के चित चाही ॥ 

जोइ जिउ दे जिआवहि सोई । अगुसर किछु कर सके न कोई ॥ 
आकुल परिजन हिट अभिलाखी । कबहुँक पिय कबहु प्रिया लाखी ।। 

भयउ बिहान दुनहु कुल कूला । बर बधु के अनुमत अनुकूला ॥ 
आने एक  संसय उर माही।  कहीं सरबस  सुधित तौ नाही ॥ 

हृदय लेख  चित्र लेइ गत , आन जीवद दुआरि । 
मंद मलिन प्रभा मुख सों,  बहुरे सब किछु हारि ॥ 

रवि/सोम, २४/२५  अगस्त, २०१४                                                                                                    

इहाँ बिग्यानी जोई कहे । उहाँ  केहु  ग्यानि सोई कहे ॥ 

जस अंतर चित्र दरसनाई । सल्य चिकित्सा एकै उपाई ॥ 

बसित भवन हुँत संसितात्मन । आईटी बधु निज सम्मत संपोषन ॥ 

बड़ भाबुक कहि  अनुमत घारे । किजौ  सोइ जो मनस उचारे ॥ 

चिंता चित संसय उर लाहत । बिसाद सिंधु माहि अवगाहत ॥ 

भगिनि जोई धरोहरु  दाईं  । त्रयोदस लखा  सेष सँचाई ॥ 

एक अरु अरध लखा तिन माही । माँग अधि कोष करतल गाही  ॥ 

सरल सधारन  जीवन जीवा । जासु चरन निज छादन  सीवा ॥ 

तासु कठिन अनुमान धराना । सो दारिद अहैं कि धनवाना ॥ 

भगिनहि भाबुक दीन सोच किए । आनए सन लगे सो लाग लिए ॥ 

उर छत निबारन भवन, जब गुनि गिनि धन धारि । 
सल्य चिकित्सा के तबहि , जीवाद साज सँभारि 

मंगलवार, २६ अगस्त, २०१४                                                                                                    

साँस चढ़ाए रहे कर जूरे । जबलग भेदन होइ न पूरे ॥ 
अति संसय बसे मन माही । मरन जिअन परिजन डेराहीं ॥ 

काल के क्रम चारि खन धारीं । प्रिया पलक पल पल अनुहारीं ॥ 
उर दधि ताप नयन घन घोरे । नीरज माल करज किए कोरे ॥ 

रलिरए रै संसय बहुतेरे । जपत राम किए धाम घनेरे ॥ 
हस्त पटल मुख पटीक धराए । सल्य हृत गेह बाहिर आए ॥ 

मुरुझित  हास अलप हरषाईं । भेदन कृतफल कहत  बताईं ॥ 
हास हर्ष बय अजहूं आधा । अहन रयन लग रहि किछु बाधा ॥

जीवद के लेइ अनुमति,  बधु गए भेदन केत । 
टाँक लगे उर चरन कर, प्रीतम परे अचेत ॥ 


दोइ दिवस छय दोइ प्रभाता । भयउ समउ हिय पर अघाता ॥ 
चरण जुगत पिय पलन पौढ़ाए । दरसे बधू मुख कातरताए ॥ 

जस मेला एहि मेल बिहाना । जीवन के का हो अवसाना ॥ 
पलकन पंथ  नयन गह छाई । सुराग नरक के छबि दरसाई ॥ 

उर उमगेउ अम्बुधि नुरागे  । लोचन जल लिए जनि पद लागे ॥ 
चीरंजीउ कहि मात ब्याकुल । भयउ भयाकुल दोनउ के कुल ॥ 

मिलि बालकिन्ह कछ जाइ पुरब । बैन नैन रे मुख किछु न कहब ॥ 
तपित उर बधु पलक जल बोही । पौड़ पलन पिय बाढ़त जोही ॥ 

अरम्भे पतिभेद क्रिया समऊ बिते प्रभात । 
दिए रक्त दान सह भगिनि भ्रात जात जमात ॥ 

लौह एक कटनी दोई, दोनहु मुरुछित कारि । 
एक अघात अंत किए, एक अघात उपचारि ॥

बृहस्पतिवार, २८ अगस्त, २०१४                                                                                               

धरकत हृदय भयउ अधीरा । आनए चेतस धीरहि धीरा ॥ 
हस्त चरण उर लागिहि चीरा । मंद प्रभा मुख पीरहि पीरा ॥ 

ए गहन रोग अरु इ जुबताई । दसा पीया के देखि न जाई ॥ 
लिखे बिधान समउ बलबाना । काल करम गति अघटित माना ॥ 

स्वजन  सहित भेंटि पटि लागे । पिया बिलोकत अति अनुरागे ॥ 
मांगे बरदान जिए पिय मोरे । सुमिरत प्रभु दोनउ कर जोरे ॥ 

उपकृत होत बधु चरन बहुरे ।  नयन जलज  अचरा पट कूरे ॥ 
चेत भए चिंता  भई आधी ।  पूर्ण सन भै आध  ब्याधी ॥ 

जीवन निरीक्षत कहि अजहुँ , जी संकट बिरताइ  ॥ 
भले बचन अजहुँ आगिन  होहिहि परभु सहाइ ॥ 

शुक्रवार, २९ अगस्त, २०१४                                                                                                         

अस निगदत गह गहन उदासी । दूर सुदूर के कि संकासी । 
प्रियजन परिजन का पुर बासी । फिरि एक एक मुख ले उछबासी ॥ 

देउ पितर सम्मुख कर जोरी । भइ कृपा कह बहोरि बहोरी ॥ 
सुभ आकाछी मंगल कारी । मृदु हिय ममता मै महतारी ॥ 

रही संग लगि  पालउ साथा । बड़े भाग जग जोइ सनाथा ॥ 
बे परिनति माह एही ब्याधी । जब लगि जीवन तब लग बाधी । । 

महतारि तनुज लेख अभागे । साली क्रिया सों संका लागे ॥ 
गावं बिनु मह नगरी पराई । सलया क्रिया के दसा अनाई ॥ 

रह अरुजित रे मोरे ललना । इहँ काटि हिय पौढ़ाए पलना ॥ 
बानि बान किए मुख किए कोसा  । कोसे जीवद सह संक्रोसा ॥ 

मात सकल संक संदेहु  बुद्धि कोष संजोइ ।  
इत प्रीतमहु सिथिर देह, मात कहे सन होइ ॥ 

शनिवार, ३० अगस्त, २०१४                                                                                                  

पीरा होइ न जाहिं बखानी । माना मैं तुहरे मनमानी ॥ 
देखु देही सूत कस साँटे । परिच्छेद दए दुइ दुइ आँटे ।। 

जाब निबारन महा अगारा । होतब तहँ अरु भल उपचारा ॥ 
भए  उर छत इहँ फूरी बोले । लाह लबध हुँत उर पट खोले ॥ 

सुनी पिया के बधु भइ खिन्ना । तुहरे प्रकरन जगत अभिन्ना ॥ 
सो सब मोर करे परिनामू । भय कुठाहर जेहि बिधि बामू ॥ 

इहँ जीवद कहि सो सब काँचे । आए बात तब जब जी बाँचे ॥ 
प्रथमहिं अस कहु कहे न काहे । चुगि न खेह चिरि अरु पछिताहे ।। 

बोली  बधु अजहुँ तुहरे , मन आहि जहाँ जाउ । 
ताँस होत  घर आइ फिरि भरे कोप अरु ताउ ॥  

रविवार, ३१ अगस्त, २०१४                                                                                                        

निबारन भवन दिए अवकासा । श्रमित चरन पिय आनि निबासा ॥ 
धरि भुज सिखर लगि संग माई । जासु संगती परम सुखदाई ॥ 

संधिकाल हो रयन बिहाना । रखे राख बहु देइ ध्याना ।। 
बान सम बचन एहि दुखदाई । अबर गवन के ररन न जाई ॥ 

चरन कर उर काटि के डारे । ए जोग रहे न ललन हमारे ॥ 
हरिअ हहरन पीर गह थोरे । दुरोपचार करे धन जोरे ॥

मनुजाद मरन गति पैठाइहि  ।  मर्म घात अन्बेष बिनाइहि ॥
सुनत अस पिया आह पुकारे । जनि कहि पुनि पुनि हाँ रे हाँ रे ॥ 

को फूरि कही को सही, को आन समुझाए । 
बधूटि चित जनिजात के, भरम बचन भरमाए ॥