Wednesday, April 17, 2013

----- ॥ सुक्ति के मनि 6॥ -----


मंगलवार, १ ६ अप्रेल, २ ० १ ३                                                                                

भल कह जग जे भलमनसाहू । असमरथ जेहिं समरथ दाहू ॥ 
नहीं त जग मह जन बहु बासे । तमो गुनी नख नगन अगासे ॥ 
संसार उसी को भला कहता है, जो   असमर्थ को समर्थता प्रदान करते हुवे भलाई के कार्य करते हैं ॥ अन्यथा जगत में 
बहुत से लोग बसते है जो गगन के नगण्य तारों  के जैसे होते है जो धरती को प्रकाशित नहीं करते ॥ 

नगरी नतैत करि बहु सहाए । ताके सह लिखि कही न जाए ॥ 
एक नतेत निज निकट भवन में । ना कह हठ करि ले गए सन में ॥ 
जहाँ बालक का उपचार हो रहा था  वहाँ  बसे सगे सम्बन्धियों ने बहुत ही सहायता की । उनकी सहायता लिख कर कही 
नहीं जा सकती ॥ उनमे से एक समबन्धि,  पालक के द्वारा ना  कहने पर भी हठ पूर्वक वास हेतु अपने निकट के भवन 
में ले गए  ॥ 

बर-बधु तहही तनि सकुचाहीं । बिनय करत कहिं  नाहीं नाहीं ॥ 
करे सेव ते बिना सुवारथ । चित मह रह बस पूनि  के अरथ ॥ 
वहां पर वर वधु को थोड़ा संकोच तो हुवा और वे विय पूर्वक ना ना कहने लगे । किन्तु उन  सगे-सम्बन्धियों ने बिना 
किसी स्वार्थ के मन में पुण्य प्राप्त करने की इच्छा रखते हुवे बालक की बहुंत ही सेवा की ॥ 

दीठ बाल बहु पाल अकुलाएँ । बार बार जब कंठ भर लाएँ ॥ 
तब नतेत  भल भाव गति गाएँ । बयस करहीं  कह कही बुझाएँ ॥ 
जब बालक को देखते हुवे पालक व्याकुलित होते हुवे बार-बार गला भर लाते तब वह सम्बन्धी, बालक अवश्य ही स्वास्थ 
वर्द्धन करेगा ऐसा कह कर सुन्दर विचारों का पाठ करते ॥  

भवन खन सयन  आसनदेई । अनुग्रह कर मुख रासनदेई ॥ 
भवन खंड में सयन कक्ष दिया और अनुग्रह पूरित भोजन की भी व्यवस्था की ॥ 

अस बिधि बाल दोलत रहि जीउ मरनि के झूल । 
पर अब देहि रहे नही सर सायक के सूल ॥  
इस प्रकार बालक जीवन मरण का झुला झुलता रहा  । किन्तु सुख की बात यह थी की अब  उसके देह में बाणों की शूल -
सय्या नहीं थी  ॥ 

बुधवार, १ ७ अप्रेल, २ ० १ ३                                                                                          

पोंछत मल बहु कटि भरि छाला ।   देखि पाल दुःख सन्मुख बाला ।। 
काल के फाँस कंठन घारे । नयन मीच सिसु बदनन डारे ॥ 
 मल पोंछते पोंछते कुलाहों में छाले भी हो गए थे । बालक के ये सारे दुःख पालक विवश होकर दख रहे थे ॥ काल का फांस 
था की बालक के कंठ में घेरी लगाए हुवे था शिशु के अयन बंद हो गए थे और उसकी देह निढाल हो चली ॥ 

रोगनु रसरी गल रसे रसे  । परे सिथिल ना बहु कास कसें ॥ 
सिसु सरीर सब सार निचूरे । रोग जुधत भए थकि बहु चूरे ॥ 
रोगाणुओं की रस्सी धीरे-धीरे गले में कसती जा रही थी वह किसी भी उपाय से शिथिल नहीं हो रही थी शिशु के शारीर की सारी 
शक्ति निचुढ़ गयी और वह रोग से जूझते-जूझते थक गया था ॥ 

पद पेटक कर हाड़ न मांसे । धंसे गाल पर पेशी कासे ॥ 
 देउ समऊ को पाल निभाएँ । औषधि भवन निस दिवस सिधाएँ ॥ 
पेर पेट और हाथ में की हड्डियों में बचा धंसे गाल पर की मांस पेशियाँ उभर आईं ॥ पालक दिए हुवे समय को निभाते हुवे 
प्रत्येक दिवस  औषधि सदन जाते ॥ 

रक्त रवन जे तन संचारे  । कहि धावन ते अब हम हारे ॥ 
बर बधुटी गह गोद कुंआरे । जोगि बयस कर धीरजु धारे ॥ 
विचरण करता हुवा रक्त संचार तंत्र भी उत्तर देते हुवे कहने लगा अब हम नाड़ियो में दौड़ दौड़ कर थक चुके हैं वर वधु-वधु, 
बालक को गोद में धरे धैर्य पूर्वक स्वास्थ के प्राप्ति की प्रतीक्षा कर रहे थे ॥ 

पालक नयन नेह कार बालक रहे निहार । 
तिलछ्त हिय  करुनाधार तिरत तोय के धार ॥ 
स्नेह पूर्वक बालक को निहारते हुवे  करुणा के आधार होकर, व्याकुलता में पालक के आँखों से जलधारा प्रवाहित होने लगती ॥ 

गुरूवार, १ ८ अप्रेल, २०१३                                                                                
बालक कभु कभु सुधी सहारे । कोउ पल नयन पलक उघारे । 
मनु कह रहे हम जी हारे  । बहु कातर कर मात निहारे ॥ 
बालक  कभी-कभी ही सुध में होता, कोई पल को ही वह पलकें उठाता बहुत ही कातर दृष्टि से माता को निहाराते हुवे मानो वह 
कहता की हे माता ! अब हम जीवन हार चले हैं ॥ 

रोवहिं सोक कर दोउ पाले । सिसकत बहु  उर लावत लाले ॥ 
रोग दे लाह रोधन मनाएँ । पर मल के कछु मन नहीं आए ॥ 
माता-पिता शोक के विवश होकर रोते और बहुत ही सिसकते हुवे उसे छाँती से लगा लेते ।  रोग को लालच दे कर रुकने के लिए 
मनाते किन्तु मल के कुछ भी मन नहीं आता ॥ 

उर भित ममता बालक चाहे । विपद करक कह काहे काहे ॥ 
पालक सिहरे सोच उसाँसे । कहीं ले जइ न सिसु के साँसे ॥ 
ह्रदय अंतस का ममत्व बालक को चाहता । किन्तु विपदा कठोरता पूर्वक कहती क्यों, क्यों । पालक उच्छवांस लेते हुवे यह 
सोच कर सिहर जाते, कहीं यह विपदा शिशु की सांस न हरण कर ले ॥ 

 रोगानु के सहस बल बाहू । औरउ पासे लंबित लाहू ॥ 
बहुसह बिनय करें कर जोरे । छोरु लाल को पाँ परि तोरे ।। 
रोगाणुओं के बलशाली सहस्त्र हस्त थे वह और भी लम्बे होकर बालक को कसते चले गए । पालक हाथ जोड़ कर बहुत याचना 
करते हुवे कहते तुम्हारे पाँव पड़ते हैं, हमारे लाल का पीछा छोड़ दो ॥ 
  
नगरी नगरी डगरी डगरी लै बाल पाल भँवरे । 
बहु सयन धरे औषधी करे रोग कहुँ न सँभरे ॥ 
गहरर  गहबर  करुना सागर नयनन ते उतरे । 
दोनु कंठ भरि निर्नय करि अब चरनन बहुरै ॥ 
नगर नगर, डगर-डगर बालक को लिए पालक घुमते रहे, आरोग्य सदनों की बहुंत सी  ग्रहण की किन्तु व्याधि का कहीं भी 
रोकथाम नहीं हुई ॥ भावपूर्ण एवं शोक विह्वल होकर वर वधु की आखो से करुणा का सागर उमड़ पड़ा ॥ दोनों ने भरे कंठ से यह 
निर्णय लिया की अब हमें वापस लौट चला चाहिए ॥ 


धरे बयस के आस फेर चरन चहुँओर । 
फिरे जनमन निवास  हो हतास हतस्वास ॥ 
शिशु के स्वास्थ की आशा में चोरो दिशाओं में भ्रमण कर वर-वधु हताश व निराश होकर जन्म स्थान हेतु लौट चले ॥ 

शुक्रवार, १ ९ अप्रेल, २ ० १ ३                                                                                        

चतुर पाख बर नगरी होरे । डरपत कांपत चरन बहोरे ॥ 
जाग करत जब अलसत भोरे । तेहि दिवस रहि होरक होरे ॥ 
महानगरी में कुल चार पक्ष अर्थात दो मास तक अधिवासित होने के पश्चात वर-वधु, इस विचार से डरते और कांपते हुवे कि शिशु को 
कही कुछ हो न जाए जन्म नगरी में वापस लौट आए ॥ उस दिन  भोर, अलसाते हुवे बस जागृत हो रही थी और होली का त्यौहार था ॥ 

पुरजन कहँ भइ  होरि आई । उलस उमग भरि लोग लुगाई ॥ 
पर बर बधु कह  ह्रदय हिलोरे । को बिध सिसु के सांसनु जोरे ॥ 
नगरवासी होली के उत्सव में मग्न होकर कह रहे थे कि भाई होली आई, और समस्त स्त्री-पुरुष उमंग एवं उल्लास से परिपूर्ण थे ॥ 
किन्तु वर-वधु का ह्रदय विचार उठ रहे थे कि किस प्रकार बालक की सांस सहेजें ॥ 

सांझनु बालक बहुत कसकाए ।रोगन आरति बदन  दरसाए ।।
मात दिसत बहु बिलखत रोई । गहन राति भुज सिरु धरि सॊई ॥ 
साझ के समय बालक बहुत ही तड़प रहा था मुख पर रोग जनित कष्ट दर्शित हो रहा था  ॥यह देखकर माता बिलखते हुवे रोते हुवे 
शिशु का सर अपनी भुजाओं पर रख कर देर रात में सोई ॥ 

दिनु कांत जूँ  द्योतिस दाने । पाखि कलरव कह भए बिहाने ॥ 
उयस मात जब बाल सँभारे । बिमोचित कंठ मुख चित्कारे ॥ 
सूर्य ने जैसे ही ज्योति का दान किया पक्षियों ने कलरव करते हुवे कहा भोर हुई जागृत होकर माता ने जब  बालक को सम्भाला तो 
मुख से तीव्र रुदन चीत्कार का उद्घोषण हुवा ॥ 

भूत प्रभंजन कार भव सूल सिन्धु के पार । 
निकस देह जंजार बिमुकुति पंथ प्रान चरे ॥ 
अनिल,अनल, अवनि, जल और आकाश  से युक्त पंचतत्व से विघटित शिशु के प्राण, इस संसार सागर के भौतिक दुखो को पार 
करते हुवे, देह रूपी जंजाल से निकल कर मुक्ति मार्ग पर प्राण चलायमान हुवे ॥   

 आए पवन के झौंक ते पोथी दिये उड़ाए । 
आए काल के धौंक ते पत पत दिए बिथुराए  ॥ 
वायु का एक झोंका आया और जीवन ग्रन्थ उड़ा ले गया । काल की तीप्त वायु बही और सांस रूपी पृष्ठों को बिखरा दिया ॥ 

काल ने फूंक मारि के दीपक दिए बुझाए । 
पालक भवन अटारि पै गहन अँधेरी छाए ॥ 
काल ने फूंक मार कर दीपक को बुझा दिया पालक के भवन खंड में गहन अन्धकार छा गया  ॥ 

संवत दू सहस छप्पन पावत पाल सनेह । 
चैते कृष्ना एकम दिन तज्यो बालक देह ॥ 
संवत २०५६  के चैत्र मास के कृष पक्ष की  प्रथम तिथि को, पालक का स्नेह प्राप्त करते हुवे बालक ने अपने प्राण 
त्याग दिए ॥ 

शनिवार, २ ० अप्रेल, २ ० १ ३                                                                                

नौ मास दोइ बासर धारे । बाल बयस मह बाल सिधारे  ॥ 
पीर असक सक उरसक भीते । मानहु जस एक जुग ही जीते ॥ 
नौ माह और दो दिन की अवधि लिए  बाल आयु अवस्था में ही शिशु का देहावसान हुवा । ह्रदय ने असहनीय पीड़ा को इस प्रकार 
सहा कि यह बाल काल जैसे एक युग के समान हो गया  ॥ 

पुत  प्रसूत  भइ पुत हीना । आजु हिया धरि धीर कहीं ना ॥ 
बिलपत बालक कंठ लगाई । उर बिदर जस बिद्रित बदराई ॥ 
आज पुत्रवती माता का ह्रदय पुत्र हीन होकर धैर्यहीन हो गया, वह बालक को कंठ से लगा कर रोती बिलखती रही, उसका ह्रदय 
ऐसे विदीर्ण  हुआ जैसे कही कोई जल की बदली विद्रित होती हो  ॥ 

घारे घन कन नयन पपोटे । रहे बाँधि जे बहु दिन ओटे ॥ 
धारि धार रूप  धारासारी । दिसत  लघुत सरि सागर बारी ॥ 
जिन जल बूंदों को बहुत दिन से पलकों ने बाँध कर रखा था ।  आज वो घनी बूंदें पलकों पर उतर आईं और लगातार बहती हुई 
महा वृष्टि के रूप में परिवर्तित होते हुवे एक लघु सागर जल के स्वरूप  में संचित होती दिखाई देने लगी  ॥ 

घनबर रस धर बाहन बादे । लागे लघुतम घन के नादे ॥ 
कँह जनन उमग भवन छलकाए । कँह मरन विलाप धुनि निकसाए ॥ 
माता का मुखड़ा स्थिर होकर हथौड़े के प्रहार के जैसे शोर करने लगे इअके आगे बादलों  की गर्जना भी निन्दित हो रही थी ॥ कहाँ 
 तो भवन में  शिशु के जन्म के उत्सव का उल्लास छलक रहा था, और कहाँ  मृत्यु के विलाप ध्वनी निकल रही है ॥ 

को दिन जब बर भूषित नारी । आइ भवन जनु जात  तिहारी ॥ 
को दिन अब कर कंठन भारे । बहुत बिलापत बधुटि सँभारे ॥ 
वह भी कितना शुभ दिन था कि जब हिहू जन्म के उत्सव पर उत्तम विभूषण युक्त होकर नारीयाँ भाव में चली आ रहीं थीं और एक 
यह दिन जब नारीयाँ कंठ भारी करके  बहुत ही विलाप करती हुई वधु को संभाल रही थी ॥ 

को दिन रस सुर मंगल रागी । आजु अमंगल  राग अरागी ॥ 
को दिनु बालक बहु झुरे झुराए । आजु ले सव उड़ने  उड़ाए ॥ 
एक वह भी दिन था भामिनी रसमय, सुन्दर स्वर युक्त, मंगल गीत गा रही थी, एक आज का दिन है कि यही भामिनी स्वर हीन 
अमंगल गा कर रहीं थी । एक वह दिन था जब बालक को गोद ली सबजन झुला रहे थे और आज का यह अशुभ  दिवस की सब 
उसे शव आच्छादन उड़ा रहे है ॥ 

को दिनु जब बहु फुरि फुरबारी । चारु चँवर अट  दुअर अटारी ॥ 
आजु  बिलापत अटारि डारी ।  सोक करष कर संतत हारी ॥ 
वह भी एक शुभ दिवस था कि  भवन की फुलवारी प्रफुल्लित थी, छज्जा और द्वारी  झालरों से अटी हुईं थीं और आज का यह अशुभ 
दिन है कि अटारी और पुष्प डालियाँ शोकाकुल होकर विलाप करती हुई दुःख के ताप से कांटेसे युक्त हो गईं है ॥ 

ताप सागर ते तपकर सोक के सरयु छाए । 
बिलपत धरनि सन अम्बर लोचन जल बरसाए ॥ 
दुःख के सागर से तापित होकर शोक की बदली आच्छादित हुई धरती के साथ आज अम्बर भी विलाप कर आखों  से जल की वर्षा 
कर रहें हैं ॥ 

रविवार, २ १ अप्रेल, २ ० १ ३                                                                                
सुतदा बत्सर गहि गोदी कर । कहत दुलारन धरु पयस अधर ॥ 
भए दुखित बचन बैने परिजन । सुत  जननी के धरनी के तन ॥ 
पुत्रवती माता, वात्सल्य रस में अनुरक्त होकर बालक को गोदी में पकडे कह रही है की मेरे दुलारे दूध पियो दुखमय होकर परिजनों 
ने माता से कहा पुत्र जाई का है और तन अब पार्थिव अर्थात धरती का है ॥ 

सिस पितावन माँगे लैजावन । माता रही पर लसित लालन ॥ 
अंबांब भर अंक रहित कर । बालक हठ धर छीने प्रियबर ॥ 
और शिशु को पितृ उद्यान में ले जाने हेतु माँगने लगे । किन्तु माता लाल को गोद में चिपकाए रही ॥ आँखों में जल भर कर और 
गोद को रिक्त कर प्रियवर ने बालक हठ करते हुवे छीन लिया ॥ 

करुनोदक के उदधि उछाही । तात उरस ले सिस अवगाही  ॥ 
सोक बिकल बल उदमदनै तँह । भुज दल अंतर  धरे पितामह ॥ 
करुणा जल का सागर उमड़ पडा और पिता बालक को ह्रदय से लगाए उस सागर में  डूबते चले गए । जब शोकाकुल होकर सुध 
बुध गवाँ बैठे तब पितामह ने बालक के पार्थिव शरीर को गोद में भर लिया ॥ 

न कोउ सिबिका न कोउ साधन । बाल गहे एक सव आछादन ॥ 
गोद भरे सव सयन लई जाए । सव गह भवन सुख सयन सुलाए ॥ 
न कोई अर्थी न कोई शास्त्रोक्ति बालक केवल एक शव आच्छादन से आच्छादित किये गोद में भरे शव स्थान ले चले । और शव 
भवन की सुख-सयनिका में सुला दिया ॥ 

निरखत कोनइ कोर माइ बिकल रही न थोर । 
बाल गयउ किस छोर भरे उरस पयसन बहुत ॥ 
समस्त कोनों में सभी कगारों में देखते हुवे माता बहुंत ही व्याकुलित होकर पूछने लगी । बालक कहाँ गया ? मरे वक्षो में बहुत 
ही परम रस उतर रहा है,वह पिता क्यों नहीं ॥ 

आसित बासित थोर आसन बासन सब छोर । 
बाल गयउ किस ओर पथ निहारे नयन बहुत ॥ 
थोड़ा ही बैठा है थोड़ा ही सोया है वह आसन स्थान छोड़ कर किस दिशा में चला गया । माता उसके आने की बहुत ही प्रतीक्षा कर
रही है ( वधु ने विलाप करते हुवे ऐसा प्रलाप किया ) ॥ 

रे भोरी तव बाल कर कवल लै गई काल । 

तनिक चेत संभाल कँह प्रियजन रोऊ  बहुत ॥ 
तब प्रियजनों ने बहुंत हो रोते हुवे कहा अरे अबोध ! तेरा बेटा  काल के ग्रास हो  गया। अचेतन मस्तिष्क को चेत में लाते हुवे 
विवेक को जगा ॥ 

सोमवार, २ २ अप्रेल,२ ० १ ३                                                                                  

तनिक बेर मँह चेतस लाई । छिन छबि उर पर छीतीछाई ॥ 
मेघ पुहुप मुख मंडल माले । नयनोतर धरे धरनि भाले ॥ 
थोड़ी ही देर में वधु की चेतना जागृत हुई । एक  बिजली सी गिरी और ह्रदय को विदीर्ण कर गई  ॥ मुख मंडल  पर घने बादल छा 
गए , नयनों से पुष्प स्वरूप जल माल धरती के माथे पर उतारते चले गए  ॥ 

जनम दाए  दुःख करि बहु भाँती । बाल बिथुर  भै बिदरित छाँती ॥ 
कलप अलापत आरति राधी । दुःख पूरित मुख बादन  नादी  ॥ 
जन्म दात्री बहुत प्रकार से शोक कर रही थी । बाल-वियोग से उसका ह्रदय विदीर्ण हो उठा आह का अलाप करती पीड़ा से विकलित 
होकर मुख से शोक पूर्णित कथन कहने लगी ॥ 

सोचत सुमिरत बाल मुकुन्दे । कहति चरित छबि मुखारविन्दे ॥ 
बखत ऐसन दुह दिन दरसाए । को कर कहुँ कर सके न सहाए ॥ 
बालक का स्मरण और ध्यान करते हुवे उसके कमल के समान मुख की छवि का गुण गान करती ॥ समय ने ऐसा कठिन दिवस 
दिखाया जो किसी भी प्रकार से कही से भी सहनशील नहीं था ॥ 

रोग सरन करि मरनिहि काले । लै गइ  पासत कंठन  घाले ॥ 
कह प्रियजन  जग बिधि के मंचन  । जिउत मरब सब बिधित प्रपंचन॥ 
रोग के प्रसस्त किए मार्ग पर मृत्यु आई और बालक के कंठ में फंदा डाल कर ले गई ॥ वधु के ऐसे वचन सुनकर प्रियजनों ने कहा: -- 
यह संसार विधाता के कार्य कलापों का क्षेत्र है जीवन -मरण सब इसी के द्वारा  रचाई हुई माया है ॥ 

सोक जुगत भए पहर अढ़ाई । रँह  गहजन बहु धीर बँधाई ॥ 
रहे जुरे जे सकल समुदाए । साद सरनय निज भवन सिधाए ॥ 
शोक युक्त होते  हुवे  दोपहर हो आई । गृहजन बहुत ही ढांडस बंधा रहे थे ॥ समुदाय के जो पुरजन एकता हुवे थे वे दुखित होते, अपने 
अपने घर को प्रस्था किये ॥  

कह चले जन कोमलि वय दारक दारक दाप । 
दु हृदया भै एकल ह्रदय गहे सोक संताप ॥ 
ये पुरजन  कहते जा रहे थे कि, एक तो वधु की यह बाल अवस्था, उसपर बालक का यह विदीर्ण  करता हुवा  दुःख । जो वधु बालक 
के साथ दो ह्रदय की हो गई थी वह अब एकल ह्रदय में बालक का यह दुःख गहन किये है ॥ 

मंगलवार, २ ३ अप्रेल, २ ० १ ३                                                                                   


नैनन निर्झरि रूधत  नाही । दिन मह अँधेरि रात समाही ॥ 
बीतत दिवस कहूँ को भाँती । कोउ जुगत उर परे न सांती ॥ 
वधु के यानों की  निर्झरणी थम नहीं रही थी, झरती ही चली जा रही थी । ( संताप के कारण ) इवस म ही अधेरी रात्रि का समावेश 
प्रतीत हो रहा था । किसी भी प्रकार से ह्रदय शान्त नहीं हो रहा था ॥ 

डूब पहर दुज रयनि रुराई । अरु कुल दीप बुझावत आई ॥ 
देखि बहुस दिन पर अस नाही । भयऊ बधु के  दुःख दुरगाही ॥ 
पहर समाप्त हुवा दिवस रूपी एक रात्रि का अवसान हुवा तो कुल का दीपक बुझाते हुवे दूसरी रात्रि रुलाने आ गई ॥ वधु इ बहुत दिन
 देखे थे किन्तु ऐसा दिवस नहीं देखा था वधु को ऐसा दुःख आन पड़ा  जिसको नियंत्रित करना कष्ट साध्य था ॥ 

पुनि प्रियजन बधु कह समुझाईं । जिउ जावन सह जाए न जाई ॥ 
टारे न टरत रचे बिरंची। मरनिहि माया बहुत प्रबंची ॥
प्रियजनों ने वधू को पुन: समझाया, जाते हुवे जीवन के साथ जाया नहीं जाता । विधाता ने जो रच रखा है उस कोई चाह कर भी 
परिवर्तित नहीं कर सकता ॥ मर की जो यह माया है वह बहुत ही कौटिल है ॥ 

व्यथित बिथकित बधु लै जाईं । सयन सदन पलकन पौढ़ाईं ॥ 
बारि नयन भर सदन बिलोके । बाँधी हिचकी मुख रो रो के ॥ 
व्यथित एवं दिन भर की थकी वधु को ले जाकर प्रियजनों ने सयन कक्ष में पलंग पर लेटा दिया ॥ वधु आँखों में आश्रय भर कर 
कक्ष को निहारती रही और मुख में हिचकी बाँध कर रोती रही ॥ 

तहही सदन तहहीँ सयनिके । तहही बसित तहहीँ बसनिके ॥ 
तह हीं छाजन तह हीं छयनिके । तहहीं बसति लोगन बसति के ॥ 
वही कक्ष है और वही पलंग है । वही बसावट है और वही वस्त्र आवरण हैं ॥ वही छज्जा है, वही छाया है । वही वस्ती है, और वस्ती 
के लोग भी वही हैं ॥  

तहहीं असन रहे न असनिके । बस चिन्ह चरन  रहे चरनि के ॥ 
तह्ही पाल तहहीं पालिके । रहे न बाल सब रहे बसिते ॥ 
वही भजन है किन्तु भोजन करने वाला नहीं है गमन करने वाले के केवल चरण चिन्ह ही शेष थे । वही पिता तथा माता भी वही 
थी केवल बालक ही नहीं था शेष सभी वहीं के वहीं थे ॥ 

तहह़ी केलि केल लहे रागिन रंजन रंग । 
जागत पंथ जोग रहे केलन बेली संग ॥   
गात बजात उत्सव करते खेल खिलौने भी वही थे जो  क्रीडा करने हेतु अपने साथी के साथ की प्रतीक्षा कर रहे थे ॥ 

बुधवार, २ ४ अप्रेल, २ ० १ ३                                                                                 

कंकनी कल किंकनी जूथे । कंठ मनि नभ मंडल गूंथे ॥ 
कलरव करि परिवादिन वादे । कंठ कलित कटि नंदन नादे ॥ 
घुंघरुओं के गुच्छों से युक्त मोहनी करधनी , गगन मंडल को गुंथे कंठ मालिका बालक के कंठ एवं कति में सुन्दर ध्वनी करती 
हुई वीणा के जैसे मधुरस्वर भरती ॥ 

गहज गह तज गयौ बहु दूरे । सुख सयन सब गहनहि कूरे ॥ 
तरस परस तन झंगुर झोरे । बालक हीन हले हिंदोले ॥ 
कुल दीपक वस्त्र आभूषणों सहित समस्त सुख साधन को त्याग कर बहुंत दूर चला गया ॥ चँवर भरा झुगुला बालक को  स्पर्श 
करने के लिए तरस गया, पालना बालक के बिना ही  हिले जा रहा था ॥ 

जे चौतनि चढ़ि मस्तक ऊपर । क्रंदन करि माता के कर धर ॥ 
बिधिहि काल कर बिधि कर जन्मे । जने ते मरनि रहि को खन में ॥ 
जो चौकोर शिखावरण शिखर पर चढ़ी हुई थी वह माता का हाथ पकड़े क्रंदन कर रही थी ॥ विधाता ही मृत्यु कारित करता है और
 विधाता ही जन्मदाता है । जिसने जन्म लिया है, चाहे वह कही भी हो उसकी मृत्यु अवश्यम्भावी है ॥ 

सब जीउ बँधे भव बंधन में । सब जीवन काल के फंदन में ॥ 
ते मरनिहि पर बहु दुखदाई । जे पूरित बय पूरब  आई ॥ 
सभी जीव जीवन मरण के चक्र से बंधे हैं । सभी जीव का जीवन काल के नियंत्रण में हैं ॥ किनती वह मृत्यु बहुंत ही दुखदाई होता 
है, जो आयु पूर्ण से पहले ही अर्थात अकाल मृत्य होती है ॥ 

सात समुद के लै मसि धानी । सकल जगत की सरबस बानी ॥ 
गगन अबरन धरनि के पाती । दसा बधुटि की कही न जाती ॥ 
वधु की ऐसी दशा है कि, यदि सात समुद्र की मसि लें, और संसार की समस्त भाषाओं को लें, गगन का आवरण एवं धरती के पृष्ठ 
लें तो भी उसका वर्णन नहीं हो सकता ॥ 

जे सुजाता जात जने  बरे जननी उपाधि । 
जनम जातक हीन धरे मनहु गहित को आधि ॥ 
जिस कुल सुन्दरी ने पुत्र को जन्म दिया और माता की उपाधि का वरदान प्राप्त की ॥ अब जन्म जातक से रहित होकर मानो उसने 
कोई शाप ग्रहण कर लिया है ॥ 

गुरूवार, २ ५ अप्रेल, २ ० १ ३                                                                                             

तनिक बखत मँह लिए आहारे । सजन चरन सद सयन पधारे ॥ 
कहत मूक मुख सन्मुख ठाढ़े । दोनउ के लोचन जल बाढ़े ॥ 
थोड़ी ही देर में हाथ में भोजन लिए प्रियतम, सयन सदन में प्रवेश किए और मूक होकर भी बहुंत कुछ कहते सामने खड़े हो 
गए । प्रियतम एवं प्रिया दोनों ही की आँखों में जल धारा प्रवाहित हो रही थी ॥ 

भरे घोर घन नयन अगासे । बधू बाल चरितावलि भासे ॥ 
कहि क्रन्दत मम दीपक नाई ॥ आए काल बहि जोत बुझाई ॥ 
आँखों के आकाश में घन घोर घटा घिर आई । वधु  बालक की बाल लीलाओं का बखान करने लगी ॥ वह क्रंदन करती कहने 
लगी मेरा बालक कुल का दीपक ही था । काल ने आकर उसके जीवन की ज्योति बुझा दी ॥ 

कहे पिया बहु  कर कठिनाई । बिधि मोहनि एहि भाँति बनाई ॥ 
नयन सयन तन असन चहाहे । जिउतै ह्रदय चाहे न चाहे ॥  
तब प्रियतम ने बहुंत ही कठिनाई से ये कथन कहे की विधाता ने इस माया को इस प्रकार रचा है कि दुःख हो या सुख आँख 
नींद चाहती है और शरीर भोजन चाहता है, चाहे ह्रदय जीना चाहे या न चाहे ॥ 

कहि बधु जे भुज दल लाहे । तेहि तनुज बिधि लै गए काहे ॥ 
पुनि कह पी एहि मोहन बंचे । तबहि बिध तेहिं कहत प्रपंचे ॥ 
फिर वधु ने कहा किन्तु ये बाहें चाहती थी उस बेटे को विधाता क्यों ले गए । तब पीया ने पुन: कहा इसलिए ही तो मोह को धूर्त
 कहते है और विधाताकी इस संरचना को सांसारिक जाल कहते है ॥ 
  
ऐसेउ कह बुझात पिया धरे अधर दो कौर  । 
कवले लोचन कण प्रिया कर आँचर के छौर ॥ 
इसी प्रकार समझाते-बुझाते प्रियतम ने प्रिया के अधर में दो कौर रखे । जिन्हें प्रिया ने अपनी आँखों के अश्रु को आँचल से पोंछते 
हुवे ग्रहण किया ॥  

शुक्रवार, २ ६ अप्रेल, २ ० १ ३                                                                                  

चित धरे बधु  लाल की लोई । नीर बहावत रोवत सोई ॥ 
निद्रा नयन बहु सपन सँवारी । निरखत बालक देइ हुँकारी ॥ 
चेतना में बालक की सुदरता धारण किए वधू रोती आंसू बहाती हुई सो गई । निद्रा युक्त होकर स्वप्न में बालक का स्मरण हो आया । 
जहां बालक को देखते ही वधु उसे पुकारने लगी ॥ 

चारु भेस भर लावन लोके । देखि मात बहु मोहित होके ।। 
धरे दांडिक पाल झुलावै । बाल अरुन अम्बर मुसुकावै ॥ 
बालक  सुन्दर वेश भूषा में सुशोभित हो रहा था । जिसे माता बहुंत ही मोहित हो कर पालने की रस्सी को पकडे उसे झुलाते हुवे देखे 
जा रही थी । बालक के लालिमा युक्त अधर मुस्करा रहे थे ॥ 

चारु पदुम कर चरन चलावै । भ्रकुटि नचावत बहुँत सुहावै ॥ 
कंठ मनि बर करधनी धारे । रुर नूपुर झुर खनकन कारे ॥ 
बालक, कमल के जैसे सुन्दर हाथ और चरण को चलाते हुवे भौं को इधर-उधर नचाते बहुंत ही सुहावना प्रतीत हो रहा था ॥ गले में 
वरण किए मणियुक्त आभूषण एवं कति में धारण की हुई करधनी के सुन्दर घुंघरू झूलते हुवे खनक रहे थे ॥  

हुंकृत कर कल कंठन बादै । कंठन कलस कुलीनस नादै ॥ 
नीक नयन सिसु सुधाधारधर। इब को कमलक कल कमलाकर ॥ 
बालक के कंठ से हुंकार की मधुर ध्वनी का उच्चारण ऐसे प्रतीत होता मानो घड़े के कंठ मुख से जल छलकता हुवा निनाद कर रहा 
हो ॥ सुन्दर आँखें और सुधा के पात्र स्वरूप अधर युक्त शिशु जैसे कोई कमल से भरे सरोवर में छूता सा कमल हो ॥ 

आवनु तात ले गोदी भरे । मुद मदनानन बहु केलि करे ।। 
पूछि मात कब चरनन पाही । एक जुग अंसक बयस धराही ॥ 
( इतने में ही) पिता आए और उसे गोद में भर लिया । सुन्दर मुखड़े से युक्त शिशु के साथ बाल क्रीडाएं करते हुवे माता से पूछा कि 
यह कब अपने चरणों से चलेगा ( तो माता ने उत्तर दिया ) जब यह एक वर्ष का हो जाएगा ॥ 

गोद मैं भरि मुख पट धरि अधर पयस  लपटात । 
बिहसति मुख लखति घरि घरि करत मोह सपनात ॥ 
(इस प्रकार)माता बालक को गोद में लिए और उसके मुख को आँचल से ढांके कभी अधर से रस पान करवाती  । कभी वह हंसते हुवे
उसका मुख निहारती और सपना देखते हुवे घड़ी घड़ी उससे मोह करती ॥ 

शनि/रवि , २ ७/२ ८अप्रेल, २ ० १ ३                                                                                      

रयनि गगन सों सौंहनु खाई ।  नखत नभस चष लस दरसाई ॥ 
रयनिहि दै सो बचन निभाई । निद्रा नयन घर सपन रचाई ।। 
रजनी, गगन के सन्मुख प्रतिज्ञा ली थी कि वह चाँद तारे चमकाते हुवे उसके पटल पर दर्शाएगी अत: उसने वह प्रतिज्ञा पूर्ण की ॥
निद्रा ने रजनी को जो वचन दिया था सो वो निभाया और नयन मंदिर में सुन्दर स्वप्न रचाए ॥ 

सौंहँ लैय जे  पयस मयूखे । करीत किरनित खन खन भू के ॥ 
जगन गगन जे कथनन गाँठे । सौर बरन क्रम मंडल साँठे ॥ 
शशी ने भी प्रतिज्ञा ली थी कि वह  भूमि के खंड-खंड में किरणे बिखेरेगी सो उसने भी अपनी प्रतिज्ञा पूर्ण की ॥ गगन ने जग को यह 
वचन दिया था कि वह  बिम्ब प्रतिबिम्ब युक्त सूर्य की परिक्रमा करने वाले नौ ग्रहों, अट्ठाईस उपग्रहों और पिंड आदि के समूह को 
धारण करेगा सो उसने वह वचन निभाया ॥ 

कासित करन जे बचन धराए । उयसि सूर ते कहन्हि निभाए ॥
लय जे सौं सौंहनु  रत्नाकर  । तेहि पूरन करत घनाकार ॥ 
पृथ्वी को प्रकाशित करने का जो वचन सूर्य ने लिया था उदय होकर उसने उस वचन को निभाया । समुद्र ने सन्मुख होकर जो घन 
करने का वचन लिया था सो वो वचन वह घन के भण्डार भर कर पूर्ण कर रहा है ॥ 

धूरि धार जल किरिया कारी । भरि  हरिआरी फुरि फुरबारी ॥ 
साक पात फुर सौंहि उठाई । गंध मंद करी पौ पविताई ॥ 
धूल  ने हाथ में जल धारण कर जो सौगंध ली थी उसे फुलवारी को हरा भरा करके उसे पूर्ण किया । पत्तियों और शाखाओं ने भी सौगंध 
उठाई थी उन्होंने ने भी वायु को सुगन्धित और सुखदायक करके उसे पवित्र किया ॥ 

साथ साथ जे लिए सौगंधे । दायत जीवन सांसन रंदे ॥ 
जगत प्राण प्रभु जगती कारे । जगत सँभारत जग सौंकारे ॥ 
साँसों ने भी उनके साथ ही जो सौगंध लीं थी उसे प्राण वायु बनकर पूरा किया । संसार के प्राण स्वरूप एवं सृष्टि के कारण रूप परमेश्वर 
संसार का भार स्वीकार करते हुवे जग में सवेरा किया ॥ 

सृजन के पूरनित बचन बहु सुख पावत लोग । 
राउ के कहन पूरनन देस बासि रहि जोग ॥ 
सृष्टि के परिपुर्नित वचनों ने लोगों को बहुत सुख पहुंचाया । अब देशवासी राजा द्वारा ली हुई सौगंध को  पूरा होने की प्रतीक्षा कर रहे हैं  ॥   

पनपत पोखर पत पौनारे । चसकत बधुन्ह पलक उघारे ॥ 
नयन सपन जे भेरि चढ़ाई । भोरि पाँ फोरि बिसमाई ॥ 
पद्माकर में पद्मों से पत्र प्रस्फुटित हुवे । टीस उठाते हुवे वधु ने भी अपने पलक पत्र खोले । नयनों पर जो स्वप्न के पिंड बन गए थे भोर 
ने उसे पाँव से फोड़ते हुवे बिखरा दिया ॥ 

जाग उठत करि प्रात स्नाने । पात फूल फर चलि अन्हाने ॥ 
भर जल कन सब नैन झुकाईं । मंद प्रभा रहि मुख पर छाई ॥ 
वधु जाग-उठी और प्रात स्नान कर पत्र पुष्प युक्त पौधों को भी नहलाने चली । वहां सबकी अश्रुपूरित आँखें थी और झुकी हुई थी । मुख 
पर उदासी की छाया थी ॥ 

करून कलित बहु आरति सानी । द्रवित ह्रदय हरि मुख धरि बानी ॥ 
सोक बिकलि हे कोमलि देही । कहाँ बाल कँह सकल सनेही ॥ 
अत्यधिक करुना ग्रहण की हुई और क्लान्ति युक्त वाणी द्रवित ह्रदय से उतर कर मुख पर आ रुकी । शोक से  व्याकुल कोमल देहि वधु
 से सभी स्नेही (पत्र पुष्प शाख आदि)पूछने लगे कि बालक कहाँ है ॥ 

बधु उर परिहर  धीरज के कर  ।  नयनज कन उतरे भू पर ॥ 
समझाउत के जे उर चाही । तेहि सकल बहु बिधि समुझाईं ॥ 
दराज के हाथों से  वधु का ह्रदय छुट गया । और नयन के अश्रु कण धरती पर उतर आए ॥ समझ की जिसके ह्रदय को आवश्यकता 
थी । वही पुष्प पत्रों को बहुंत प्रकार से समझा रही थी ॥ 

मूर जल न घारे तन न सहारे पत पत घनबर खिन्न रहे ।
मूक रही डारी बदन उतारी अँखि पखमन अंभ गहे ॥   

मंद प्रभा छाई कुसुम कुमलाई मुकुत हार परन धरे । 
हरि हरि हरियारी हरि फुरबारी सोक बिकल हरिद भरे॥  
जड़ों ने जल त्याग दिया, वृक्षकोटर शिथिल रहे, पर्णों के मुख कष्ट संकुलित रहे । डालियाँ भी मौन व्रत लिए थीं, उनकी मुखाकृति 
उतरी हुई थी औरपलकें जलमग्न थी ॥ उदासी छाई रही कुसुम खिले नहीं उनहोंने जल स्वरूप मोती की मालाओं को भी दूर हटा 
दिया ॥ हरीभरी हरियाली, प्रफुलित फुलवारी शोक से व्याकुल होकर पीली पड़ गईं ॥ 

जलकन उदर न घारि बधु देत बहु बिनति करी । 
उर भर सोक बिचारि गंधी न रहि मूँद नयन ॥ 
यद्यपि वधु ने उन्हें भोजन ग्रहण करने हेतु बहुत विनती की किन्तु भोजन का त्याग कर और ह्रदय में शोक का विचार धारण किए 
आज फुलवारी खिल कर सुगन्धित नहीं हुई अर्थात शोक विह्वालित रही ॥ 

सोमवार, २ ९ अप्रेल, २ ० १ ३                                                                                          

बाल बिरह घर पहर मलाने । पूरत दिन रतियन अवसाने ।। 
अस दुःख बस दुइ दिवस बिहाने । दिबाकर तीसर दिन अवताने ॥ 
बाल वियोगित गृह के पूर्ण होते पहर दिन और पूरी होती रात दुःख से कुम्हलाई रही ।  इस प्रकार शोक के अधीन दो दिवस बीते । 
फिर दिवाकर ने तीसरे दिन को प्रस्तारित किया ।। 


दिन दिवस तिसर पहर प्रथमेतर । प्रथानुकूल गृह के बिरध बर ॥ 
बाल द्विज दे न्योत बुलाए । बहु मान करत आसन बैसाए  ॥ 
तीसरे दिन के दुसरे पहर में, पारिवारिक परम्परानुसार घर के बड़े-बूढों ने एक बालक ब्राम्हण को निमंत्रित किया और उसे 
 सम्मान पूर्वक आसन पर बैठाया ।। 

हा बालक मम प्रान पियारे । सुरति मात पु बहुस प्रकारे ॥ 
उदक चमस ते पयस पियाई । देइ  असीस पुत पंडिताई ॥ 

हाय! मेरा बालक प्राण-दुलारा, ऐसा कहकर माता पुत्र को बहुंत प्रकार से स्मरण करती हुई  बाल द्विज को पेय पात्र से दूध पिलाते 
हुवे बहुंत से शुभाशीर्वाद  दी  ।। 


असन बसन धन दे सनमाने ।  करे बिदा धर  मनस मलाने ॥ 
सोक संकुल भए सकल गृहजन । धारा बाहे तातहु  लोचन ॥ 

भोजन वस्त्रादि दक्षिणा से बालक द्विज की  मान-प्रतिष्ठा की और  मन में दुःख उठाते हुवे उसे  विदा करते हुवे  घर के सारे परिजन 
शोक से घिर गए । पिता की आँखों से भी जल की अविराम गति बहने लगी ||

कहि बच्छ कहि बाल कहत माता मोर दुलार । 
बत्सल उरस नयन बहत सुमिरत पय के धार ॥  
मेरा दुलारा, मेरा बालक, मेरा वत्स ऐसा कह कर माता ह्रदय में वात्सल्य प्रेम में डूब गई और माता के नयन एवं स्तन से प्रेम की 
रस धारा फूट पड़ी ।। 

मंगलवार, ३ ० अप्रेल, २ ० १ ३                                                                                

तिस दिन बधु भै बहुँत दुखारी । गवनु सदन सुर बदन निहारी ॥ 
सुत के बत्सल बाउर भोली । मन ही मन गल रुधती  बोली ॥ 
उस दिन वधू बहुंत ही दुखान्वित रही, वह देवालय गई और भगवान की मूर्ति निहारते हुवे, पुत्र के वात्सल्य में  निमग्न होकर उस 
अबोध ने रुंधे गले  से मन ही मन में भगवान से कहा ॥ 

सरल काल कहिं होत कहूँ के । नियती समुझत हृदय न हूँके ॥ 
धर लै तब सब हिय पर पाथर । मानत काल कल्प के  क्रमबर ॥ 
यदि कहीं, किसी की सरल मृत्यु होती है तब ऐसी मृत्यु ह्रदय को इतनी टीस नहीं पहुंचाती, सब इसे अपनी नियति जान कर और 
विधाता की इच्छा समझ कर धर्य पूर्वक सह लेते हैं ॥ 

पर अस कालक कलपन कातर  । धरें धैर अब कौन बिधि कर ॥ 
बधु  अस संतप  बस बौराई । लालन  के सुमिरन उर लाई ॥ 
किन्तु जैसी उस बालक को हुई है ऐसी मृत्यु की कल्पना भी कष्ट दायी है अब किस प्रकार से ह्रदय धैर्य के वश में हो ॥ इस प्रकार 
वधु चित बालक की सुधि को ह्रदय से लगाए संताप के वश में भ्रमित सा हो गया ॥ 

दुखारति धरे चितबत चितते । बधू के पहर पलछन बितते ॥ 
चुपही रहत सोचत सँकोची । सब संसारिक बिषय अरोची ॥ 
इस प्रकार  दुःख एवं आर्त से  उद्धृत ह्रदय लिए वधु के प्रत्येक क्षण एवं पहर बितते । सांसारिक विषयों से अरुचित रहते हुवे 
संकुचित सोच के सह, वह चुपचाप रहने लगी ॥ 

जे सुर सुन्दर सदन बहि  सरस सरित सिंगार । 
ते सोषित सुर ताप लहि रूखी रस की धार ॥ 
जिस देव तुल्य सुन्दर सदन में श्रृंगार रस की सरिता बह रही थी । उसे  दुःख के सूर्य ने शोषित कर लिया और वह रस की धारा 
सूख गई ॥ 

भरि मन मैं बैराग परिहर सकल रंग राग । 
रहत लाल के लाग रमनी रयनी जागती ॥
मन में वैराग्य भर समस्त प्रेम प्रसंगों को त्याग कर, बालक के प्रेम में अनुरक्त हुई, वह सुन्दरी रातों को  जागती रहती ॥ 



  
   









Monday, April 1, 2013

----- ।। सुक्ति के मनि 5।। -----

बन खन आँगन नयन  अम्बारी । मनहरि चौलरि चाँवर घारी ॥
बर बरन भीति चारक रंगे । पहन भवन चौपत सारंगे ।। 
भवन के खंड, आँगन,उपवन और छज्जे- झरोखे, मन को हरने वाली चतुर लडियो की झालरों से सुशोभित हुई ॥ 
 भित्तियों को वर्णकार ने श्रेष्ठ  रंगों से रंगा, इसके पश्चात भवन ने परत दार  बहुरंगी वस्त्र आवरण धारण किये ।। 

चरन चरन पर अल्पन कोरी ।देहरि दोहरि चित  रंगोरी ॥
परिजन सम सुम सींच सुगंधे ।  पाहुन अगहुन अगुवन वन्दे ॥
पद-पद पर अल्पना उकेरी गईं । इहली पर दो परतो वाली रंगोली की चित्रकारी की गई  ।  पारिजन  के समान कुसुम भी 
सुगंध सारे आगे बढ़ बढ़ कर अतिथियों की अगवानी कर नमस्कार करने लगे ॥  

आए नारि भर सुन्दर सारी  । कंध कूर उर आँचर धारी  ॥
ता सँग नर अभरित बर भेसे । मनहु भए नागर अवध देसे ॥
नारियाँ ह्रदय और कंधे पर आँचल की धारियाँ समेटे सुन्दर साडी पहन कर आईं ॥ उनके साथ सुदर वेश से आभूषित हो कर
पुरुष ऐसे लग रहे थे मानो ये अयोध्या के निवासी हों ॥ 

कन  धरि धुनि कल रव कर नाना । बाज ढोर घन घोर निसाना ॥
कंठन बल कल कोकिल बाने । भामिन गावहिं मंगल गाने ॥
विभिन्न प्रकार की मधुर-स्वर एवं ध्वनि कानों में शब्दमान हो रहे है । बादलो के गर्जन के समान मृदंग और ढोल बज रहे हैं  । 
कोयल के जैसे मधुर कंठ से स्त्रियाँ मंगल गीत गा रही हैं ॥ 

आजु भवन पूरित रीति  भरे न रागनि रंग । 
छरक आ गिरे बट बीथि पुर भरपूर उमंग ॥ 

आज भवन रीति आचार से परिपूर्ण हैं, हर्ष और आनंद भवन में समाहित नहीं  हो पा रहा वह उछल उछल कर बाहर गिर 
 रहा है जिससे नगर के गलीयो के मार्ग में भी उल्लास से भर रहे है ॥ 

 मंगलवार, ०२ अप्रेल, २०१३                                                                               

चारु चँवर बहु चटक चोटिके । कारू असन मनु धनब आ टिके ॥ 
पहने  बधू  सिंगार सजाए । बरे बिरध कर कूप पूजाए ॥ 
सुन्दर झालरी युक्त गहरे रंग का लहँगा और उस पर कार्य ऐसा मानो आकाश अर्थात चढ़ सूर्य तारे सभी टांक दिया गय हों 
को पहन कर वधु ने भूषण भरे । फिर बढ़े वृद्धों ने कूप  पुजवाया ॥ 
 पर बधु के मुख लघुता छाई  । जस तस कर पूजन निपटाई ॥ 
पुनि सिसु तन ज्वर जोर जराए । भूर पयस पय देही गिराए ॥ 
पर  वधु का मुख उदास था ( श्रृंगार से उत्पन तेज नहीं था) उसने जैसे तैसे पूजा समाप्त की । क्यों की  शिशु को पुन: ज्वर 
हो गया था उसने  दुग्ध पान  करना छोड़ कर उसकी देह लस्त हो गई थी ॥ 

जन ते सिसु रहि बहु मल कारे । एहि कारन तन भार न घारे ॥ 
रुधे न मल करि बहु उपचारे । सिसु रोग  रुधिर आमासारे ॥
शिशु जन्म से ही बहुंत अधिक उत्सर्जन करता था यही कारण था की उसका भार नहीं बढ़ रहा था ॥ वधु ने बहुत से उपचार
 किये किन्तु मल रुके नहीं । और उसे मल के साथ रुधिर भी आने लगा  जिसे आमासार का रोग कहते हैं ॥ 

साद सरीरन सरिता धारे । तपित रुधिर रस नस नस जारे ॥ 
मात पिता पद चाकर घारी । एक घर ते एक बैद अटारी ॥ 
यह रोग शरीर को पीड़ा पहुंचा कर अत्यधिक मल कारित करता है । और शरीर में ज्वर उत्पन्न कर रुधित को जलाता है ॥ 
उपचार हतु माता पिटा के पाँव में चक्र जैसे हो गए । एक पाँव घर में तो एक वैद्य के द्वार में फेरी लगाते ॥ 

पेख पुतक तन पीर तात  मात के जिय जरे ॥ 
कभु पोंछि नयन नीर कभू लाल करि निर्मल । 
पुत्र  की पीड़ा को देखकर माता पिटा का ह्रदय जलता ह्रदय में आरति रख कर पीड़ा वश वे कभी आंसू पोछते कभी शिशु को 
निर्मल करते ॥ 

बुधवार, ०३ अप्रेल, २०१३                                                                                                  

देखे बैद कारन न चिन्हे । लाख लखन लिख  औषधि दिन्हें  ॥ 
त्रसत लसत सिसु  ताप अधीना । रोग ग्रसत तन भए पंच दिना ॥
वेद्य ने परिक्षण किया किन्तु रोग का कारन ज्ञात  नहीं कर पाए । परन्तु  लक्षणों को देखकर आषधियाँ लिख कर दे दीं ॥ 
ज्वर शिशु को अपने वश में करके व्याकुलित किये जा रहा था ।  रोग की पीड़ा सहते  शिशु को पांच  दिन हो गए ॥ 

कभु कहँ तप बस दो हीं दिन के । तात मात हारे गिन गिन के ॥ 
तपत भयऊ दस दिबस ऊपर । धरे अधर सिर सीतर कापर ॥ 
वैद्य कभी कहते ज्वर दो दिन में ठीक हो जाएगा । और पालक स्वास्थ वर्द्धन की प्रतीक्षा कर के थक जाते ॥ 
ऐसे ही ज्वर से जलते और सर पर ठंडा कपड़ा रखे शिशु को दस दिवस से ऊपर हो गए । 

जब दुःख आपन ह्रदय ब्यापे । तबहि जानें तेहिं संतापे ॥ 
फिर तौ सुरतै कुल बिस्वेसे । रहे न सेष बिष्नु महेसे ॥ 
दुःख जब अपने ह्रदय को दुखित करता है तब ही उसकी टीस का अनुभव होता है ॥ फिर तो सार कुल देव 
स्मरण हो आते हैं । क्या विष्णु क्या महेश, कॊइ भी शेष नहीं रहते ॥ 

कटे दिबस बहु कसकन कारे । एक एक कर भए सप्तक चारे ॥ 
तप उतरे पर मल न सुधारे । दै औषधी बहु बिधि कारे ॥ 
दिन बहुंत कठिनता से बीत रहे थे । एक एक कर एक मॉस का समय हो आया । ताप तो उतर गया किन्तु मल 
की संख्या न्यून नहीं हुई । वेद्य-विधा के साथ औषधियां तो बहुंत सी दी थी  ॥ 

तप तरे पर भरे तनिक गौर कर्पूर काय । 
खिले नयन नीरज नीक नीरद मुख मुसुकाए ॥ 
ताप उतरने के कुछ समय पश्चात शिशु का कर्पुर के सरूप गौर शरीर थोड़ा भरा । उअसकी कमल जैसी आँखें चमक 
उठी और दन्त रहित अधरों पर मुस्करा उठे ॥ 

गुरूवार, ० ४ अप्रेल, २ ० १ ३                                                                       

बयस बयस कर बालक साँसत । असन पयन पै मुख लै रासत ॥ 
पूरे चातुर ऊपर मासे । अजहुँ केलि कर बालक हाँसे  ॥ 
रोग की यंत्रणा से मुक्त होकर स्वास्थ वर्द्धन अवस्था में अब शिशु दुग्ध रूपी भोजन को रूचि पूर्वक ग्रहण करने लगा ॥ 
आयु अवस्था चार महीने से ऊपर हो गई । अब बालक क्रीडा कारित कर हंसने खेलने लगा ॥ 

बाल चरन अस चर संचारे । जनु कोउ रथ के चक्रक चारे ॥ 
करत मोहक भंगिमन अंगे । अलटे पलटे पाल पलंगे ॥ 
छोटे छोटे पैर ऐसे चलते मानो कोई रथ का पहिया चला रहा हो ॥वह अब मनोहारी चेष्टाएं करने लगा पलंग रूपी पालने
 में उलटने-पलटने लगा । 

अंग अंग भू मर्दनी माए  । पालि पालि लै पाल  खेलाए ॥ 
लसित ललित मुख मात निहारे । च चकारे कर चक चौकारे ॥ 
माता पुत्र के अंग मलहारती और पिता पालने से उठा कर गोद में खिलाते ॥ उसके चमकते सुन्दर मुखड़े को निहारती 
हुई माता च च के चकारे ले कर चकोर के समान चकित लक्षित होती ॥ 

भए पीठ बले तहँ कर पेटे । झोल झगुलि लंगोट लपेटे ॥ 
चुभर चुभर कर कस कै मूठे । ले रस चुषके चबर अँगूठे ॥ 
पहल पीठ के बल फिर उदर पर फिराकर लंगोट लपेटती  और झालरदार झगुला पहनाती ॥ चुभर-चुभर की ध्वनि कर  
शिशु मुट्ठी कसके  अंगूठा चूसते हुवे उसका रस लेता ॥ 

बल बालक बलकाए जनु अम्बर बाल मयंक । 
माँ बलिहारी जाए बल कर करज माथ धरे ॥ 
बालक उत्साह पूर्वक ऐसे करवट लेता मानो आकाश में उदय होता चाद करवट ले रहा हो । माता निछावर होती उंगलिया 
वार कर माथे पर रख लेती ॥ 

कभु धर पयस पियाए ढाँक अम्बर भरे अंक । 
बछुवन दूध चुमाए जनु गौ कोउ साथ करे ॥ 
कभी वह गोद में भरे कपड़ो से ढंके शिशु को प्रेम रस का पान करवाती ऐसी प्रतीत होती मानो कॊइ गाय के साथ बछड़ा 
दुग्ध पान  कर रहा हो ॥ 

शुक्रवार, ० ५ अप्रेल, २ ० १ ३                                                                                          

किलक किलक धर मुख भर हूँ हे । कुँवर कुतूहल कल कौतूहे ॥ 
कभु कोल मँह महि तात गाहे । कभु कला कर गह मातु माहे ॥ 

मुख से किलकारी कर हूँ हां करते बालक की लीलाएं बहुंत ही कुतूहलयुक्त थी ॥  कभी वह पितामह की गोद में कभी 
मातामह की गोद में मनोहारी क्रीडाएँ करता । 


कभु तौ सब जन एक टक ताके  । पालन सोवन कभु मुख बाँके ॥ 
झरि गए सब बल कुंतल कारे ॥ सिरु अम्बर बर चाँद निकारे ॥ 
कभी वह सभी प्रियजनों को अपलक देखता कभी पाले में श्या की चाह रखते अंगड़ाई लेता ॥ आर घुंघरालू केश झड 
चुके थे और सिर पर सुंदर चाँद निकल आया था ॥ 

सबजन बीच  मात पहिचाने । जोर रुदन अब मांगे दाने ॥ 
इत उत जावन त नयन नचाए । दरसत नीरदन बसन डसाए ॥ 
सभी जनों क बीच में वह अब माता को पहचानने लगा । अब वह रो रो कर माता से  दूध मागने  लगा ।। यदि माता इधर 
उधर हो जाती तो आँख नचा कर उसे ढूंडने लगता ।  और माता को देखते ही मुस्कराने लगता ॥ 

लाए तात बहु केलि खिलौने । अल बल कंदल औने बौने ॥ 
बाल गढ़ पाल गद गद गंती । कोउ बल कुँवरी घुँघरु वंती ॥ 
पिता ने भांति भांति के मधुर ध्वनि करने वाले छोटे-बढ़े बहुंत से खेल खिलौने लाकर दिए ॥ छोटे से गढ़पति, गड़-गड़ 
कराती बेलगाडी और कमर को बल देती घुंघरू बांधे राज कुमारी भी लाए ॥ 

बाल कंठन बाल उदर बाल के असन थोर । 
बाल कनक कन कंठ धर बालक भूषन थोर ॥ 
छोटा सा कंठ छोटा उदर, बालक का भोजन थोड़ा सा है । स्वर्ण कण से आभारित बालक के आभूषण भी थोड़े से है ॥ 

बाल कर करज बाल पद बाल के बसन थोर । 
बाल नयन मुख रस पद बालक भासन थोर ॥ 
छोट छोटे हाथ-पैर में, छोटी छोटी उंगलियाँ बालक के वेश-वस्त्र भी थोड़े से हैं ॥ छोटी-छोटी आँख छोटे-छोट होंठ युक्त 
छोटे से मुंह में छोटी सी जीभ, बालक की शब्द ध्वनि भी थोड़ी सी है ॥ 

बालक मति लघु बोध बालक के बालक थोर । 
बाल पन बहु अबोध अंग कोपलि कमल मृदुल  ॥
बालक की बुद्धि में थोड़ी ही समझ है, बालक के सर पर बाल भी थोड़े से हैं । बचपन भी बहुंत ही नासमझ होता है और 
बच्चे के अंगप्रत्यंग कमल की नव पल्लवित पल्लव के समान होता है ॥ 

   बाल शयन बाल पलंग बाल के आधि थोर । 
बाल सदन पालक संग बाल के गाधि थोर ॥ 
छोटी छोटी नींद और छोटा सा पालने मन बालक का शयन स्थान भी थोड़ा सा है । मता-पिता के साथ बालक का छोटा
 सा कक्ष है कक्ष में बालक के पालने इ थोड़ा सा स्थान घेरा हुवा है ॥ 

बालक के दोइ दोने बाल बिछौने थोर । 
बाल बहु केलि खिलौने बाल बिलौने थोर ॥ 
बालक के भोजन के दो ही पात्र है और बिछोने भी थोड़े से हैं ॥ बालक के खेल-खिलौंने बहुंत से हैं किन्तु बालक उन्हें 
थोड़ा ही गिराता-ढुलकाता  है ॥ 

बालक बेलि अलोन बालक के आलख थोर । 
बाल गाल बहु सोन पाल लालक सकल कुल ॥ 

बालक के संगी-साथी रसहीन हैं क्योंकि बालक देखता-समझता थोडा ही है । बालक के कपोल लालिमा युक्त हैं बालक को 
सभी कुल जन गोद में लेकर लाड-दुलार करते है ॥   

शनिवार ० ६ अप्रेल, २०१३                                                                                                 

किन्तु सकल सुख चिन्ह चिन्ह कै । जोगि बिपद ले जावन बिन कै ॥ 
कोल कौमुदी रह दउ दिन के । बाल पीर गहि ओटन तिन के ॥ 
किन्तु सारे सुख साहन को देख-देख कर बिन के ले जाने हेतु विपदा प्रितीक्षा कर रही थी ॥ चांदी का आलिगन दो ही दिन रहा 
अर्थात दो चार दिन ही सुख पूर्वक बीते । बालक की पीड़ा तिनके के ओट में अर्थात छोटे रोग में बडा कष्ट छुपा था ॥ 

 बाल मुकुल की चंचलताई । बदन लाख लोचन के लाई । ।  
बाल कमल की कोमलताई । हरनन बिपदा हरि हरि आई ॥ 
विपत्ति, बालक की चंचलता, मुख की लालिमा और आँखों की चमक,  कमल की पखुडियों के  जैसी कोमलता का हरण 
करने के लिए धीरे धीरे आई ॥ 

रहे बदन जे सुहासन सिन्धु । रद आछादन बिन्दुहि बिंदु ॥ 
सोषन अल-बल  सादन साधे । सिद्धत  राधे रोग बियाधे ॥  

मुख पर जो मृदुल हंसी का सागर था और होठो पर उस सिन्धु की बिन्दुएँ  लक्षित थी ऐसे सिधु को शोषण करने के लिए 
विपदा, क्लान्ति की साधना करते हुवे  रोग व्याधि की सिद्धियाँ प्राप्त कर रही थी ॥ 

कोतुकि  कल दल खेलन खेटे । डाह दहन जल सकल समेटे ॥ 
अब कल कलरव नाद न नादे । पँवर पीर कै बादर बादे ॥ 
इर्ष्या की आग में जलती हुई विपदा ने, बालक के कौतुक उत्पन्न करने वाले, मधुर ध्वनि युक्त, समस्त खेल-खिलौने को 
रौदते हुवे समेट लिया ॥ 

बाल नयन कर पाद, बाल असन भासन थोर । 
उदर गुहा बल बाद, उत्सर्ज कर मल बहुस ॥
छोटी-छोटी आँख, छोटे हाथ पाँव हैं, बालक का भोजन थोड़ा सा है, और थोड़े से बोल हैं । उदार गुहा में वायु बल लेती हुई 
मल का बहुत ही त्याग कर रही है ॥ 
रविवार, ० ७ अप्रेल, २ ० १ ३                                                                                 

ठाढ़ न मल दिन प्रति दिन बाढ़े । बहु जतन करे बाढ़  ठाढ़े ॥ 
बयस अस बदन बोल न आए । बाल पीर कस बोले बताए ॥ 
मल ठहराइ नहीं वे दिन प्रतिदिन बढ़ते गए । वर-वधु ने बहुंत से उपाय किये किन्तु यह बढ़त नहीं रुकी  ॥ 
बालक की आयु अवस्था ऐसी थी कि मुख से बोलना नहीं आता था फिर वह अपनी  पीड़ा को कैसे बताता ॥ 

दुखद बिपद पीडन संकासे । उन्मुख कर सुख परन प्रबासे । । 
तात मात करि रोध  प्रयासे । रहि औषध अरु भगवन आसे ॥ 
दुःख, विपदा और पीड़ा, पास आ गए । मुख ऊँचा कर घमं पूर्वक सुख कहीं और के प्रवासी हो गए ॥ तात -मात 
ने मॉल को रोकने के बहुत प्रयास किए । वे भगवा और औषधि की ही आस रखे थे ॥ 
  अब तौ सिसु उत्सर्जन जितौ । मिलै रुधिर रँग बिरेचन तितौ ॥ 
कौन दिसा को साधन सूले । बेद ज्ञात कर  सके न मूले ॥ 
अब तो शिशु जीते भी मल का त्याग करता उतने में ही दस्तकारी रुधिर का रंग दिखाई देता ॥ कौन सी दिशा से 
और किस साधन से यह पीड़ा उपजी ।  वैद्य पीड़ा के उस मूल को ज्ञात नहीं कर सके ॥ 

पुनि एक दिन कर कालिक केसे । काल कपट के अभरन भेसे ॥ 
कूट बचन बस कुटुम कलेषे । अपबाँचन कछु रहे न सेषे ॥ 
पुन: एक दिन केशों को काला किये, कपट के काले भेष भूषा में मिथ्यावादी वचन के वश होकर कुटुंब में क्लेष 
उत्पन्न हो गया ।कहने हेतु  कोई भी दुर्वाचन शेष नहीं रहा ॥ 

एक तौ बालक दिसा बस दुज दसा बिपर्यास । 
दुखित ह्रदय बधु भइ बिबस गमनी पितु के बास ॥ 
बालक, एक तो  अतिसार की व्याधि से ग्रस्त था दुसरे यह विपरीत दशा आन पड़ी । दुखित ह्रदय से वधु विवश 
होकर पुन: पिता के घर चली गई ॥ 

सोमवार, ० ८ अप्रेल, २०१३                                                                                 

पितु घर दिन दुइ चार सिराए । बाल उदर बल दिसा तरलाए ॥ 
गोद भर माए बैद पहि धाए । पुनि घर औषधी धाम बसाए ॥ 
पिता  के घर रहते दो चार दिन ही हुवे थे कि बालक का  पेट ऐंठ कर पतले मल उतारे लगा ॥ गोद में लेकर माता उसे 
वैद्य के पास ले कर गई । वैद्य के निर्देशानुसार चिकित्सालय में ही फिर से घर बस गया ॥ 

जों जों जल मल बाल निकसाए । तों तों घट कै भार घटियाए ॥ 
निर्जल देह जल सूल चढ़ाए । रोधे उपाए बैद ना पाए ॥ 
जैसे जैसे जल युक्त मल बालक उत्सर्जित करता वैसे वैसे उसके शारीर का भार घटता जाता । शारीर में जल की मात्रा 
न्यून हो जाने के कारण उसे शूल के द्वारा जल आपूर्ति की गई । किन्तु इस उपचार के पश्चात भी वैद्य को मल अवरुद्ध 
करने  का उपाय नहीं आया ॥ 

बाल बदन बहु साद दरसाए ।  ताप धरे जनु कुसुम कुमलाए ॥ 
नीर नयन बधु बाल बिलोके । पीर सहिर सह असहय होके ॥ 
बालक का मुख बहुत ही क्लांति दर्शा रहा था । व्यथित हो कर वह ऐसा कुम्हलाया जैसे कोई पुश कुम्हलाता हो ॥ 
बालक को ऐसी अवस्था में देखकर वधु की आख में आंसू आ गए । वह असहाय हो कर ऐसी पर्वत सी पीड़ा को सह 
रही थी ॥ 
  साथ बसे जे आरोग सदन । कही  बुझाई बाँच एहि बचन ॥ 
रहे न तव एक बाल अकेरे । देखु रोग बस भए बहुतेरे ॥ 
आरोग्य सदन में जो साथ में वासित थे उन्होंने ने वधु को ऐसा कह कर समझाया कि तुम्हारा ही बालक एक अकेला 
 नहीं है । देखो कितने बच्चों को रोग ने ग्रसित कर रखा है ॥  

अरोग सदन रहत बसत पूरित दुइ पखवार । 
बैद जन उपचार करत बिहान  मह गए हार ॥   
आरोग्य सदा में रहते बसते वधु को एक महीना हो आया । वैद्य गण  उपचार करते करते अंत में हार गए ॥ 

मंगलवार, ० ९ अप्रेल, २० १ ३                                                                                        

बैद बिदित सहुँ नैनन झुकाए  । कहे कोउ बर नगर लै जाएँ ॥ 
मर्म बचन मन भेद प्रहारे ।  बैद बिदित सन पालक हारे ॥ 
बैद्य विद्वान इ  वधु-वर के सन्मुख आँख झुकाते हुवे कहा बालक को कोई बड़े नगर में ले जाएं ॥ वैद्य के कठोर वचन 
के आघात  से ह्रदय विदीर हो गया । और उअके साथ पालक भी रोग से लड़ते लड़ते हार गए ॥ 

भयउ  चितबत जी दाइनि  दाए । जीउ मरन नंदन हिन्दोलाए ॥ 
बरे बिरध कहि मंथन कारे । जथा जोग साधन  संभारे ॥ 
माता एवं पिता स्तब्ध हो गए, जीवन और मरण बालक को झुलाए जा रहे थे  ॥ घर के बड़े वृद्धो ने सोच विचार कर 
कहा, यथा योग्य आवश्यक वस्तुएं एकत्र करें ॥ 

बालक पालक पठैउ तहवाँ । तनि बर आरोग सदन जहवाँ ॥ 
एक मुठ अद्य एक पून पुनीते । सोचे  देखु अब का फल बीते ॥ 
तत पश्चार बड़े वृद्धो ने बालक को पालक सहित वहां भेजा जहाँ थोड़ा सा बढ़ा आरोग्य सदन था ॥ एक मुट्ठी में पाप और 
एक में पावन पुण्य बांधे, वर-वधु ने सोचा, देखे अब क्या फलीभूत होता है ॥ 

बाल काय अस रोग न जोगे । पीर बहुस फुर मूरति भोगे ॥ 
की परिनय पुत के परिनामा । होय भाग अब बधु  के बामा ॥ 
बालक का शरीर ऐसे गंभीर रोग के योग्य नहीं था वह फुल की मूरत बहुत अधिक पीड़ा भोग रहा था परिणय किया तो 
परिणाम पुत्र स्वरूप में मिला किन्तु अब रोग ग्रस्त होने के कारण वधु का भाग्य विपरीत हो गया ॥ 

कारूक कर जब काल कलापे । कल्प कार के कल्पन काँपे  ॥ 
पीछु होइ जानत  सब कोई । को जान न अगहुन का हॊई ॥ 
कला करके जब काल अपने क्रियाकलाप दिखलाता है तो सृष्टि कर्त्ता की कल्पना भी कांप जाती है ॥ भूतकाल की घटना 
सर्व विदित है किन्तु भविष्य में क्या घटित होगा यह अविदित है ॥ 

पर पुर पालक पग परे जुगत जुगत  कै साँस । 
ब्यास कर के आस करे सिसु बयस भए छमास ॥ 
बालक की सांस संजोत  पालनहार पराए नगर में पहुँचे ।  स्वास्थ वर्द्धन की आस करते करते बालक की आयु अवस्था छह 
मास की हो गई ॥ 

बुधवार, १ ० अप्रेल २ ० १ ३                                                                                                   

नैनन धनब बादर बांधे । बाल के भुज सिर धरे काँधे ॥ 
दुज औषधि भवन चरण बढ़ाए । पुनि पालक नव गृहसी बसाए ॥ 
आँखों के आकाश में अश्रु के बादल को बांधकर  और बालक की भुजा और सिर को कंधे से लगा कर पालक ने दुसरे 
आरोग्य भवन में प्रवेश किया,  नए स्थान पर पुन: एक गृहस्थी बस गई ॥ 

नव बैदक नव औषधि धामा । घोषत जामिक अर्धन जामा ॥ 
तहही ब्याधि तह्ही असाधे । नव सिध सुध नव साधन साधे ॥ 
नए वैद्य गण एवं औषधि सदा में नई नई औषधियां थी । द्वार-पहरी आधी रात की घोषणा कर रहा था ॥ व्याधि वही थी 
असाध्यता भी वही थी नए विद्वान वैद्य सुधि लकर नए नए साधो से रोग साधने का प्रयास करने लगे ॥ 

सूचि मुख भेद  सूल सलाके । बाल पानि पद लागे  लाखे ॥ 
भेद बिद्ध बहु सूजत दूखे । नंद नयन भए मंद मयूखे ॥ 
सुई की नोक का भेदन शलाकाओं सी वेदना उत्पन्न कर रही थीं । जो बालक के पाद और चरण को लाल करती हुई लगी 
हुई थी ॥ ओके का यह भे बिन्धित होकर एजी भाग को फुला कर पीड़ा उत्पन्न कर रहे थे । पीड़ा से नादाँ का आँख की कांति 
मंद हो गई ॥ 

सुधाधार धर सरबस सूखे । मलिन प्रभा कर कमलिन मूखे ॥ 
ह्रदय बिदारित दसा दुखदाई । को बिध कहँ लिखि लेखि न जाई ॥ 
सुधा के आधार स्वरूप अधर पूर्णतः शुष्क हो गए । बालक की ऐसी अवस्था को किसी भी प्रकार से लेखनी से कहते हुवे 
लिखी नहीं जा रही,  यह दुखदाई दशा ह्रदय को विदारित करने वाली थी ॥ 

मृदु मूरति गह सूलक भाले । हे भगवन हमारे तन घाले ॥ 
कहत बचन अस कलस दुआरे । माँगत बर पितु झोरी पसारे ॥ 
कोमल मूर्द्धा से  शूल और भाले लेकर हे भगवान इन्हें हमारे शरीर में लगा दो । ऐसे वचन कहते हुवे मंदिर की चौखट पर 
पिता झोली पसार के वरदान मांग रहे थे ॥ 

बट बट कोर कलस बने भगवन एकहु न पाए । 
जब लालन मुख लाखने बाल सरुप मुसुकाए ॥ 
मार्ग मार्ग पर मंदिर बने हुवे थे किन्तु भगवान एक में भी नहीं मिले जब लाल का मुख देखा तो वह उसमें मुस्कराते बालक
स्वरूप में मिले ॥ 

गुरूवार, १ १, अप्रेल, २०१३                                                                                

मात पिता पुत चितब निहारे । भरे कंठ कँह का रे का रे ॥ 
बार बार मुख चुम्बत माथे । सिसक सिसक सिरु फेरत हाथे ॥ 
माता -पिता पुत्र को एकटक निहारते हुवे भरे कंठ से कह उठे क्या हुवा ! क्या हुवा रे ! बार बार बालक के मुख और माथे का 
चुम्बन लेते सिसकते हुवे सर पर आशीर्वाद स्वरूप हाथ फेरते ॥   

लख लख लाखन लाखन लैखे । बुद्ध प्रबुद्ध बैद  बहु पैखे ॥  
मति मथित कर  परस्पर बोधे । को सिद्धि पर मल ना रोधे ॥ 
बड़े बड़े विद्वान वैद्य बहुश: बार बालक की निरीक्षा-परीक्षा करते, रोग लक्षणो को लिखते ।। मत विचार कर परस्पर बात करते 
किन्तु ऐसी कोई सिद्धि नहीं मिली जिससे मल को अवरुद्ध किया जा सके ॥ 

कहन उपचरक चारै चारे । सके न उपचित मल संभारे ॥ 
कारक जान न कारन जाने । बिषय बिषेसग जग जन  माने ॥ 
कहने को तो शास्त्र- विहित, चिकित्सा-कार्य का अभ्यास करने वाले विद्वान सेवक थे किन्तु बढ़े हुवे मॉल का उपचार 
करने में असमर्थ थे । न तो रोग उत्पन्न करने वाले कारक को जान पाए न ही उसके कार को जान पाए और थे वे 
बालरोग के जाने-माने विषय विशेषज्ञ थे ॥ 

करुबर रोगह उदर उतारे । असक कसक सिसु सक कसकारे ॥ 
सोष सार सत सकल सरीरे । रोग हरिक सरि हरनै हीरे ॥ 
कड़वी कड़वी औषधियाँ  पेट में उतारते, शिशु असहनीय  पीड़ा को भी कसकाते हुवे सह लेता ॥ रोग शरीर के समस्त 
सार-तत्व को शोषित कर चोर के सदृश्य शिशु की शक्ति की चोरी कर रहा था ॥ 

हरिन ह्रदयारत कारत रोग बिषनि के बीष । 
भए सिसु के सांसन फाँसत पर पुर बासर तीस ॥ 
सर्प के विष के सदृश्य रोग कोमल ह्रदय में टीस भरते हुवे,सर्पों द्वारा  शिशु की सांस  को फांसते हुवे  पराए नगर में रहते 
एक मास की अवधि हो आई ॥ 

शुक्रवार, १ २ अप्रेल, २०१३                                                                                               

जीउ रुपन रुप रन घन घोरे । कवलन काल कराल अगोरे ॥ 
 रोगह जोध रोगानु हराए । इहहीं भय सब बैदु असहाय ॥ 
जीवन घघोर युद्ध के रूप में रूपांतरित हो गया था । भयंकर काल कवलित करने हेतु प्रतीक्षा कर रहा था ॥ औषधि रूपी 
योद्धा को रोग के विषाणुओं ने हरा दिया । यहाँ भी सभी वैद्य असहाय हो गए  ॥  

तहहि देइ सकल बुद्ध उत्तर । कहें जाएँ नगरी औरन बर ॥ 
श्रवन ऐसेउ बचन कठोरे । नयनज बांधि ठहरे न ठोरे ॥ 
यहाँ भी सभी वैद्य विद्वानों ने उत्तर देते हुवे कहा कि बालक को किसी और भी बड़ी नगरी मन ले जाएं ( जहां उत्तम उपचार 
व्यवस्था उपलब्ध हो )। ऐसे कठोर वचन सुनकर अश्रु का बाँध अपे स्था पर रुका नहीं अर्थात बह चला ॥ 
  
सौम सरिल सरि सूखी बानी । जनु  तपस तप सुखे कन धानी ॥ 
रोदत बधु कहि कछु कर सोचें । मोर पिया तुम संकट मोचे ॥ 
जो वाणी शांत रस के जैसी थी वह शुष्क हो गई मानो तपते सूर्य ने खेत की उपज को शुष्क कर दिया हो वधु ने  रोते हुवे 
कहा मेरे प्रियतम तुम तो संकट के मोचक हो अत: कुछ भी सोचो कितु बालक को स्वस्थ कर दो ॥ 

धरे दो ही अखरी में आखर । हां हां हि कहे सीस हिला कर ॥ 
बोले अब को नगर ले जाएँ । कहि बयस कर जहँ रोग सिराए  ॥ 
प्रियतम न वर्ती में दो ही अक्षर पिरोते हुवे सिर हिला कर केवल हाँ हाँ कहा और बोले अब कौन सी नगरी ले जाएँ जहाँ 
बालक स्वास्थ वर्द्धन करे और रोग से पीछा हूटे ॥ 

पूछे सकल जन परिजन संकट सोच बसाए । 
बिरध बुध  नात सयाने तब एक नगर सुझाए ॥
संकट का विचार करते हुवे प्रियतम ने सभी बुद्ध जनों एवं कुटुम्बियों से मंथन किया ।  बड़ों ने और सयाने सगे-सबंधियों 
ने फिर एक नगर सुझाया ॥ 

शनिवार, १ ३ अप्रेल, २ ० १ ३                                                                             

बढ़े रोग भए दनु बिकराले । गहनु गहि तेहि दंस  कराले ॥ 
कहे बैद अनु बहु संचारे । लै जाहु तनिक कर संभारे ॥ 
रोग ने बढ़ कर विकराल दानव का रूप ले लिया, और उसके भयंकर दांत बालक के शरीर में गहरे धंसते चले गए ॥ वैद्यक 
ने कहा रोगाणु बहुंत अधिक संक्रामित हो गए हैं अत: बालक को थोड़े ध्यान पूर्वक ले जाएं ॥  

कछु लहने जीवन के लाहू ।  सरल सुगम अस साधन जाहू ॥ 
ऐसेउ ठोर डेरन डारें । जे कर सक एहि रोग सुधारे ॥ 
ऐसे सरल एवं सुगम साधा में जाएँ  कि बालक के जीवन को कुछ लाभ प्राप्त हो ॥ ऐसे स्थान पर उपचार करवाएं जो ऐसे 
गंभीर रोग का उपचार करने में सक्षम हों ॥ 

पिया तुर जनि नगरी अहोरे । गुहिल बहेरन एक दिन होरे ॥ 
गहे गुहेरे तनि निज जोरे । तुरंग गति तुर तुरत बहोरे ॥ 
प्रियवर तत्काल ही जन्म नगर गए । धन संकलित करने हेतु वहा एक दिवस ठहरे ॥ कुछ अभिभावकों ने दिया और कुछ
स्वयं द्वारा संचयित किया हुवा लिया, और  घोड़े जैसी गति से चलकर  तु्रन्त लौटे ॥  

अरोग सदन पर पुर रहे जे । ले सन संजुग सकल सहेजे ॥ 
पवन  बिमाने  बहु द्रुत गति कर । गवनु बर धानि  राजत ता पर ॥ 
पराई नगरी के आरोग्य सदन में जो वास वस्तुवे थीं उन्हें संगृहीत कर बहुत द्रुत गति से वायुयान में विराजित होकर बड़ी
धानी गये । 

दुइ काल खंड गह तहँ असने । पुनि नव पुर महँ बासे बसने ॥ 
कर बैद नउ सेव आरम्भे । प्राग रोग पर नौ आलम्बे ॥ 
दो घंटे में ही पालक वहां पहुँच गए  नए नगर में पुन : नई वसति वासित हो गई ॥ वाद्य गणों ने नई चिकित्सा सेवा आरम्भ 
कर दी, रोग वही पुराना था कितु सहारा नया था ॥   


तहँहि बहु रहे सिद्धित साधे । धरे बहुस बर उपाधि राधे ॥ 
बालक बिभु बेदक बिधि धारे ।  जूथक करी गहन उपचारे ।। 
वहाँ भी निर्धारित मत के आधार पर लिखित चिकित्सा शास्त्र के  अध्ययन द्वारा प्राप्त उपाधि को धारण किये श्रेष्ठ चिकित्सक थे । 
बाद्य शिशु रोग की विशेषज्ञता धारण किये हुवे वैद्य समूह ने शिशु का गहन उपचार हेतु किया ॥ 


बहु बिधानत बैद बिदुर बाल बिषय के जोग । 
पेखि पर कहि बाढ़े बहुर बालक के मल रोग ॥ 
फिर इन  शिशु रोग के विशेषज्ञ वैद्य विद्वानो ने विधान पूर्वक निरिक्षनोपरांत कहा कि  बालक का रोग बहुत ही बढ़ गया है ॥ ( हम 
स्वस्थ करने का प्रयास करेंगे)  

रविवार, १ ४ अप्रेल, २ ० १ ३                                                                              


परखन नलिके सूल सँभारे । सीकर सीकर रुधिर निकारे ॥ 
कभु को नलि उत्सर्जन लहने । बहु प्रजोग कर निरिखत गहने ॥  
परख नलियाँ और सूचिका तैय्यार कर शिशु के रक्त की बूंद बूंद इकाल लीं । कभी वे किसी परखनली में उत्सर्जित मल-मूत्र 
को एकत्र करते और बहुत सारे प्रयोग कर उसकी गहन परीक्षा करते ॥ 

जानन अनु  को मूल उगाहू । बार बार पर हार अलाहू ॥ 
लेवत लेवत रुधिर घट आए । बारहि बार दै सूल चड़ाए ॥ 
यह ज्ञात करने के लिए कि रोग के अणु कहाँ  से उत्पन्न हो रहे है किन्तु यह ज्ञान अप्राप्त होता और वे बार बार असफलत होते 
बार बा लेने के कारण शिशु के शारीर में रक्त की मात्रा न्यून  हो जाती । और वैद्य  बार बार उसे सूचिका द्वारा चढ़ाते ॥ 

निरखत  बालक  के कसकारी । झरि पालक के  लोचन बारी ॥ 
बाल चरन कर भालक बाने । लाग जनु को साँसत प्राने ॥ 
बालक का यह कष्ट देखकर पालक की आँखों से जलधारा बहने लगती ।। बालक के  हाथ-पैरों में बाण और भाले ऐसे प्रतीत 
होते जैसे कोई बालक को प्रताड़ित कर रहा हो ॥ 
    
धँसे देह जनु सायक सेजे । जान न कहँ पर प्रान सहेजे ॥ 
जान न बोल बाल कस भासे । रोग दुःख धँसे सूलक कासे ॥ 
ये बाण और भाले देह में ऐसे धसे थे मानो यह सर सय्या हो । जी खान था यह तो  था किन्तु शिशु ने प्राण सहेजे हुवे थे ।।   शिशु को 
वाणी का ज्ञान नहीं था वह हँसे हुवे शुलों की दुःख पीड़ा और कष्ट कैसे जताता । 

दहत देह दरसत कार जरत रोग के भाड़ । 
चामोभर चित्रन उतार दरसे तन के हाड़ ॥ 
रोग की भट्टी में जलते हुवे शिशु की देह में सांवलापन आ गया । और त्वचा पर  शरीर की हड्डियों का चित्र दिखाई देने लगा ॥ 

सोमवार, १ ५  अप्रेल, २ ० १ ३                                                                                      

एक बार ते मूर्छित वासे । बालक साँसे करत उसाँसे ॥ 
जतन बैद बह जंत्र बहाए । सयनित प्रतिबोध बिधाए ॥ 
एक बार तो बालक, ऊपर की और खिचते लम्बी-लम्बी सांस लेते हुवे मूर्छित हो गया । तब वैद्यगण ने वायु प्रवाहित यन्त्र से
वायु प्रवाहित कर मूर्छा के कारण सुप्तावस्था में गए बालक को जागृत किया ॥ 

भए बहु दिन इहहीं बिष्ठे । मात-पिता नहिं रूधत दृष्टे ॥ 
सूझ न पाए को अरु उपाए । को रथ-पथ अब कोन पुर जाएँ ।। 
माता-पिता को यहाँ भी देखते बहुत दिन हो गए, मॉल था की रूढ़ता ही नहीं था । और उन्हें कोई उपाय भी नहीं  सूझ रहा था कि 
अब बालक को किस रथ-वाहन से, किस पथ में कौन सी नगरी ले जाएं कि जहां वह स्वास्थ वर्द्धन करे ॥ 

असकत कसकत  दुसर दुआरे । भए दुइ पाखे बहु दुखबारे ॥ 
पुनि एक अह अह औषध आले । बैद बिरध जन करि हट ताले॥ 
दुसरे द्वार में असहाय कष्ट भोगते बालक को बहुंत ही दुःख करते  दो पखवाड़े अर्थात एक मास का समय व्यतीत हो गया था कि 
तभी आह ! एक दिन उस औषधि सदन में वैद्य विद्वानों ने  किसी कारण वश हड़ताल कर दी ॥ 

हरि हरि रोगिन दैं अवकासे । सब जन जहिं कहिं औरन बासें ॥ 
बर बधु सन कहि एहिं पुर रहहू । समउ पर हमर निदेस लहहू ॥ 
धीरे धीरे वे रोगियों की छुट्टी करने लगे और खा सब रोगीगन कोई और  औषधि सद में उपचार करवाएं  ॥वर-वधु को भी छुट्टी 
देते हुवे खा की अभी आप वापस मत जाइए, यही इसी नगर में कहीं निवास कीजिए और समय-समय पर हमसे उपचार से 
सम्बंधित निर्देश लेते रहिए ॥ 

पाल बाल हिरदे लाए नीरुज सद के पास । 
लै दसन पुनि बसि बसाए एक भल नतैत बास ॥ 
पालक, बालक को ह्रदय से लगाए आरोग्य सदन के निकट ओढ़-बिछौने लेकर एक भले सम्बन्धी के निवास में पुन: घर बसा लिया ॥