Monday, December 17, 2012

----- ।। अहोरा-बहोरा ।। -----

                                      जे टक  तिनगन धरि नक थाती । ते त धप्प धन मूलक माटी ।।
                                      तिसपर बनिअर बिधि कर कारे । जथा धरोहर बधु बर धारें ।।
                                       टके तुनक कर तीन बार गिन के ( मूल को ) जो धरोहर नाक पर तुमने रखी( छोड़ी ) है।
                                                   वो तो टोटे ( हानि ) से जुडा मूल धन को भी मिटटी करने वाला अर्थात डुबाने वाला है ।
                                                   उस पर व्यापारियों ने यह नियम बनाया है कि यदि धन धान धरोहर का वधु-वर आपस 
                                                   में  व्यापार करें तो :--    

                                      जोग जोख के बनि कर देहीं । जे दइ बेर ते बरत न तेहिं ।।
                                      पिय बनि मँगनी मँग अनुरागे । बखति बिरति अब दउ मम लागे ।।
                                      जोड़ देख कर वनिक कर देवें यदि समय दिया है दिए गए समय के अंतर धरोहर का
                                                   उपयोग न करें । व्यापारी पिया दिय गए ऋण को प्रेम सहित माँगने लगे । समय 
                                                   व्यतीत हुवा अब मेरा लागा धन वापस करो ?? 
                                                    
                                      का धरि धारा देइ निर्देसा । को कर कहुँ धर का कर कैसा ।।
                                     यह करबिधि का हम नहिं जाने । चले पिया बर हमें चलाने ।।
                                      निर्देश देकर क्या धाराएँ लगाई हैं । कौन से कर आदेश देकर कर का  निर्धारण कैसे किया है ।
                                                   यह कर की विधि क्या हम नहीं जानते?? चलें हैं प्रियतम प्यारे हमको चलाने ।।

                                      जहँ जा खन भए जनम तिहारे । तहँ हमहु जनी जनक हमारे ।।
                                      दर दर्पन पिय दरस उतारें । अरु दिजबर दइँ जान उधारे ।।
                                      जिस स्थान में तुम्हारा जनम हुवा है वहीँ हमारे जन्म दाता ने भी हमें जन्मा है ।
                                                   टूटे हुवे दर्पण में पीया दृश्य उतार रहें हैं । और महान ग्यानी ध्यानी को ज्ञान उधार में दे 
                                                   रहे हैं ।

                                        वेद भेद धर धारा बिधि  भइ दिज दइ उपदेस ।।
                                        भाँति भाँति सन सार सिधि साधहिं देस धनेस ।। 
                                        वेद शास्त्रों के गूढ़ भेद एवं विधि की धाराओं को धारण कर ग्यानी बन कर वधु उपदेश दे रही है ।
                                                      विभिन्न प्रकार से सिद्धियों का सार ग्रहण कर देश के राजा को ही सीधा कर रही है ।।


                                        मंगलवार,18 दिसंबर 2012                                                                        
                                       
                                     
  बिगतजान भए तिहरे बारे । जान गुन गिन गिन धरे अगारे ।।
                                        सूत्र सिद्ध करी भइ  बिज्ञानी । अधि उपधि धरी बिधि सन्मानी ।।
                                         तुम्हारे बारे में हम निर्भिग्य थे । तुम तो ज्ञान के कोष में गुणों को गिन गिन कर रखी हो ।
                                                       सूत्रों को सिद्ध कर कर के वैज्ञानिक बनी । विधि की अतिरिक्त उपाधि का सम्मान भी धारण
                                                       किये हुवे हो । 

                                         पर एहिं 'नउ कर' रउँ कहि पारे ।  बित दिवस दूर दरस प्रसारे ।।
                                         देस बिदेस जगत के लेखे । समाचार तव पढ़ि सुनि देखे ।।
                                          किन्तु राजा ने आदेश कर यह नया 'दर्शन कर' लगाया है । बीते दिवस दूरदर्शन पर 
                                                       प्रसारित हुवा है । देश और विदेश एवं संसार का लेखा जोखा समाचार में क्या तुमने 
                                                        पढ़ा,सुना व देखा है??

                                         ना कहत बधु जब सिरु हिलाई । टेर भृकुटि बर कुटि मुसुकाईं ।।
                                         दव दव पिय कह लाग उतारें । तनिक मुकुति ब्याज महुँ धारें ।।
                                         ना  कहत हुवे वधु ने जब सर हिलाया । तो बर  भंवें तिरछी कर बड़ी ही कुटिलतापूर्वक 
                                                      मुस्कराते हुवे दो दो कहकर  प्रिय ब्याज में थोड़ी छूट प्राप्त कर ऋण उतारने हेतु कहने लगे ।।

                                                     अरु तनि बेर भए चली तव गउरी । सुनि सखि मलिहर मुहु धर मुकुरी  ।।
                                        इहिं बखतइँ तव टका न टिकाए । दइ बेर बिति अब धरि बरत पाएँ ।।
                                        और थोड़ी देर में तुम्हारी गौरी चली जावेगी फिर तुम हमारी सखी को शीशे में उतार 
                                                     राग मल्हार सुनते रहना । इस समय तो हम तुम्हारी  पूंजी नहीं रखे हैं । ऋण वापसी 
                                                     हेतु दिया गया समय भी पूरा हुवा अब तुम धरोहर का  उपयोग  करो ।।


                                         लोभ के लिप्सा करि मँग करदाता टक कूल ।
                                         लख लख धरि छेर तरंग  लब्ध लाभ लख मूल ।।
                                         लालच की लालसा में मांग करता करदाता कंजूस कुल का है । देख, छेड़खानी कर 
                                                      लाख (टके ) लेकर लाख की पूंजी का ( भरपूर ) ब्याज प्राप्त किया ।।
                                
                                          
                                         बुधवार, 19 दिसंबर, 2012                                                  

                                        मूल मलइ लइँ बोल बियाजू । ब्योंतन हिरन तोल तराजू ।।
                                        चमकि धमकि दइँ मूलहिं तूरे । बिसर न जइँ कह नयनइ घूरे ।।
                                         पूंजी की मलाई स्वरूप मुँह बोला ब्याज लेकर तराजू में सोन तोल के समान पिया 
                                                      लेन-देन करते हैं ऊपर से धमाका चमका कर मूल को तत्काल लौटाने को कह भूल 
                                                       मत जाना कहकर आँख दिखाते हैं । 
                                                          
                                        हरिन नयन लख लोकन लामा । तिथित धरो तब दयँ तव दामा ।।
                                        ऋन करित गस दास समु ताड़े  । पिय भगति कस पास पैंचारे ।।
                                         मृगनयनी लाल आँखों से देखते लढाई करते कहती है कि वह दिवस बताओ जब हम 
                                                       तुम्हारा मोल चुकाएँ । ऋणधारी को ऋण के जाल में फाँस कर दास के समान व्यवहार 
                                                        करते हैं, पीया भक्ति प्रेम पाश में बाँध हेरा-फेरी करते हैं ।

                                           कँवर कवनि कहिं कोमल कर के । हनु करज भीत कुहनहिं धरके ।।  
                                        जब  तव बहुरहि तात दुआरे । ते दव तुरतइँ पिया लगारे ।।
                                         कुँवर तत पश्चात् अपनी वाणी कोमल कर ढोडी पर उंगली एवं भीति पर कुहनी रख 
                                                       कर कैसे कहते है ?? जब तुम अपने नैहर से लौटोगी तब तुरंत ही पिया का लागा 
                                                       चुकाना ।।

                                                      धरे दरस तव थुरहथ थोरे । लभ लहकोरे मूल मरोरे ।।
                                        पाव भाव भर मोल मुहारी । मोह फाँस फिर महँगइ मारी ।।
                                         तुम्हारे दर्शन को तो  हम मुट्ठीभर ही अर्थात बहुंत कम ही लिए है । इस पर ब्याज मुट्ठी को 
                                                      हिलाता डुलाता है एवं मूल मरोड़ता है । थोड़ी सामग्री का मुँह माँगा मोल कर मोह में फाँस   
                                                      कर फिर मँहगाई मारती है ।
                                        एक त देइ मूल उधार भए भिखि मँगो पसार ।
                                        तिसपर लइ बिरहन धार नाम टक्क पैंचार ।। 
                                        पिया  कहते हैं एक तो तुमको अपना मूल उधार दे कर तुम्हारी सहायता करो
                                                     फिर भिखारी बनकर झोली पसार कर मूल वापस मांगो । उस पर भी तुम दिखाई 
                                                     भी न दोगी और हमारा नाम धरा है कंजूस फेरा फेरी करने वाला चोर । 
                                                     
                                 
                                        गुरूवार, 20 दिसंबर 2012                                                                 

                                         रिस परिहरु कहि छुट गहि बाहू । चलहु हमरे तनि काज कराहु ।।
                                         बेर बहुँत भए का कहिं कोई । सइँ सँजुत जूत जोउ जोई ।।
                                         भुजाओं के बंधन से छुटते हुवे बधू कहने लगी अच्छा अब य क्रोध त्यागो और चलो 
                                                       हमारी कुछ सहायता करो । बहुंत देर हुई कोई क्या कहेगा साथ लग कर साथ ले जाने 
                                                        वाली सामग्री बाँधने लगो ।

                                         बसन दसन रूप साधन सँजोए । लुहन लुगा लल लोचन लोए ।।
                                         लखी सजन फिर बिरहन फेरे । जनु अगहनहिं अघन घन घेरे ।।
                                          दसों प्रकार के वस्त्र व श्रृंगार सामग्री को ले जाने हेतु बांधा । लाल रंग की साड़ी ( में वधु )
                                                         पिया के नयनों को सुहावनी व अति आकर्षक लग रही है । जब मूढ़ कर
                                                         बिरहन के फेर में फँसे सजन को देखा तो ऐसे लगे मानो अगहन की खड़ी उपज पर विरह 
                                                         रूपी विरल बादल घिर आए हों ।
                                                          
                                         अध पधरन भरि पद मदयंती । लाल लवन सन बाँस बसँती ।।
                                         गहिं सजनहिं तहिं कोर कलइयाँ । कसक कस कहिं छोर दो सइयाँ ।।
                                          नीचे जाने हेतु जब मेहंदी से रचेलाल रंग की लावण्यता से युक्त बसंत ऋतु सी सुगंध से 
                                                        भरे  पद आगे बढाते ही साजन ने वधु की कलाई पकड़ ली । कसमसाकर कहा प्रिय अब 
                                                         बाँह छोड़ दें ( जाने का समय हो गया ।

                                         मंद कांति मुख बँधनी काँधे । बिस बिस बसवर बसन बसाँधे ।।
                                         भुजा पहुँच भरि बुझत पहुरी । अजहुँ गवनु ते तै कब बहुरी ।।
                                          सजनी मुरझाए हुवे चन्द्रमा के समान कृष्ण रूपी सजन की भुजा में बंधी कमल के पुष्प 
                                                        एवं उसके जैसी सुगंध युक्त वस्त्र धारे सुगन्धित हो रही है । पिया की भुजाओं एवं कन्धों 
                                                        में भरी उनकी पहेली बूझ रही है कि अभी चली जाओगी तो फिर कब लौटोगी ??
  
                                         अहि बिनु मनि जर बिनु मीन अस मैं सजनी हीन ।
                                         कहि धनी दीठ दीन बस दैं गिन दिन तीन ।।
                                         मणि रहित सर्प एवं पानी रहित मछली जैसे होती है वैसे ही में तुम्हारे बिना रहूंगा ।
                                                       विकलता भरे नैनों से पिया को देखकर वधु ने कहा, गिनकर केवल तीन दिन का समय देवें ।। 

  
                                         शुक्रवार, 21 दिसंबर 2012                                                                     

                                         पाद पदुमिन धर उतर पौरे । चाप धाप गहिं परिजन ठौरे ।।
                                         रुषन रूप धरी धारिन सारी । चारु कारू करि पट अति भारी ।।

                                         रसिनइ दसिनइ कसिनइ कासी । भयउ उछ्बासी रूप कै रासि ।।
                                         आलंकरन खन कन झनकारे । गगन मगन तारक दमकारे ।। 

                                         बिभूषन कर भुज सिखर सँजोए ।  को उपमा धरे कबिबर कोए ।।
                                         लाज साज धजि दमकत देही । सास ससुर सद समद सनेही ।।

                                         तिलक थाल धरि हँस भरि हाथे । तिर तुषार मूरत मुख माथे ।।
                                         तूलतस तेजस त्रस रज रूरे । दीप काल बल बलइ अंकुरे ।।
                               
                                         परिजन पहिं गहिं चरन प्रनामे । बध अनंद बधु हथ महुँ थामे ।।
                                         नमन चरन नत धूरि धर सिसे । सदा सुहाग के दइँ असीसे ।।


                                        भइ रूप सागर स्वरूप शुभ्रकर अनेक रतन सिंगारिके ।
                                        हरि हरि धरि धर चरन अंतर सर-सर कर पट सारी के ।।
                                        रथ सूत सुन्दर लइ दुअर तिरधर बैसी भित सँभारि के । 
                                        धुरि धारिति धर धुरबही अधर धूरबी तर गारी के ।।

                                        खढ़े सजु सहुँ रथ प्रसंग भए नयनु चारु चार ।
                                        भरि बहु बर बिरहन रंग गवनु पथ धूरि धार ।। 
   
                                       शनिवार, 22 दिसंबर 2012                                                          

                                       कनेरि कँजेरि कनिक कनौती । तृपल स्यामल भूतल भौती ।।
                                       धवनु बहनु बहि ओट उबारे । ओत प्रोत बधु कोत किवारे ।।
                                       धरा पर कज्जल रात लाल पीले कनेर के पुष्प जैसे चाँद धरे है एवं कगारों पर 
                                                 काँच का काम किये से तारी की कणिकाओन से युक्त है । पटिरे की आढ़त से 
                                                 सुशोभित वाहन दौड़ता चला जा रहा है  पटिरों से परस्पर संयुक्त वधु वाहन के 
                                                 द्वार की ओर बैठी है ।।
                         
                                        तात मात पथ लागिं निहारी । कब लाइहिं भइ पुतिका हमारी ।।
                                        पल महुँ पिहरु पँवर पैसारे । बहि पहिं पहुंचहिं तात दुवारे ।।
                                        माता-पिता विकलित हो प्रतीक्षा रत हैं भाई कब हमारी पुत्री को लावेंगे ।। कुछ देर में ही 
                                        नैहर की ड्यौढ़ी में प्रवेश कर वाहन पिता के द्वार के पास पहुँच गया ।।
                                       
                                        आवति मोद गास अगुवाई । अगुसर अइँ उर लइँ भौजाईं ।।
                                        पद नियस भय नूपुर नियारे । निमद नदन रल मल रव कारें ।।
                                        द्वार के सामने आते ही प्रसन्नचित हो स्वागत कर भौजियों ने आगे बड़ ह्रदय 
                                                  से लगा लिया । भरते हुवे पद के घुंघरू अद्वितीय हो हिल मिल कर धीमी सी ध्वनि 
                                                  युक्त सुर बिखेर रहे हैं ।।
                                         प्रीत सहित पुर भित पैठारे । पद रक्षक रख पीठ बैठारे ।।
                                        थारि दुबि घारि पयसय पारे । पग पंकज पत पंक पखारे ।।
                                        प्रेम सहित घर के भीतर ले जाकर चरण पादुका उतार आसन रख कर बैठाया ।।
                                                  जल-दुग्ध एवं दूब से युक्त थाली में कमल जैसे पाँव डूबा कर दूब की पत्तियों से 
                                                  रज कण को धोया ।।

                                                  मात तात धिय देखि निहाले । बुझ भै कुसल सकल ससुराले ।।
                                        नात नतैत सकुसल बताई । पिय के ताईँ नयन झुकाई ।।
                                        माता-पिता बेटी को देखकर निहाल हुवे और ससुराल जन्न की कुशल मंगल पूछे ।
                                                  सगे-सम्बन्धी को सकुशल बताया । जब पिया की कुशलता पूछी तो लाज से नयन 
                                                  झुक आए ।।

                                                  लवन तिलक मुख मुक मही लोकन लार छतनार ।
                                        लजन तिनक धुक दुक दही अरुनइ बार अँगार ।। 
                                                  सुन्दर अबोल मुख पर तिलक दैदीप्यमान है तेज बिखरा हवा दिखाई दे रहा है ।
                                                  लाज रूपी तृण गिर रूप की अरुणिमा के अंगारों को और अधिक दहका रहा है ।।    
                                                 
     
                                                  रविवार, 23 दिसंबर 2012                                                    

                                         त्रइ खनि पनि पुर ढार अटाई । मुख बिथि उपर तात के छाई ।।
                                         साथि सदन साधृति धन धारी । सिद्ध बनिक भए सम ससुरारी ।।
                                         तीन खंड युक्त नगर के ओट में ढाला हुवा पिता का घर क्रय-विक्रय केंद्र के मध्य 
                                                   मुख्य मार्ग के ऊपर स्थित है । साथ ही सदन में लाभ जनित व्यवसायिक खंड 
                                                   धारण किये हुवे हैं पिता-भ्राता ससुराल जन के सदृश्य ही कुशल व्यापारी हैं ।
  
                                         रति बिरति बज अभर भर भौंरी । तेज दीय तुल धिय धुल धौरी ।।
                                         भावइँ भोजन भवज बनाईँ । मनुहर कर भर पूर खवाईं ।। 
                                                   व्यतीत होती रात बज्राभ्रक अर्थात काली अभ्रक में भरी चक्कर लगा रही है । 
                                                   पिता के घर में पुत्री की धूलि हुई धुल-पंक दिया के सामान दीप्त हो उज्जवलित है 
                                                   मनभावन भोजन भोजाइयों न पका कर मान मनुहार कर तृप्त कर खिलाया ।।

                                                   सकल कुटुंब लइ घेरहिं घारे । समनइ सयितन सयन सँवारे ।।
                                         लखि रखीं कछ जब भइ कँवारे । लोकन कनखन भतिजन धारे ।।
                                          सभी कुटुंब जन घेरी डाल कर बैठ बतियाए । रात्रि में निद्रा हेतु शयनिका भी सुसज्जित 
                                                     है । कंवारे पन में रखे अपने निज कक्ष को जब धिय देखने लगी तो भतीजे-भतीजी भी 
                                                     उक्त कक्ष को धारे कनखियों से धिय को देखते हुवे :--

                                         बोल भोल कर जोर संभारें । इहिं सदन तव हीँ अधिकारे ।।
                                         लइ पूछ भइ एक बात बताएँ । कि सब करि तव आव भगताए ।।
                                          हाथ जोड़े भोलेपन से बोले संभालिये  इस कक्ष पर आप का ही अधिकार है ।
                                                   और पूछने लगे अच्छा एक बात तो बताओ सब तुम्हारा आदर सत्कार क्यों कर 
                                                   रहें हैं ??  

                                         तात थरि जे धिय बिहाहिं धरें न को अधिकार ।
                                         छँत तरि ते तनि दिनु आहिं करें अतिथि सत्कार ।। 
                                         तब धिय ने बताया कि पिटा की भूमि से जब बेटियाँ विवाहित 
                                                   होकर चली जाती हैं इर उनका पिता के घर पर कोई अधिकार नहीं रह जाता ।
                                                   और तब वो पिता के घर कुछ दिन के लिए मिलाने आतीं हैं तो उनका अतिथि 
                                                   के तुल्य ही मान सम्मान होता है ।।
                                                                                                    
                                         सोमवार, 24 दिसंबर, 2012                                                    

                                         इहिं प्रियतम हिय बिकल बिलोके । दह बिरह रत तिय हीन होके ।।
                                         गिन धनवन तर नग नख कोरे । सहस नभस चर झारहिं झोरे ।।
                                         यहाँ प्रियतम का ह्रदय व्याकुल दिखाई दे रहा है प्रियतमा के बिना अनुरक्त हो 
                                                   विरह की अग्नि  डाह रही है । आकाश के रत्न रूपी तारे गिन कर नखों से उखाड़ लिए ।
                                                   नभ में विचरण करते इन सहस्त्र तारों को मानो एक थैले में ही झाड़ लिया हो ।।

                                                   लाग लवि लवकन सथ लागे । छहर छबि छत रतन रत जागे ।।
                                         धुर उपर छ्लें सीस ससी के । अधर तल बिकल रिसे रसीके ।।
                                          परम की लौ में ये तारे पिय के साथ ही दमकने लगे एवं छत पर बिखर कर रात जगा 
                                                    कर ये रत्न तुल्य तारे शोभायमान हुवे । आकाश ऊपर ससि का मुख छलावा कर रहा है 
                                                    अर्थात कभी छिपता है कभी निकलता है । निचे धरती पर विचलित प्रेमी रोष में आ गए ।।
        
                                                    तरी तीर तुर खींचे रसी से । छत महुँ राजे रजत रजनीसे ।। 
                                          दूर सुर स्वर धरि तरि सरिता । लखि कबि करें रस भरी कविता ।।
                                          तत्काल ही रस्सी से खिंच कर चाँद को निचे  ले आए । अब वह छत पर विराज कर 
                                                    शोभाय मान है । दूर स्वर धारण किये सुरमई नदी उतरती कवियों को देख कह रही
                                                    है कि हे कवि ऐसे विरह दृश्य हेतु कोई रस युक्त कविता कहें ।।

                                                    बिरह दुसह भइ अति दुखदाई । प्रीत प्रतिबिम्ब कही न जाई ।।
                                          इहिं सुनि साजन धरी सँभारे । एकहु उपकरन करनन धारे ।।
                                          कवी ने कहा यह विरह तो अति दुसह एवं दुःख देने वाली है । प्रीति के ऐसे प्रतिबिम्ब 
                                                    का वर्णन करना कठिन है । यह सुन कर साजन ने  हाथ में संभालते हुवे  एक 
                                                    उपकरण कान से लगाया ।
                                                     
                                                     एक पंछी पग पंख पसारे । बसंत दूति सम पवन सँचारे ।।
                                                     गहिं चरन बन दूतक दासे । नाम धरि एहिं कहिं दूर भासे ।।
                                                      जैसे एक पंछी अपने पैर एवं पंख फैलाए हो । और वह कोयल के सदृश्य 
                                                      हवा में संचारित हो ( वैसा ही यह यन्त्र है ) इस उपकरण ने पिया के चरण पकड़ 
                                                      दास के स्वरूप दूत बनना स्वीकार किया । जिसका नाम पिया ने दूरभास रखा ।।

                                                     त्रस त्रास लेइ उछ्बास मंद कांतिक मुख पेस ।

                                           कर महुँ धरी दूरभास दयन सकल संदेस ।।
                                                     व्याकुलता भरे ह्रदय से एक आह भरी सांस ले मुरझाई मुख आकृति से ।
                                                     विरह के समस्त संदेश देने हेतु पिया हाथ में दूरभास धारे हुवे हैं ।। 
                                   
                                                     मंगलवार, 25 दिंबर 2012                                                

                                          उत दीपक त इत तेहिं डोरी । तिल तिल बरत रत लेहिं बोरी ।।
                                          अगन लगन लग गगन अलोके । अलख अलकतर अलकत लोके ।।
                                           उधर दीपक तो धर उसकी बाती है । तेल के स्वरूप रात उन दोनों को लेकर तिल-तिल 
                                                      कर जल रही है अर्थात व्यतीत हो रही है ।। अनुराग आग रूप में अनुरक्त हो गगन को 
                                                      प्रकाश मान कर रहा है । अदृश्य अन्धकार युक्त संसार उक्त प्रकाश की लावण्यता में                  
                                                      सदृश्य हो उठा ।।

                                                      लर बर बिचरत बिरह पतंगा । रतिबत राजत प्रिया पलंगा ।।
                                           बसन दसन लस बस जस  जोहीं । दूत मुखी के मधुसुर मोही ।।
                                           विरह रूपी पतंगा प्रेम की अगन ज्वाल से लड़ता विचर रहा है । अति सुन्दर सजनी 
                                                      शयनिका पर शोभायमान है । बिछावन पर ( ओढ़ने के ) वस्त्र ले कर प्रिया उन वस्त्रों
                                                      के वश हो जैसे ( दूतमुखी के स्वर को ) जोह ही रही थी कि  दूत स्वरूप दूरभास् के 
                                                      मुख से निकले मधुर स्वर मोहने लगे ।।

                                                      बोले पिया इत आरति धर के । तिय के हिय उत धड़ धड़ धड़के ।।
                                                      तव गवनु जनु गवन हेमंते । उर तर जर जर सिसिर रमंते ।।
                                                      इधर से पिया विकलित हो कष्टपूरित बोल बोले । उधर प्रिया का ह्रदय तजी से धड़कने
                                                      लगा । पिया ने कहा तुम्हारा जाना क्या हुवा जैसे हेमंत ऋतु कि विदाई ही हो गई ।
                                                      और अब शिशिर ऋतु की शितलता ह्रदय की सतह को जलाते विचर रही है ।।  

                                                      धरें उपल एहिं सीत उपारे । सयनि लवन लग पीर उबारे ।।
                                           तुम हीन तिन दिन दीन बसिके । जे सथी बसथि बसंत रसिके ।।
                                           यदि किंचित धीरज भी धारण करें तो यह शिशिर ऋतु उन धीरज के पाषाणों को 
                                           उखाड़ देती है । एवं यह रजनी चोट पर नमक लगा पीड़ा का तीव्र कर रही है ।।
                                                      तुम्हार बिना यह तिन दिन तो पीड़ा युक्त हो रिक्त रिक्त से हैं । यदि तुम साथ हो 
                                                      तो यह निवास बसंत ऋतू का आनंद देने लगे ।।
                 
                                                      बिहुर बिथुरन बिरहन बय भए बिनत बय बियहुत ।
                                           बाँचि बिचार बिचहुत लय बरन अगत मुख दूत ।।
                                            बिरह के बीज ( चारों र ) बिखरे हुवे हैं जिन्हें दोनों बिछड़े विवाहित अकेल रहें हैं 
                                                       और दूरभास रूपी दूत को संदश वाहक को दूत स्वरूप माध्यम बनाकर अपने
                                                       विरह विचारों को शब्द रूप दे रहें हैं ।।  
                                                            
                                           बुधवार, दिसंबर 26, 2012                                                   
                                            तल्प तली बल धर उर अंगे । तरक बचन कहिं साजन संगे ।।
                                            संग करन सहि साधन सादें ।  प्रियतम प्रदिपत प्रीति प्रमादें ।।
                                             पलंग की सतह पर ह्रदय स्थल सहित करवट ले प्रिया प्रियतम के साथ चुटीली 
                                                        बातें करने लगी, कहाँ लगी कि आसक्ति करने हेतु पीया दूत के मुख से विषाद 
                                                        व्यक्त कर रहें हैं । प्रियतम उत्तेजना के वश प्रीति को बिसरा रहें हैं ।।

                                                       तुम मद मुकुलित मधुकर नामी । कमनु कामनु कला के कामी ।।
                                                       मसि मलिन मूल माल मलिंदे । छलि बलि अलि कुल काल कलिंदे ।।
                                                        तुम उन्मत्त मूंदनयना हो तुम्हारा तो नाम ही भँवरा है और लम्पट कामदेव के जैसे 
                                                        तुम्हें केवल रति की ही कामना है । काले लेखनद्रव के जैसे हो एवं भंवरे की श्रेणी में 
                                                        तुम ही श्रेष्ठ हो । चल करते मेघ ( अर्थात काले ) हो जो कि बाँवरे के ही कुल का है
                                                        और यमुना के उद्दीपन स्था से ही तुम्हारा उद्भव हुवा है ।।

                                                       गुंजन मुंजन कुंजन कैसे । सिद्ध काम गृह अंजन जैसे ।।
                                            राख रतन लछ लख लख साधें । अनुरस रति रनन राग राधें ।।
                                             उद्यान की (पुहप) लताओं पर गुंजायमान तुम कैसे हो जी कि परम के अनुरक्त हो ।
                                                         जैसे कोई  उन्माद युक्त हो अपनी काम इच्छाओं को पूरित करने हेतु काले इंद्र जाल 
                                                         रूप में कोई रचना रच रहा हो एवं सिद्ध अर्थात अलौकिक शक्ति से संपन्न रत्न मणि 
                                                         रख कर अचूक साधना करते हुवे  ( काम इच्छा की प्राप्ति हेतु )  कलियों का रसास्वादन
                                                         हेतु छलपूरित अनुरोध कर नुपुर स्वर कारित कर रहा है ।।
                                                           
                                                       नंद बदन बधु निंदहि बाँचें  । ररक रमन कहिं तव सन रांचें ।।
                                            टीस पर टीस देइ अनेका । तिस पर उपमैं एक तेइ एका ।।
                                             आनंद लेते हुवे वधु के मुख ने ये निंदा वचन कहे । 

                                                       तुम सन लग मन तन भए ढाँचे । साँच आँच कर अस नहिं जाचें।।
                                            हरिन ह्रदय हैं कोमलि काँचें । कलि कवलिन है हरि हरि खाँचें ।।

                                            हारिकंठ कर गहि पहि पियाए । हाय हाय कही हारि जियाए ।।
                                            सीत सिसिर सह सजनी सताए । हिया हरन कर गवइ हरजाए ।।

                                            भ्रान्ति नयन मन सील तव बावरइ कहें लोग ।
                                            पिय कह कबि का कहिं सुनव नहीं प्रीति के रोग ।।(नहिं इहि एक ठो रोग )
                                             
                                           गुरूवार, 27 दिसंबर, 2012                                              

                                            इहि रोग तईं कहत सियाने ।नहि निवार करध्न न बिधाने ।
                                            अरू कहिं करहिं पीर बहु भोगे । पीरित रहेउ न कोउ जोगे ।।
                                            इस रोग के निमित्त सिद्ध जन कहते है कि इस रोग का न तो कोई निवारण ही है 
                                                       एवं न ही रोग जनक का नाशक ही है । और कहते हैं कि रोगी कराहते हुवे बहुंत 
                                                       पीड़ा भोगता है तथा पीड़ित ऐ पीड़ा भोगत हुवे की कार्य के लायक नहीं रहता ।।

                                                       बैद बिसेष न रोग बिज्ञाने । न भेषजय अरु भेषज जाने ।।
                                                       लाखन लाछन लख लिख लाखे । लछनकरम नहि जुगतहिं राखे ।।
                                             इस रोग का कोई विशेषज्ञ भी नहीं है न ही इस रोग का कोई विज्ञान ही है ।
                                                        न ही इसका कोई रोगनियत्रक ही है ।न ही कॊइ औषधि और न ही इसका कोई 
                                                        उपचार जानता ।। लक्षण चिन्हों को तो देख-समझ कर लाखो बार लिखा गया 
                                                        है । किन्तु इसकी परिभाषा एवं उपचार नहीं लिख रखा ।।   

                                                         ऐ बिषाउ त  तुम ही संचारे । तिस वय ते हम भले कुँवारे ।।
                                              लहुर बहुर लउ लगन लगाईं । लुट पुट कुट कुँवरन सुरताई ।।
                                              वर ने कहा इस रोग के विषाणु तो तुमने ही फैलाए हैं । ऐसी अवस्था से तो हम 
                                               कुँवारे ही भले थे । तब वधु ने कहा अहा हा जब तो बहुंत आनंद पूर्वक अग्नि को 
                                                          साक्षी मान कर लगन ग्रहण किया था । अब सारा किला लुट कर कुँवारेपन का 
                                                          ध्यान हो रहा है ।।
                            
                                                          घार रार रूस रिसहिं रुआँसे । प्रियबर रिझकर रूचिधर हाँसे ।।
                                              इ दसा भए बिति दिन दो ही । बहु बरस बिगत मम का होही ।।
                                              वधु लड़ाई की सी अवस्था मन क्रुद्ध हो रूठ कर रुआंसी हो उठी । तो प्रियबर मगन हो 
                                                         आनंद ले ले कर हंसने लगे । वधु ने कहा कि विवाह के दो दिन बीतते ही तो दशा है ।
                                                         कई वर्षो के पश्चात मेरा क्या होगा ।।  

                                                         सहि भँमरे हमरे का होना । एक पख हम ते एक तुम भोना ।।
                                              एक दिन तुम ते एक हम लूटें । जे बँध गए ते भागत छूटें ।।
                                                          पिया जी कहा साथ भंवरे है हमारा क्या होना है एक पखवाड़े तुम प्रीति करना 
                                                          एक पखवाड़े हम करेंगे । एक दिन तुम हमें लुटना एक दी हम तुम्हे लूटेंगे ।
                                                          यदि कोई पकड़ लिया तो चूतत ही भागेंग्न और क्या ।।

                                                          पउर पउर भए बउर भर मउर मुकुर मुसुकाए ।( मौराए )
                                              पँवर पँवर भए भँवर बर भँवर मुकुल बौराए ।। 
                                               समय परअर्थात बसत ऋतु में बौर (आम के) के भरण से उन्हें पाँव में पहन कर 
                                                           मोर दर्पण देख मुस्कराता है अर्थात नाचता है । और कली को पुष्प बना कर 
                                                           भँवरा और वर फेरे ले ड्योडी पर निर्बुद्धि हो जाता है ।।

                                               दुत दुत तुम दुत कृत चरित दइ दयिता दुतकार ।
                                               कँचकार कर कोर कलित दयित कहित कहकार ।।
                                                दुत दुत कह पिया को दुत्कार कर प्रिया कहती है कि किस धूर्त ने तुम्हारा
                                                             चरित्र रचा है । पीया हसते हुवे कहते है किस कलाकार ने तुम्हारे अंग गढ़े हैं ।।  
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                            
                                               शुक्रवार, 28 दिसंबर 2012                                                    

                                                          कृति कलेवर के कलाकारे । साँस सरीर सकल साकारे ।।
                                              तेहिं सयन सद सथ सकलाती । बर बर बतलन बन तव साथी ।।
                                              इस अंग आकार के कलाकार जिन्होने समस्त शरीर को स्वांस प्रदान कर इसे 
                                                         साकारित किया । हम उन्ही के अर्थात अपने तात के कक्ष गृह से दुलाई के साथ 
                                                          तुम्हार साथी बन कर बड़ी बड़ी बातें कर रहें है ।। 

                                              हय रे बिरहन साँसत साँसे । सयुत सिसिर सिरु सीतल वासे ।।
                                              सीत किरन कर कसकन कासे । दंत मूल सह बीर बिलासे ।।
                                               फिर क्या था सजन ने हाय हाय कर बिरहा को कोसते हुवे कहा कि यह बिरहन 
                                                           तो हमारी साँस ही रोके हुवे है । ऊपर से यह शिशिर ऋतु सिर पर चढ़ ठंडा कर 
                                                           बस ही गई है । और चद्रमा की शीतल किर रूपी तहद ठन्डे हाथ कस कर पकढ़े है ।
                                                           दाँत अपनी जड़ों तक ठण्ड हुवे इस शीतलता के साथ नृत्य कर रहें हैं ।।
                                                 दइ धन मन तउ धरितइ थातहिं । संधि कुसल धरि सुम के साथहिं ।।
                                               संधनि करतल दाप तप पाएँ । संग लगउ तनि सीत सिधाएँ ।।

                                               कुहुक कुहुक कह कह कहकारे । पहलि पहल ते पठइँ पहारे ।।
                                               जे लखि सखि तव पति मन मोही । फिर न कहउ अब मम का होही ।।
   
                                               कह त गइ फिर तनि खिसियाए  । कुँवर कसि कस कोदंड चढ़ाए ।।
                                               देखि मृग दृग दाहिन न बाईं । इ का कहि हाय राम दुहाई ।।

                                                  नहि नहि पंकज पग गही बस वादा दउ बिश्राम ।
                                                 सही कहि तव बचन सही मद मधुकरि धरि नाम ।।  

                                               शनिवार, 29 दिसंबर 2012                                                    

                                              मोदु बिनोदु रसिकहिं त बोले । भवइ गमइ गह  भगतन तोलें ।।
                                              जान भए अब तव कि भाई । मुख मुकुर धूर ठकुरसुहाई ।।
                                               तुम्हें आअद पूरित कामदेव ही तो कहा है ।अब तुम मनचाहे विचार समझ कर हमारी
                                                           पीया भक्ति को परख रहे हो । जान गए हम कि तुमको क्या अच्छा लगता है । वही 
                                                           धूल भरेअर्थात मलिन मुख को दर्पण की चाटुकारिता पूरित वचन ।(अच्छे लगते है)  

                                              दहन गर्भ सील सिलक छारे । बैन बैन बूझ भीज छाँरें ।।
                                              छल छल जलपन जलन जलाही । जात बेद तुम प्रियबर नाही ।।
                                               क्रोध रूपी अग्नि से युक्त जलाने वाले चुने में बाण रूपी वाणी को भीगा बुझा कर 
                                                          छोड़ रहे हैं । छलावे से परिपूर्ण तुम्हारी जलीकटी व्यर्थ की बातें हमें जला रही हैं 
                                                          तुम तो अगन हो प्रियवर थोड़े ही हो ।।
   
                                              जरठहिं जरछर जग जार खाए । सुत जएँ अब दूत माउ धराएँ ।।
                                              सुनि सुनि पिय पुनि बत ओसारे । छमि दउ कहि बर भूलि हमारे ।।
                                               जलबल कर  कठोर अर्थात भरे जाड़े को सहन करते हम जाग रहे हैं । अब दूत का मुख
                                                           मूक करके सो जाते हैं । सुनो सुनो ऐसा बार बार कह बात करने का अवसर मागते हुवे  
                                                           पिया बोले बड़ी भूल हो गई ( जो तुम से उलझ पड़े ) हमको क्षमा दे दो ।।

                                              भिनु भिनु भसनन भिनु भिनु भाटे । उलट पहराइत चोरनि डाँटे ।।
                                              प्रिय बिचारि बिरहन बिय पाटे । पिसवन पसरन गिनु गिनु बाँटें ।।
                                               ( तब प्रिया कहती है ) भिनभिनाते भँवरे के विभि प्रकार के चाटुकार है । ऐसा कह 
                                                            उलटे ही चर अर्थात प्रिया ने पहरे दार को ही डांट दिया । पिया ने सोचा कि इस बिरहन के 
                                                             बीज को पाटों के बीच पिस कर पसारे हुवे हाथो को गी गिन कर बाँट दें ।।
   
                                               भिनु कूट गर्भ देह पिय बृत्ति सजुग ह्रदय धर ।
                                               बेर बिच मिच नैन दीय दय धृति दधिति दिनकर ।।                
                                               प्रिया हीन पीया बिखरे हुवे से आहत हो दुखित ह्रदय में वियोग-विषाद भरे हैं 
                                                           (रात्रि के ) मध्य काल में दिये के नयन सूर्य को अग्नि दान कर बंद हो गए ।।  
  
                                                रविवार, 30 दिसंबर 2012                                                  

                                               देर बेर रत बत पिय पाही । सबेरू सुधि सुति सयन भुलाही ।।
                                               पिहरर घर बर बिटप नियारे । सुर सद सुँदरी पथ रत निहारे ।।
                                                देर रात तक पीया से बातें कर प्रात में शयनिका में सुध बुला कर प्रिया सो रही है ।
                                                            पीहर में घर भीतर बड़े अनोखे पेड़ युक्त  देव मंदिर अप्सरा स्वरूप प्रिया का मुग्ध 
                                                            होकर पंथ निहार रहे है ।। 

                                               निंद नयन तल नवल अनंगा । रल्लक रल बल अंग पलंगा ।।
                                               दुइ दृग अंचल कागर काछे । इव अलि कमल दल गूँज गाछे ।।
                                                किन्तु यह मुग्धा अप्सरा नयनों की सतह पर नींद ग्रहण किये देह में कम्बल लिपट 
                                                            लपेट पलंग पर करवट ले रही हैं । दो लोच समूह पर की काली पलक पंखुड़िया ऐसे 
                                                             दृश्यमान है जैसे कि कमल की पंखुडियो पर की भ्रमर गुंजायमान हो ।।

                                                           सोर सँख मुख डमरू डंडारे । देव गुन गान गगन गुँजारे ।।
                                               गंध काठ दल धूमल दाही । मोहि राज रस फुल घुल बाही ।।
                                                नगाड़े डमरू एवं मुख से शंख की कोलाहल लिए देवो की आरती वंदना गगन को 
                                                            गुंजायमान कर रही है । प्रज्वलित हुवे अगर के धुवें से कस्तूरी स्वरूप सुगंध एवं 
                                                            चम्पा, बेला, चन्दन, मोगरा आदि की सुगंध से युक्त पवन बही ।।
                                                 डहडह डहलि कली के गुच्छे । गंध पवन पत पथचर पूछे ।।
                                               पिहर पधर निद नयन नियासी । पदम् सँकासी को कछ बासी ।।
                                                पथिक स्वरूप लहलहाती हुई डालियों पर कलियों के गुच्छों से पवन की गंध ने 
                                                            पता पूछा कि पीहर में पधारी नयनो में नीद धरा किय कमल के जैसी वह अप्सरा 
                                                            का  कौन से कक्ष में वास है ।।

                                               रबि केतन तिर घिर सिरहाना । कहत किरन कन भयउ बिहाना ।।
                                                इधर सूर्य घर के तीर आये एवं अप्सरा का सिरहाना घेर लिया । उसकी किरनो ने 
                                                            अप्सरा केका में ( चुपके से ) कहा भोर हो गई ।।

                                               कवल कवल कुञ्ज कुठार केड़ केवड़ किवाड़ ।
                                               उद बास भर बाहि भार पन हरनि कूप काड़ ।।  
                                               और कहा कि कुंजो का कक्ष कमलों  परिपूर्ण हो गया । तथा केवड़ की पत्तियों 
                                                           से कुञ्ज के किवाड़ सज गए । जलाशयों से पात्रो में पन्हारे पानी सजो रहे हैं
                                                           पनहारिन कुँवें इ पानी खीचकर सँजो रही हैं ( अत: अब तुम भी जागृत हो जाओ )  

                                               सोमवार, 31 दिसंबर, 2012                                                      

                                                बैस उयउ दइ उयस दसी ले । पलकहि नयन पल मल मसी ले ।।
                                                सुरतइ रत बत पिय परिहासे । सालंकर लल गाल पलासे ।।
                                                 उठ बैठ ओड़-बिछावन को लेकर हटा दिया । और पलंग पर नयन पलक को धअभिप्राय 
                                                             से मलते हुवे मसला । रात में पिया की परिहास भरी बातें ध्यान करते ही पलास के 
                                                             जैसी लालिमा ने गालो को मानो अलंकृत ही कर दिया ।।
  
                                                 भइ दुपहरि धुप तेज प्रकासी । दूत मुख दूक पुनि पुनि भासी ।।
                                                 कहत दहत पिय मह पिय मोहू । मिलनइ मैं तव अगवन जोहूँ ।।
                                                  दोपहर हुई धुप तीव्रता के साथ प्रकाशित हुई । पुन: दूत का मुख कुछ कहने लगा ।
                                                               ( उस दूत मुख से ) पीया बिरहा अग्नी में दहते हुवे मोहित हुवे से यह इच्छा जताते हैं 
                                                                मैं तुमसे मिलने हेतु तुम्हारे आगमन की प्रतीक्षा कर रहा हूँ ।।

                                                  का कहुँ तव बिनु निंद न आई । जाग जाग जुग रैनि सिराई ।।
                                                 चलि अवन मिलनु मधुबन केता । बधु संकेतइ सुनि संकेता ।।
                                                  क्या कहूँ तुम्हारे बिना मुझे नींद ही नहीं आई । जाग जाग कर एक युग जैसी रैना 
                                                               बीती है । मिलन के प्रयोजन हेतु तुम मधुवन की स्थली में आ जाओ । इस मिलन
                                                               अभिप्राय संकेत सूचना ने वधु को संकट में डाल  दिया ।।
                                                      कहि पिय अस बिय देखि बिलासे । का कहि परि पुर जन संकासे ।।
                                                 ना नुकुरहि कर जोर मनाई । मान मनौति पिय मिलन बुलाई ।।
                                                  वह कहने लगी  हम दोनों को यूँ मिलते हुवे यदि नातेदार, नगरवासी या पड़ोसी 
                                                               देखेंगे तो क्या कहेंगे । ना नुकुर करती प्रिया को पीया ने बिनती करते हुवे मनाया 
                                                               मान मनौवल कर मिलने हेतु बुलाया ।।

                                                 पिछु पीहर जे मोड़ अगहुड़े । तहँ थित देवल महुँ कि न जूड़े ।।
                                                 तब पद अंतर धारहिं धीरे । बीथिहिं भीरे भित मंदीरे ।।
                                                  कहाकि जो तुम्हारे तात घर के पीछे थोड़ा आगे जाकर मोड़ है । वहाँ स्थित मंदिर 
                                                               में हम क्यूँ न मिल जाएं । फिर धीरे धीरे पग धरते हुवे गली में चलते पास के मंदिर 
                                                               में प्रिया ने प्रवेश किया ।।

                                                 फुरकरि धारि दसन  देह उपरन रंजन लेह ।
                                                 लट लह लसन बरन मेह उर धरि सजन सनेह ।।
                                                  शरीर पर पुष्प की कलाकारी किये हव छोर युक्त दुपट्टा तांबे के रंग से रँगा हैं ।
                                                               मेघ जैसे काले केश लहराते हुवे ( मुख,शरीर) लिपट रहें है  और ह्रदय में साजन 
                                                               का स्नेह धारित है ।।