Thursday, November 15, 2012

----- ।। मधुर-मिलन ।। -----


                            पँवर पँवर पर पउँ पउनारे । पंथ गहन सुरबन पइसारे ।।
                            पउँर नुपुर पुर सुमधुर धारे । खनक कनक कन छनक झँकारे ।।
                            चरणत्रान सहित कमल के जैसे चरण, ड्योड़ी के पार देवोद्यान के जैसे ( निवास से लगे )
                                      उद्यान में प्रवेश किये हैं । पद पायल के घुंघरू के स्वर्ण कण सुमधुर तान में झंकृत हो 
                                       उठे ।   

                            निहार निहार हार निहारे । निहोरहिं होरहु हो रहुँ हारे ।।
                            गहनहु गुहनहु गहनि गुहारे । भँवर भरन भए बारहिं बारे ।।   
                            ओस कण गौर से देखते हुवे निहाल होकर आसक्त हो हार में रहने हेतु निवेदन करने लगे 
                                      गहनों में गूंथने हेतु हठपूर्वक गुहार लगाते बार-बार हार में पिरोने हेतु चक्कर लगे अर्थात 
                                      चरणों से लिपट गए ।                           
  
                           सुर बन बल्लभि पथ पद पारे । मुकुति सुकुति प्रसु प्रसुन प्रसारे ।।
                           प्रात पुजन पुन बंदनी बंदि । सुमुख मनि मत मति मधुर नंदी ।।
                            देवोद्यान की ( सुर्यकेतु से )चमकती दूब रूपी आकाश पर जब वधु के चरण चले 
                                     मुक्ता उत्पन्न करने वाले सीपों न से मुक्ता रूपी पुष्प बिखर गए । ( तत्पश्चात )
                                      गृहवधु ने प्रात: काल की अपने सुन्दर मुख व हृदय से ज्ञान युक्त,शील स्वभाव 
                                      सहित आनंदमयी  मधुर एवं पुनीत वन्दना की 

                                     पुहुपक सुरबलि सिंच सुहाए । पुहुप रचन बरन भूषन भाए ।।
                           सिंच सरित सरि श्री श्रुति साधे । देउ कुट चरन चरइ अराधे ।।
                            पीपल व तुलसी के पादप जल प्राप्त कर भाव विभोर हुवे कचनार, सेमल अगस्त्य 
                                      आदि पुष्पों के योग से गुंथी मालिका युक्त आभूषण प्रिय लगे । अर्पित जल की अमृत 
                                      सरिता मानों हरि व हरिप्रिया ने ग्रहण कर लिया अब चरण देव आराधना हेतु मंदिर 
                                      की और प्रस्थान किये । 

                           दीप कालि कलि बर्तिक माला । अलि अंकुर अधार  धर थाला ।।
                           दीपित बरन बर बृत अन्बिता । हरि भवन भित भविनन्ह प्रीता ।।
                           दीप प्रज्जवलन काल में दीपक की लौ बाटी में अलंकृत हुई  प्रज्जवलित दीपक 
                                    पंक्तियों को अक्षत पुष्प के पत्रों से युक्त थाल पर धरे । श्री विष्णु के मंदिर के अंतस 
                                     भक्तों द्वारा शुभ मुहूर्त में प्रकाशवान, स्वर्णाभ लिए कार्तिक की यह अमावस्या 
                                     जगमग हुई । 

                           जगमग जग जगन्मयी जगमग ज्योति ज्वाल ।
                          जगर-मगर धर जगजयी ज्योतिमय जयमाल ।। 
                           जगत माता जगमग ज्योति के प्रकाश से जगमगाई हुई हैं ।
                           जगत पिता जग मग ज्योति से युक्त जय जय कार की जयमाल को धारण किये हुवे हैं ।।

                          बुधवार, 14 नवम्बर, 2012                                                                                   

                         कपूर प्रसंगित अगरु सुगंधा । भनिति बिनति भलि करि कर बंधा ।।
                         बंदन भजन श्रवनहि बनबारी । बद्धानंदन घन घाँ  घर घारी ।।
                          कपूर व सुगन्धित अगर के साथ करबद्ध सुन्दर काव्यमयी विनती करी । भजन  वन्दना 
                                   को वन उद्यान ने सुनकर आनंद बंधन के वशीभूत ( पुष्प कोशिका के ) कोष के अन्दर तक 
                                   जल से तर कर दिए ।

                         कला कलुक कर कलि कलिसाई । कलित कला कृत कलि कलियाई ।।
                         कली कलुष कर कलि कलुषाई । कलित कली भृत कलिजुग आई ।।
                         पैजनी की कला से कला मयी रचना से  अर्थात कला -संगीत को गृहित कर (शाखाएं में )
                                 नई नई कलियाँ उत्पन्न हो प्रस्फुटित हो  जाती हैं । ( किन्तु ) झगड़ा, पाप कृत्यों से तो एक युग 
                                 कलुषित हो जाता है,  युद्ध के कारण ही  कलयुग का आगमन हुवा था । 

                          नत नव नूतन नलिन निकासे । मूल फूल भए बहुल बिकासे ।।
                          छंद प्रबंध पद रसबत  रवने । सुनि पबि पबितउ पल्लव प्रबने ।।
                           नत मस्तक हो नविन नूतन कमल निकल गए उत्पत्ति स्थान में अनेक पुष्प 
                                    विकसित हो उठे । ( भजन के ) छंद, पदों के रसपूर्ण ध्वनित आयोजन की पवित्र 
                                   वाणी को सुनकर पल्लव भी नत मस्तक हुवे ।

                            पब पब पबमन पबि पबिताई । भवन्हि  बधु  बन महुँ पहुनाई ।।
                           पदुम कर करित लसित ललसाए । पुहुप पत परस प्रसादनु पाए ।। 
                           प्रात: काल का प्रकाश, शीतल समीर, ताप से वाणी पवित्र हुई । गृह की वधु अतिथि 
                                    स्वरूप वन में थी । कमल के जैसे हाथो द्वारा हिलोरित ललचाते हुवे पुष्प पत्रों को 
                                    स्पर्श रूपी प्रसाद मिला ।

                         पुन्न करमनी काल के कृतौ करहिं कीर्तन ।
                         पुनी पुर रजन पाल के जय जय कहहिं पुरजन ।।
                         पुण्य का यथा समय कर्म करने वाले का पुण्य पाने वाला कीर्ति करता है ।
                                  पुन्यवान प्रबुद्ध आत्मा का नगर के लोग जय जय कार अर्थात यश करते हैं ।। 
                           
                         
गुरू/शुक्र, 15/16 नवम्बर 2012                                                                        

                         सुमनस मन अस सुम सुहाए । सुमित मिलहुँ सहुँ करज महुँ आए ।।
                         देखु देखु कहि गहिं पहुनाई । चलत फिरत चहु दिसा दिखाई ।।
                         सुन्दर ह्रदय युक्त सुमना पुह्पों के ह्रदय को ऐसे भाए  कि भले मित्र से मिलाप हेतु सामने आ 
                                  उँगलियों में समा गए । और अपने इस अतिथि को पकड़ कर देखो देखो कहते चलते फिरते 
                                  ( वनवारी की ) चारों दिशाओं के दर्शन करवाए ।

                         तरु भुज मंडित बिलसहिं कैसे । बिलस सदन धनु सादन जैसे ।।
                         तलक तलक तरी तरु बिकसाए । तलप तले जनु सजन दसनाए ।।
                         वृक्षों में सजी हुई लता कैसे शोभायमान है ? जैसे कि प्रमोद गृह में कामदेव के प्रसाधन 
                                 शोभा पाते हैं । तालाबों के कोर पर वनों में वृक्ष ऐसे विकसित  हुए हैं मानों शयन सैय्या 
                                 पर स्वयं सजन ही  बिछे हों । 

                         नभो चाप गति गहनहिं रंगा । पुहुप बरन जनु पाट पलंगा ।।
                         दमकत धनबहु धनु थर तीरे । मनु पटिक के पटल पटीरे ।।
                          गगनधनुष ( इंद्र धनुष ) गगन में विचरता गहरे रंगों में स्थित है । मानों पुष्पों ने 
                                   शयन शैय्या को रंगों से आच्छादित कर दिया हो । आकाश से धरती के कोर तक 
                                    धनुष ऐसे दमक रहा है मानो शयन कक्ष के सुन्दर वस्त्र आच्छादन ककी परतें हों ।   

                         झलमल तल थल दर्सन कैसे । रल लल छल मल दर्पन जैसे ।
                         जलाजल जलज जल अकासा । जस मुख कांति बधु के कासा ।।  
                          झिलमिलाते सरोवर की सतह कैसे दिखाई दे रहे हैं ? जैसे मल में मिला हुवा हिलता 
                                   दर्पण का छलावा हो । जल की झालरों में कमल का प्रतिबिम्ब दर्शित है जैसे की वधु 
                                   का लावण्य मयी मुख ( दर्पण में ) प्रतिबिंबित हो ।

                                  धनुकर  कासउ कैसे काही । जनु धनु धनिअन धनिकहिं ताही ।।
                         धूम अयन पथ केतन कैसे । नयन भवन दय दयितहिं जैसे ।।
                          खेतों में बोया हवा धान का हरा रंग कैसा है मानो वधु उसके वर के संग हो । 
                                   झरोखं में अग्नि से उठता धुआँ कैसा है ? जैसे नयनों के भवन में दया व् प्रिय ही हों । 

                                    
                           देखु सागर सैन सईं भसित तूल सइ सैन ।
                          समझ सैन सुमन मुसुकइ दिरिसहिं तिरछत नैन ।।

                          असित भसित तूल साईं देखहिं तिरछइ नैन ।
                          मधुर मधुर बधु मुसुकाइ समुझ सुमन के सैन ।। 
                           ( नीला+ लाल= विष्णु ) विष्णु भगवान की तुलना ( काला+लाल=शिव) 
                                    शिव भगवान से कर जब (सुमन ने) वधु को तिरछे नयन से देखा मानों 
                                    कह रहें हों तुम अपने भगवान अर्थात प्रिय के शयन से इन भगवान की 
                                     तुलना करो यह समझ कर वधु ने प्रियकर मुस्कान बिखेरी ।
                       
                         धूल न धूरे धूलि धुलिका ।  उबटहिं अभ्र इव बरन बधुहि का ।।
                         निर्धौत धूम धरनि धारे । जनु रमनी रूप रंग निखारे ।। 
                          धुल रहित धूलि धूलि सी कोहासा है । जैसे उबटन लगा कर वधु का रन गोरा हो गया हो ।
                                   धुवें से रहित धरती की (नदी की ) चमकती धाराएं मानो सुन्दर प्रिया का निखारा रूप ही हो ।।

                            ताप थाप धुप दमकत नीके । रूप निरूपहिं निभ निभ दुलहिं के ।। 
                          भुइँ भुइँ मुँदर बूँद फुँद पिरोए । जिमि नव कुँवरि के कुंडल कोए ।।
                           धुप की आंच प्राप्त कर ( धरती ) सुन्दर प्रभा तो जैसे दुलहन के चमकते रूप का ही वर्णन 
                                   कर रही हो । धरती के खंड खंड पर कुंडल स्वरूप ओस की बूंदें गाँठ बांध ऐसे पिरोये है 
                                    जैसे कि नइ दुल्हन के ही कुंडल हों ।

                          उद धान पान बिंदुउ बासे । जनु  कंकन के कन कन कासे ।।
                          उदकहि गिरि धरि बूँदइ हारे । मनहुँ मनक कन कंठ कगारे ।।
                           घड़े एवं कुंवों में पानी की बूंदें ऐसे निवास कर रहीं हैं मानो करधनी के कण कण चमक रहे हों ।
                                    जलाशयों से पूर्ण पर्वत पर बादलों की ( संग्रहित)बुँदे, कहारों से ऐसे उत्साहित हैं  मानो गले के
                                    हार में आकर मानिक कण उत्साहित हो रहीं हो  अथवा कहारों  से बूंदें छटक कर धरती पर गिर 
                                    रहीं है मानो ( रोटी दुलहन के ) कंठ के किनारे से अश्रु कण गिर रहे हों ।। 
                         
                          नभस चमस चर चमकत चासे । अलिक अलक नक नग नीकासे ।।
                          नछत नछत पथ निकर निकारे । उपरन उपर  इव उपल उजारे ।।
                          नभ में विचारित चाँद ऐसे चमकता है जैसे केश युक्त माथे में नाक का रत्न हो ।
                                   आकाश में तारे समुहे में ऐसे निकलते हैं जैसे दुपट्टे केऊपर के रत्न ही हों ।

                         अहा अहिहि पहिं अंक अकासे । अस बधू बिंदहु भालहिं भासे ।।
                         कलित केश नभ केतन संगा । केश रचन जस रजस सुरंगा ।।
                         आहा ! सूर्य आकाश के आलिंगन है ऐसे ही वधु की बिदिया माथे पर चमक रही है ।
                                 सूर्य के साथ किरण ऐसे विभूषित है जैसे कुंतल पट्टिका में सिंदूर के कण ही हों 

                          केश केश के बिन्यास  सुरंगाभरन अंग   ।
                          एक शीश शशी मुख पास  एक नभ केतन संग ।।
                          मांग व किरण का लाल रंग अंग के आभूषण व पोषण स्वरूप  
                                   एक चन्द्रमा के जैसे मुख के मस्तक पर तथा एक रवि के साथ है ।।     
                           
                          शनिवार, 17 नवम्बर, 2012                                                                        

                          कोर कोइरहिं कोर किआरी । कोर कोर करि कोसहिं कारी ।
                          गगन किरन करि उगस उगासे । बसन बरन बिस बधु संकासे ।।
                          क्यारियों के कगारे तरकारी की कलियाँ हैं । ( जैसे ) रेशमी कपडे के कगारों पर 
                                   कलाकारी की गई है आकाश ने किरण करके अंकुर उपजाए हैं जैसे वधु के वस्त्रों के कमल का वर्णन 
                                    कर रहें हों ।

                          कीचहिं करष करह करहाटे । कहुँ कंकड़ कहुँ कर्कट काँटे ।।
                          कहुँ कवेल कहुँ बेल बढ़ाई  । कंठ कड़ी सरि कटक कढ़ाई ।।
                          कीचड़ ही के तानने से कमाकमल की जड़ों पर पुष्प कलिका है कहीं कंकड़ भी है कहीं काटें भी 
                                   कहीं कमल खिला कहीं बेलें बढ़ गई  जैसे ( वस्त्रों की ) कंठ के की कड़ियों में सोने के बेल बूटें हों ।

                          कमलाकार करी कमालाकारी । जनु कापर पर कलि कै धारी ।।
                          फर फर पल्लव पवन के पाए । सर सर सारी सरिस सकुचाए ।।
                           कमल की आकृति से ही कमल का आकार होता है अर्थात कमल से ही कमलों  की उत्पत्ति हुई है 
                                    मानो वस्त्रों पर कलियन की धारियां हों । हवा से पत्ते फड़फड़ा रहे है व  सारी के जैसे सिकुड़ रहें हैं । 

                                    सुखद सरद ऋतु सीत भिताई  । प्राण समा प्रिय प्राण समाई  ।।
                          चंदु बिंब मुख चक चकचौही । अस अभिरत मुख प्रियतम होंही ।।
                           सुख पुर्नित शरद ऋतु शितालाता के अन्तश है (जैसे ) प्रिया अपने प्रिय के अंतस समाई हुई हैं ।
                                     चन्द्रमा के चमकते मुख रूप को जैसे चातक परम पूर्वक निहारता है । ऐसे ही  प्रियतम चन्द्र 
                                     स्वरूप मुख को अनुराग पूर्वक देखता है । 
       
                           कृषि सरसहिं सरसौं साक सरसहिं सरी सरोज ।
                           एक सरि सहुँ सवेष राग एक सुमुखी मुख ओज ।।  
                           शाखाओं पर सरसों की उपज हरी भरी है  सरोवर में कमल विकसित हैं ।
                                    अक वस्त्रों के सम्मुख भूषण के सुन्दर रंग स्वरूप एक सुन्दर मुख के ओज के सामान है ।  
                           रविवार, 18 नवम्बर, 2012                                                                              
        
                            तरी धरी थरी दरसु नौका । नभो नयन करि देखु नभौका ।।
                           गगन गवनु जे दिसि नौरंगा । बरन बरन तव उपरन अंगा ।।
                           नदी के पास की भूमि पर राखी नौका को देखो । नभ की और आँख कर उन पंछियों को देखो ।
                                    गगन में विचरटा जो नौरंगा पक्षी दिखाई दे रहा है वह तुम्हारे अंगों पर स्थित आँचल के वर्णों 
                                    का ही वर्णन कर रहा है ।

                           निरखु निर्झरहिं झर झर झरना । मनहुँ अजहुँ लगहिं तवहिं चरना ।।
                           मधुर मधुर सुर नुपुर निकासे । जनु छिनु छिनु करि चरन नियासे ।।
                            उन पहाड़ों से झरते झरनों को देखो मानो अभी तुम्हारे पाँव छुवेंगे । बूंद रूपी घुंघरुओं से 
                                     मीठे मीठे से सुर ऐसे निकल रहें हैं जैसे छम छम करते  ( तुम्हारे ) पद चलते हैं । 

                          कोइल गन घन रूप रस घोरें । जनु बधु के मुख बंदन भोरे ।।
                          कंठ धार धर सुर संगीता  । कंठ बरन भर बरनहिं गीता ।।
                           कोयल का गान मिश्री सा रस घोल रहा है । जैसे वधु के मुख से भर में वन्दना का गान था ।
                                     कंठ में सुर और संगीत की धारा ही धरी है जैसे तुमने कंठ से उच्चारण कर श्री मद भगवद 
                                     गीता का वर्णन किया था ।।   

                          खग गिन घुरबिन कलरव कोरे । भँवर भँवर भर झौरन झौंरे ।
                          कूलिनइ करन करनिक बोरे । खनक कनक कर कंगन गोरे ।।
                           पक्षी गिन गिन कर दाने बीनते हुवे  कलरव कर रहे हैं । भंवरे घूम घूम कर  ( पुष्प ) गुच्छे 
                                    पर गुंजायमान हैं । मांझी के हाथन में पतवार डूब रहीं है ( जैसे ) गोर हाथों के कनक कंगन  
                                    ही खनक रहें हों ।

                          नयन घटा घन रस बर सारे । गहन गहन घनगगन सिधारे ।।
                          घर परन धर पलकन पर छाए । पाए परागन पिय भए पराए ।।
                          गहरी  काली घटा से नयनों से जल मुख पर बिखरा कर घने घने बादल आकाश में चले गए 
                          अर्थात वर्षा ऋतु बीत गयी पराये घर क धारण स्वरूप जो बादल पलकों पर छाए थे, 
                                   पिया  का अनुराग प्राप्त होते ही विदा हो गए ।

                           खल गए रित पूरित तत्काला । भल भरपाए बिगत भए काला ।।
                           बरस बरस भए बरस बरसाहिं । बहुस बरस भइ बहुरिया आहिं ।।
                            कष्टकारी समापन से हुई रिक्तता तत्काल ही पूर्ण हो जाती है । भले की भरपाई हेतु 
                                     समय लगता है जैसे वर्षा प्रत्येक वर्ष वर्षा करती है किन्तु वधु का मुख वर्षों के 
                                     बाद दिखाई देता है ( वर्त्तमान काल में ) ।
   
                           पिया पिया रट पपीहा पयस रूचि के प्यास ।
                           पीहर पीहर भइ बिहा प्रिया पिया के पास ।।   
                            चन्द्रमा की सुधा का प्यासा पपीहा पिया पिया कहता है । विवाह पश्चात पिया  के 
                                      पास ब्याहता बाबुल को याद करती है ।।


                            सोमवार, 19 नवम्बर, 2012                                                                  

                           समुद समुंदन सुमन समीरा । सजु सजु संजुत सरूप सरीरा ।।
                           मुदित मुदित मित सुमरहिं साँसे । कथ सुठि सुभीम  भूषित भासे ।।
                           समीर को सुगंध से सराबोर करते सुमन, सुमन स्वरूप तनधारी प्रिय साथी के साथ 
                                    घुल मिल  अधखिले से हर्षित  अपने मित्र से हवा में सांस  भर ( एक ) सुन्दर  भाषा 
                                    युक्त सुन्दर किन्तु  डरावनी कथा कहने लगे ।

                           सर सर संग सरंग रंगा । सर सर संग सीर सारंगा ।।
                           सर सर अंग सरंग रंगा । सर सर अंगन सीर सुरंगा ।।
                            (  एक )  सरोवर से संयुक्त बहु वर्णित हिरन था एवं  सरसराहट के  साथ  असके  सीर  
                                      उपर एक शेर था  ( उसे देख ) बहु वर्णिक हिरन की सिराओं में लाल रक्त के गतिशीलता 
                                      से उसके अंग भी सरसराने लगे ।

                           सारंग रंग लोचन सबले । सरंग लोचन लोकन अबले ।।
                           सर सर सरंग सरयु सवारी ।  सरर सरर सारंग सारी ।।
                           शेर की  आँखें  में   विचित्र  सा  चित्र  युक्त  लिए  नानावर्ण युक्त थीं । एवं  हिरन  की आँखें 
                                    कातर दिखाई दे रहीं थी । हिरन हवा पर सवार हो गतिमान हवा अर्थात तेज दौड़ाने लगा 
                                    शेर भी हवा में सरसराते हुवे उसका पीछा करने लगा ।

                           सार सार सिर सारन  धारा । सार सारतस सारन सारा ।।
                           सार गर्भ गुन गहनिहिं गाही । भाग भूत भुक भित बल बाही ।।
                            दूर निकल (शेर न ) हवा में फैल कर अर्थात छलांग लगा हिरन के सर को पकड़ लिया ।
                                     एवं प्रकृति के सार भुत होते अर्थात मांसाहारी होने के कारण फैलाते हुवे फाड़ने लगा ।
                                     एवं  (सार = शल्य ) रक्त भरे  गुण युक्त अर्थात रस भरे तत्वपूर्ण अर्थात मांस को प्राप्त 
                                     करने के लिए मज्जा का अन्वेषण करते हुवे उत्तम भागों  को अपनी बल शाली बाहू से 
                                      पेट के भीतर करते खाने लगा ।
                              सारंग रंग लोचन सबला । सरंगज नयन लोकन अबला ।।
                            ( यह सुनकर ) इस विचित्र चित्र से मृगनयनी  अश्रु युक्त हो गई एवं कातर हो हिरन के 
                                      नयनों को देखने लगी ।

                          सर सर सरन संजीवन सार सारंग सरीर ।
                          सर सर सरन सरजीवन सार सरंग के सिर ।।
                          सरोवर के जल से जीवन युक्त हो शेर शरीर बनाता है ।
                                   हवा में गतिमान हो जीवन युक्त हिरन के सर को फाड़ता है ।।
                                      
                          सर सर सारंग रंगित सारी सारी सार ।
                          सुर सुर सार सारंगी सार सारिका तार ।।
                           सरसराती हुई नानावर्ण से वर्णित दूती ने सम्पूर्ण साडी को ऐसे सारा है जैसे सारंगी के 
                                     पुल से  तार का विस्तार हो कोई सुरीली सरगम ही हो ।  


                          मंगल/बुध, 20/21 नवम्बर, 2012                                                                       

                          श्रवन सुमन मुख बधु कै सोभा । एक चित्रकृत के चितबन लोभा ।।
                          चित्ताकरषहिं हारहु कारे । बर बिपलव भर चित चितकारे ।।
                           पुष्प के मुख से वधु की सुन्दरता सुन कर एक चित्रकार का मन मोहित हो गया ।
                                     मन को लुभाने वाले मनोहर सुन्दर कार्य करने हेतु चित्रकार का मन उत्कंठित 
                                     हो चीत्कार  उठा ।

                          फर पर भर बर मल सत संगा । बरन बरनखी धर क्रम रंगा ।।
                          चउपत फिरि कठ कोनउ कासा । इत अवनिहिं उत उकस अकासा ।। 
                           उसने रंगदान में रंग क्रमानुसार रखकर कूँची के फर में भर कर सुन्दरतापुर्वक सातों 
                                    ( वर्णों ) से मिलाया । ( चित्र कारी का ) चौकों कपडे की तह को खांचों में चारों कोनो को 
                                     कसकर इधर अर्थात नीचे धरती तो उधर अर्थात ऊपर आकाश उकेरा ।।
   
                          अबन अबन अबतरनहिं चिन्हें । खग खगजल बल मँझन कीन्हे ।।
                          लिप लता रथी लिख तहिं लेखा । कूट कंठ लोचन लख लख रेखा ।।
                           भूमि पर राह को मूर्त रूप देते हुवे चिन्हांकित किये । पक्षी ओसकी बूंदें आकाश के बौर 
                                    स्वरूप बिंदु बिंदु किये । ( चित्र लिपि ) मजीठे के लाल रंग से लिप कर चित्र कार ने 
                                   सूर्य रेखांकित किया । और पर्वत, कबूतर व मेना आदि को रेखाओं से अंकित कर देखा ।।  
                                     
                           नभ कृति करितहिं मुख भय भोरा । बरसु खचन घन छाजन खोरा ।।
                           छाँव छबि ग्रह चित्र पंथ लोका । धनु धनब धुत रथसूत रोका । 
                             नभ की ओर मुख कर चित्र के नभ को भी भोर मुखी किया अर्थात चित्र में भोर 
                                      व बादलों को  बरसा कर अर्थात वर्षा ऋतु व्यतीत कर खुला आकाश दिखाया । हलकि
                                      छाँव कर आकाश गंगा में दर्पण में प्रतिबिम्ब स्वरूप स्वप्न लोक का चित्र उतारा । 
                                       एवं नभ की ओर धनुष कर  कांपते सूर्य के सारथि अरुण को रोका 
                                        ( सूर्य की किरणें रुकने से इन्धरा धनुष उभर आया ) ।
                                        
                           खिंच खिंच तर खरी तीर पाई । थरियन खलधन धेनु बनाई ।।
                           खेट खेतिहर खेचर खेड़ा । खिल खिल खिलबर खेलहिं बेड़ा ।।
                          
                           असित भसित स्वेत समित टूल टूल तूली मल ।
                           तूल तूल तिल तैल चित्र तौलिक तूल के तल ।।        
  

                          कूट तिन कूट कूँचइ कांडा । शशी प्रभा मुख मंडल मांडा ।।   
                          चित्रीकरन करि अंगन अंगी । अंकित अंकहु संग सुरंगी ।।

                          चित चित्रित कर नयनन नासा । बिधा बरन बर बन बिन्यासा ।।
                          चित चित्रक अंग चित्रक चीता । चित्राजुध दइत भय भयभीता ।।

                          पिछु पिछु पिच्छक पद पद भाई । फूल फला अरु अरू अरूनाई ।।
                          चित चत्बर जल चिखल्ल खोरे । चित्र कार कर कमल दल कोरे ।।
   
                          उजजंभित उज्जबल उजराए । उद उत्पल मल नयन उपराए ।।
                          उदक उदक गिरि गाहन गाहे ।  बसन बिंदु भर सुद सुठि सुहाए ।।  
                           
                          कोउ कुंभ बहनु हरनु  नहाए । कोउ पान हरत भरत दिखाए ।।
                          तीर तीर तर उदप उतारे । खिल खिल  खेवहिं खेवनहारे ।।

                         चाप छाप जल झर झर छोरे । चले छले छर चादर ओरे ।।
                          छहर छहर छर छिनु छबि छाई । छरहरि तनु धरि बधु मन भाई ।।

                          चित्र कृति कृत सुन्दर सारा । देखत चितबत चितरन हारा ।।
                          चित चितचोरु चित्रकहिं कारे । जे जहिं देखहिं चेत न धारें ।।

                         
बरन बरन बर बरनिका बरनी बरनहिं भंग ।
                          बरन बसन धर तूल शिखा बधु गृह बंदउ संग ।।

                       
                          गुरूवार, 22 नवंबर, 2012                                                                                

                           
                           पुनि पुनि बरन बर बाँच बिहिता । भानु भवन भए भित भित भीता ।।
                            भुवन भुवन भव भूषित भासा  । उत्कुट करनहिं कीर्तन कासा ।।
                             पुन : सुन्दर प्रार्थना करते नए विधान का पाठ करते सूर्यदेव ने भवन की भित्तियों के 
                                      भीतर प्रवेश किया । ( एवं )जगत के आभूषण रूप पञ्चभूत स्वरूप जगत व् जगत 
                                      के प्राणियों  को प्रकाश मान कर सोये हुवे ( जन )के कानों में प्रशंसा स्तुति कर प्रज्वलित
                                      हुवे ।

                            हे जग जोगउ जगत अतीता । मनु मन अरि अरु श्रम जीता ।।
                            हे जगरुपक जगरूक अर्तिता । हे जगत ईस जगत के पिता ।।

                             जे जग अवतर धारहु  सीता । ते धरुना धर जगधय धीता ।।
                             कंस काल करि कंसरि नामा । बँसी अधर धरि सुरति स्यामा ।।

                             अगन गर्भ गृह दिग कुल दो ही । तिहुँ पद पूरन लोकन तोही ।।
                             दहन केतन द्रुम द्रुहन दोही । तव जिभ तेजन जीवन जोही ।।

                             जय जगन्मय जयति जय कारे । नभ केतन नत नाथ दुआरे ।।
                               
                             भसम तूल भृगु तुंग तर भरत भूमि के खंड ।
                             जग जग जागरुक रूप कर अहि धर अगन प्रचंड ।।
                               
                               
                                शुक्रवार, 23 नवम्बर, 2012                                                                               


                                बन उपबन घन सुमन सुरागे । हरि हरि हरियन  नयनन जागे ।।
                               सुर सिन्धु ससी मुख सिख सारे । थिरित धीत नीत तवहिं दुवारे ।।
                                वन व उपवन में सघन पुष्प गहरे व सुन्दर वर्णयुक्त हो गए शनै: शनै: घास के भी 
                                           नयन खुल गए है । गंगा को शिव ने अपने शीर्ष पर धारण  किया था निर्मल अमृत 
                                           स्वरूप ग्राह्य वह  तुम्हारे  ही  द्वार पर  पहुँच  कर हुई ।  ( अर्थात हिमालय से लेकर केवल
                                           हरिद्वार तक ही गंगा जल शुद्ध व निर्मल अमृत स्वरूप होता है, काशी,इलाहाबाद से 
                                           होते पटना व कोलकत्ता का जल संग्रह योग्य नहीं होता )

                               बारिधर हिमबर फेर बिहुरे । हिमकाल कन धर बिलस बहुरे ।।
                               पुरइन परसहि  पूर फुर फुरे । मंजिर मंजरि मंजुल मूरे ।।
                                बादल अपने जल रूपी मोतियों को वारि फेर कर बिखरा गए । सरद ऋतु वही 
                                           मोती रूपी कन धारकर लौटी ( फिर) जलाशयों में उनका स्पर्श ग्रहण कर 
                                           कमल पुष्प स्फुटित हो गए कोमल कोपलों ने उन मोती रूपी घुंघरू को पाँव में
                                            धारण कर  लिए ।

                               फलागम असब फलबत तूरे । फर केसर भित पुरन भूरे ।।
                               भए सैसिर सिद साडव साली । बाल भोजइ भए मूलक माली ।।
                                शरद ऋतु के आगमन से खजूर फलयुक्त हो तोड़े गए । समुद्र की रेत  नारियल 
                                          के फल से भर गए ।  बद्री का पेड़ से फल प्राप्त होने लगे अनार के पेड़ भी फलयुक्त 
                                          हो गए । जौ, गेहूं, चना  आदि के किसान ( उपज विक्रय कर ) धन के स्वामी हो गए ।
  
                                रस दालिक दल भए ग्रह कोरे । रसि आउर जाउर भीर खोरे ।।
                                धान पति बीर सैल संचाए । कोस कलक करि पंच बनि माए ।।
                                 ईख मिश्रण रस रसगुल्लों में भर स्वाद युक्त हुवे । यह रस चावल में पक खीर के 
                                            पकवान स्वरूप मित्र के समूह ने खाई । चावल, जौ, उड़द की राशि के भण्डार भरे ।
                                            (ऐसे) पंच प्रकार के अन्न की राशि को शुद्ध कर अनाज के व्यापारियों ने कोषालय 
                                            में सुरक्षित रखा ।

                                 भाव प्रबन भरि भगति भज गाहहि करतल जोर ।
                                सुलख लगन सुमिरहि सुरज भँवर भरू भरी भोर ।। 
                                 ( ऐसे )भावुक हो श्रद्धा व भक्ति आग्रह पूर्वक( उठाने हेतु ) हाथ जोड़ भजन कर 
                                            शुभ लक्षण व मुहूर्त में धुर सवेर  परिक्रमा कर हरि का स्मरण किया ।।  

                                  शनिवार, 24 नवम्बर, 2012                                                            

                                 सुनि सुरज के गीर गंभीरा । चेत भै सिंधु सयन सुधीरा ।।
                                 रयन ररन रव रबि रस रागे । रमा रमन  लल लोचन जागे ।।
                                 सूरज की गंभीर वाणी सुनकर समुद्र में शयन करने वाले सागर के जैसे शांत भगवान 
                                            श्री विष्णु चेते । रवि द्वारा , मन को प्रसन्न करने वाले प्रेम भाव से युक्त, सरस शब्दों 
                                            को दोहराने से रमा पति श्री विष्णु के लोचन कम्पित हो जाग उठे ।

                                  प्रथु प्रथुप्रद पद प्रथबी तारे । प्रथम दरस धरु प्रसूति धारे ।।
                                  कलित किरन कर बरन प्रबाला । ललित घिर भरी प्रभु के भाला ।।
                                  भगवान ने अपने पद विस्तार कर पृथ्वी में उतारे ।  प्रभु की दर्शन रूपी बुँदे प्रथम 
                                              प्रसविनी गौ माता ने धारण की । ( सूरज ने ) लाल रत्न सदृश किरणों की माला 
                                              प्रभु के गले को घेरा भर शोभायमान हुई ।।
     
                                   रति रतनधर रमाधउ ऐसे । रतोपल पर रमा रम जैसे ।।
                                   भानु बरनहिं जगत के लेखे । उदित सुधित प्रभु समुदित देखे ।।
                                   सौभाग्य रत्न को प्रभु ने ऐसे धारण किया जैसे लाल कमल पर माता लक्ष्मी 
                                               शोभायमान होती हैं । भानु ने जगत के  लेखे जोखे का वर्णन किया । जिसे प्रत्यक्ष
                                                सुव्यवस्थित हो प्रभु ने प्रसन्नता पूर्वक देखा ।

                                   नलिन नयन नय नियति निहारे । फर फुर भरपूर मनहु हारे ।।
                                   सुपट पर्न धर चरन मंजिरे ।। सुनइ सइँ सहइ सुम सुर धीरे ।।
                                    प्रभु के कमल जैसे नयन प्रकृति को निहारने लगे ।  धन धान्य से परिपूर्ण फली फूली 
                                                मन को हराने वाली थी । कोपलों पर सुन्दर वस्त्र व चरण में जल कण रूपी नुपुर धारण 
                                                किये सुमन की मधुर सुर मंद ध्वनी प्रभु ने सुनी ।
                                                 

                                    कल कल जल तल रुनझुन राजे  । छुद्र घंटिक जनु मंदिर बाजे ।।
                                    प्रफुउल फुल नयन गगन बिहाए । प्रनय प्रनब नत चरण नभ नाए ।।
                                    कल कल करता ( नदी झरने आदि के ) जल, सतह पर रुनझुन करते विराजमान हैं ।
                                                जैसे मंदिर में सुक्ष्म घंटियाँ गुंजायमान हों । प्रसन्नता से विस्तृत कमल के जैसे 
                                                नयन आकाश का विचरण कर रहें हैं । नभ ने प्रभु के चरणों में झुक प्रणाम कर प्रार्थना की ।
   
                                    गह प्रभुपद जननयन तब जागे तारन हार ।
                                    भए रंजन जागरन जब जगा सकल संसार ।।     
                                    सूर्यदेव द्वारा प्रभु के चरण पकडे तब प्रभु जागे  जब सारा जग जाग गया तो यह 
                                                जागरण आनंद मग्न हो उठा ।।

                                   
                                    रविवार, 25 नवम्बर, 2012                                                                      

                                    इहाँ रमा रमन सुमन सहिते । बंदि पुजहिं पउ भवनहु भीते ।।
                                    दीपित बरन धर दह दुलहनिया । धूरि सिरु धरि दूहरि पुरनियाँ ।।
                                     इधर रमा ने सुन्दर पुष्पों के साथ ( प्रात: की ) वन्दन-पूजन पशचात भवन में प्रवेश किया  
                                                  स्वर्ण की सी आभा से दमकती दुल्हिन ने बढे बुजुर्गों की चरण छू धूलि सर पर धारण की ।।
                                      परिगह गन जन गहहिं गहीता । रूप गुण के करि कीरत कलिता ।।
                                    बैठ बिरध बिच बिछुवन भींचे । धरनि चरन नख लेखहि खींचे ।।
                                    सगे सम्बन्धी व नातेदार ने उन्हें घेर, रूप व् गुण के गिन गिन कर बखान करने लगे 
                                                 बढ़े बूढ़े के बिच बैठ बिछिया को भींचे धरती पर पाँव के नाख़ून लेख लिखने लगे ।।

                                                कोउ कह बधु बिरद बैदेही । कोउ बृंदाबन महुँ राधे ही ।।
                                    बहु सख सहिं कहिं बिंग ठिठाई । जे बर घन ए बिजुर हैं भाई ।।
                                     कोई बधू को बैदेही का ही नाम कहे तो कोई वृन्दावन में राधिका ही कहें ।
                                                 साथ ही मित्र मण्डली यूँ हाँ कर कहा की यदि वर बादल हैं तो वधु बिजली ही हैं 

                                               तुषार गिरि धर धरनिहि देही । मंडित मंडल मुख मुरति तेहिं ।।
                                    तूल तिलक तहँ दीपहिं दाना । तेज तीख मुख दीपित समाना ।।
                                     (वधु ने)  हिमालय पर्वत जैसी धवल देहधारी हुई है  मुख चन्द्रमा जैसे शोभायमान है  ।
                                                  वहां लाल तिलक बिंदी दीपक दान के तथा मुख का तीक्ष्ण तेज उसकी दीप्ती के 
                                                  समान है ।
   
                                    लवन वदन धर कमन कपोले । दसन अधर पर कछु नहिं बोले ।।
                                    अलिक अलक अलि नयन पपोटे । लजबन हर भरू भवनहिं ओटे ।।
                                    लावण्य युक्त मुख में सुन्दर गाल पर होठ मुस्काये तो किन्तु बोले कुछ नहीं ।माथे पर 
                                                कुंतल पंक्ति युक्त नयन पलक नयनों में प्रियतम को समाए लज्जाशील हो गए ।
                                    करनधार कन खनकन कोले । लहर बहर लय लपितहिं लोले ।।
                                    घन कर कंगन घूँघट खोले  । मूक बधू पर भूषन बोले  ।।   
                                    कानों के आभूषण खनकते लिपटते हिलते हिलकोरते स्वर कथन करने लगे ।।
                                                हाथों के  घने  कंगन ने घुंघट खोले वधु मौन है किन्तु आभूषण बोल रहे हैं  ।।

                                
                                     झाँक झरोख नयन भवन दरस सजन अनुराग ।
                                     बंधु कहु बिरज महुँ किसन बिरध बधु के सुहाग ।।   
                                      नयन रूपी भवन के झरखे में झाँक कर पीया का अनुराग देख 
                                                  भाई बंधू ब्रज में किसान की उपमा दे रहें हैं तो बड़े बुजुर्ग भाधू का सुहाग ही कह रहे हैं ।।


                                                   सोमवार, 26 नवम्बर, 2012                                                                 

                                       त्रइ गच तरी त्रइ ऊपर ढारी । लघु बन अँगनहिं ओट अटारी ।।
                                       धवलित गिरि गृह दुधिया धौरे । छिंट अस धवई पुहुपहिं पौरे ।।
                                        तीन कक्ष निचे तथा तिन ऊपर ढाले हुवे हैं छोटा सा उपवन व् आँगन भवन के ओट है ।
                                                      हिमालय की चोटी के समान घर दुधिया चुने से पुता है । जिस पर काम ऐसा जैसे धवई 
                                                      के  वृक्ष में लाल पुष्पों के गुच्छे हैं ।

                                       सुगत सुघर घर दुअर बिहाई । दुइ बधुहीं अरु बर त्रइ भाई ।।
                                       धर धरम चरन चिंतन चारी । करमठ बर कर कोषज धारी ।।
                                        सद्गति प्राप्त अच्छे घर द्वार में वधु का ब्याह हुवा । जहां बधू के दो तथा वर तीन भाई हैं ।
                                         धर्म युक्त आचरण व् मनन शील कमाऊ वर के हाथ धन कोष से युक्त हैं ।

                                        गृहजन रंजन प्रिय श्रुत जौंरे । सज उपकरन जथाजोग जोरे ।।
                                        नतन नदन भए नदर नदिआइ  । नग मूर्धन मुख नगर निकाइ ।।
                                         कुटुम्बी आनंद प्रदान करने वाले प्रतिष्ठा प्राप्त व् पास पढ़ोस में लोकप्रिय हैं । घर यथायोग्य 
                                                      साज सामग्री से सजा है । स्थान नत मस्तक गंभीर कोलाहल धारे नदी के कगारे पर है ।
                                                      पहाड़ की चोटियों के मुहाने पर नगर व निवास है ।
    
                                         खचन खगन भए खनि के खाना । खन खन खनकन खल धन धाना ।।
                                         कहुँ खातक खपरैल खपाटे । अरु कहुँ खिल खनकहिं खाते ।।
                                         ( जहां ) नगर चिन्ह स्वरूप खनिज की खानों का भण्डार है । खंड खंड में खेत खलियान पर 
                                          धान के दाने खनक रहे हैं  । कहीं खानों को खोद खोद कर खातों में चड़ाए धनी हैं कहीं धौंकनी 
                                                        को मुँह से लगाए खपरे से छाए घर में निर्धनता की खाई है ।

                                         नग नग नगधर नागरिक पर नगर काक अधिप ।
                                         दीन   दसा   दीन   दैनिक   धनी   धर   सरनदीप ।। 
                                         पर्वत पर्वत पर रत्न धारण किये नागरिक हैं किन्तु राजा बगुला भगत अर्थात भ्रष्ट है ।
                                                       निर्धन की दशा दिनोदिन और निर्धन हो रही है व धनवान सोने की लंका को धारे हुवे हैं 

                                         मंगलवार, 27  नवम्बर, 2012                                                                


                                          फल रल रस जल अल्प अहारा । प्रेमानुराग भर कर धारा ।।
                                          पद पंकज पुर पौरहिं पैठे । खोर कोर गच  प्रियतम  बैठे  ।।
                                           मिश्रित फल दूध जल युक्त अल्पाहार को परम व अनुराग भर हाथ में ले कमल के 
                                                          जैसे चरण सीढ़ी की और प्रवेश किये । प्रियतम नहा धोकर कक्ष में बैठे हैं ।

                                           देखन जोग सजु सजन सुहाए । नीर नीरज धर निथर नहाए ।।
                                           मुकुत केश कर कुंडल कारे । मुकुत सुकुत सिरु प्रलंब धारे ।।
                                            नहाए धोए जल-मोती से युक्त सजन की सुहावनी शोभा देखने योग्य है 
                                                           खुले हुवे केश काले व घूँघरालू आकार में हैं सर में सीपी से उत्पन्न जल कण
                                                            रूपी मोतियों की मालाएं धारे हुवे है ।

                                            सजन सुमन मुख सनमुख सोई । जस कमलाकर कमलहिं होई ।।
                                            काम कमन कर कोटिक काई । अस छबि छाहिं के कहिं न जाई ।।
                                            सजन का सुमन मुख सामने इस भाँति शोभाय मान है जैसे कमलों के ताल में 
                                            कमल ही हो । करोड़ों कामदेव से युक्त काया  की सुन्दर छवि ऐसे छाई है जिसका 
                                                           वर्णन नहीं किया जा सकता 

                                            जल कन घन तन मन अनुरागे । प्रेम पाश बध कर्षहिं धागे ।।
                                             रति उपल अस स्यामल हारे  । रजत रजन जस रयनि निहारे ।।
                                            तन  के सघन जलकण मन में अनुराग भर प्रेम पाश में बंध प्रेमधागे से खींचा
                                                           जा रहा है  स्याम सरीर में अनुलग्न रत्न हार रूपी जल कण ऐसे है जैसे रात की 
                                                            ( चन्द्र ) किरणों में ओस रूपी मुक्ताहार हो । 

                                            रमित रमन तन रतन्हि धारे । निहार हार हरि नयनन हारे ।।
                                            कर कंधन धर दुअरहिं टेके । अलक पलक प्रिय अपलक देखे ।।
                                            रत्न धारे मंत्र मुग्ध सा रमण का तन है । हरिके इन निहारों को निहार नयन भी 
                                                           मोहित हो गए । कंधे व हाथ को द्वार से टेके नयन प्रिय को अपलक देखे जा रहें हैं । 

                                              सुदि सुदर्शन सुधारतन सँवर  स्याम  सरीर ।
                                              द्रप्स द्रप्स दयित दर्पन  दरस दरस धर तीर ।।
                                               उज्जवल सुन्दर मती स्वरूप जल कण श्याम के शारीर का श्रृंगार है ।
                                                               प्रिय की बूंद बूंद दर्पण स्वरूप हैं दर्शन, सौंदर्य व  रूप साक्षात स्वरूप हैं ।।

                                               निलय निर्गुन नयन सगुन दरसहि देही टेक ।
                                               देहरि दीप उजियार गुन  भीतर बाहिरहु एक ।। 
                                               मन में निर्गुण किन्तु नयन सगुन अर्थात साक्षात  दर्शन देह टेके कर रहें हैं ।
                                                              जैसे देहरी का दीपक के  उजाले का गुण हैं कि वह बाहर भीतर एक सामान होता है ।।  



                                              बुध/गुरु, 28/29 नवम्बर 2012                                                                    

                                               निज पुर तिय मुर निरख  निमेषा । छोर कोर करि कुंचित केसा ।।
                                               मंद गमन दंत बसन दसाए । प्रियबर रूप भर  प्रिया पहिं आए ।।
                                               ( प्रिय ने )मुड़ कर प्रिया की पलक को अपनी ओर देखते पाया तो घूँघराले बाल को
                                                                एक ओर कर मुस्कराते धीमी चाल चलते प्रियबर सौंदर्यपूर्ण हो प्रिया के पास आए ।।
  
                                               कोर कुंतल तल पोर फिराए । बलइत जलाजल सुत झटकाए ।।
                                               झुर पुर भुर बहु फूर फुहारे । जनु हिमकन हिरबन बल हारे ।।
                                                एक और के घूँघराले बाल पर उंगलियाँ फिराते जलकण रूपी लपटी मोटी की झालरों 
                                                                को झटकाए । उहार रूपी बहुंत से फूल छुट कर ऐसे बिखरे जन मानो जलकण मोती 
                                                                की माला स्वरूप लिपट रहे हों ।
                                                                

                                               भीत  भवन रति सिहर सहारे । सीत सिकर धर साँवर सारे ।।
                                               मटक मसक मृदु कलइहिं काखे । रस फर परिहर परलहिं राखे ।।
                                               कक्ष की भीती के सहारे सिहरते  सांवरे के बिखरे शीतल जल कण को धारण किया 
                                                               मटकते हुवे कोमल कलाइयों को काख में कसे दूध व् अल को छिनकर एक और रख दिया 
    
                                               बुझ भव भुज धर फबतइ पेखे । रूझ तव कहु कर मम तइँ देखे ।।
                                               तव तन चितवन मोर मन भाए । कहि कन नयनन जोर मुसुकाए ।।
                                               ( एवं ) बाहू में भर व्यंग व् हास्य पूर्ण यूँ  देखते हुवे पूछा तुम मेरी ओर लगन पूर्वक 
                                                               ऐसे क्यों देख रही हो ??  प्रिया ने कान में नयना चार करते मुस्कराते हुवे  कहा 
                                                               तुम्हारा तन व मन हमरे मन को भा गए इसलिए ।।

                                              तईं इहहिं रज  कर कोर धराए   । अस जे दरस ते चोर कहाए   ।
                                              तनि बेर बितत दइ तव भेली  । एहिं बखतइ हम धरे न धेली ।।
                                               इस हेतु अर्थातमुझे  ऐसे देखने के लिए यहाँ के राजा के द्वारा शुल्क लगाया गया है 
                                                              ऐसे अर्थात तुम्हारे जैसे निशुल्क कोई देखेगा तो चोर कहाया जाएगा । थोड़ी देर रुक 
                                                              जाओ  तुम्हारी ये शुल्क का गुड़ दे देवेंगे अभी तो हमारे पास धेली भी नहीं है कंगले हैं ।। 

                                                               मूँदहिं मँगन मुहु अखर चढ़ाए । कह सईँ  करनहिं झोर लगाए ।।
                                               मृदु गमन मँगनी चोर चिराइ  । दिसिभर बिगर मुख मोर रिसाइ ।।
                                               उधार बंद है ऐसा मौखिक स्वरूप ( राजा का ) कथन सेइया ने कान की लटकन से 
                                                               मुह लगाकर कहा । ( एवं ) हंसते हुवे चोर, भिखारी कह चिढाने लगे । दिखाने भर को 
                                                                ( बधू ) मुख मोड़ रूठ बैठी ।।

                                               निबरहिं बहहिं  बहु जोर लगाए । कुँवर धर कर कटि कोर कसाए ।।
                                               रुझहि रूरहि अरु ओर अरुनाए । छोर न छोर कह रोर रिझाए ।।
                                               बाहु को छूढ़ाने हेतु बल लगाने लगी । ( किन्तु ) पिया  ने हाथ करधन आदि अंगों को 
                                                               कास लिया । उलझते व्यथित होते आँख की पलकें लाल कर छोड़ छोड़ न कह हल्ला 
                                                               कर लुभाने लगी ।। 

                                               तन  तनि तिनकन त्योर चढ़ाए । घन कंगन कर मोर मुकियाए ।।
                                               गोर कर मोरहु सोर मचाए  । एक ते चोर तउ  नैन दिखाए ।।
                                               तन कर  तनिक तुनक कर त्य्री चढ़ा सघन कंगन युक्त हाथ मुक्का दिखाने लगे ।
                                                               ( पीया बोले ) गोर हाथ मोर सर करती हो ?? एक टी चूर ऊपर से आँख दिखाती हो ??
                                                 सुधवन लग रन सुमन सबेरे । हिर धरे हिरक हरि हरि हेरे ।
                                               बिनति बचन  कहि नयन निहारे । तुम मम प्रियतम प्रान पियारे ।।
                                                ( जब ) सवेरे वन में लगे सुमन याद आए तो करधनी से सैट कर लगे सुमन को धीरे-
                                                                 धीरे निकाला व नयनों से निहारते ये विनती वचन कहे की तुम मेरे प्रियतम प्राणों 
                                                                 से भी प्यारे हो ।।

                                                इहि बखतइ एहि बँधनी धारें । दव बेरि तव मँगनी उतारें ।।
                                                रय रर ररिहर तब धर सारे । पिय कहिं परच एहि का पुकारें ।।
                                                 इस समय इन्हें बंधक रख लो समय दो हम तुम्हारी उधारी उतार देंगे । ( जब ) 
                                                                 प्रीतिपूर्वक बारम्बार गिड़गीड़ाते से वचन कहे तब पिया ने उन्हें धारण कर लगा लिया 
                                                                 और कहा इनका परिचय तो दो इन्हें हम क्या कह कर पुकारें ।।
                                                  हिलगन मिलि बन ए हमरहु आलि । बहु बतियहु एहिं तव ही साली ।।
                                                 हिल मिल कर उपवन में मिली ये हमारी सखी हैं । और ये तुम्हारी साली ही है अब 
                                                                 इनसे बहुंत बतियाना ।।
  
                                                 रजन रमन रतन रूप भर द्रव कन दर्पण रंग  ।
                                                 धरन बाँधन दरसन कर प्रिया छबि अंग अंग  ।।
                                                 मुक्ताहार व रत्न स्वरूप प्रियतम ने जल कण रूपी दर्पण को धारा है ।
                                                                 दर्शन के राज-कर के बदले सुमन को बंधक रखे सो ही प्रिया का प्रतिबिम्ब 
                                                                 अंग अंग में शोभाय मान है ।
                                                                

                                                             
                                                भुज कोटि कर सिखर पास कसकन अंतर अंग ।
                                                बहु भुरहर भर आकास बिहर प्रीति के रंग ।।
                                                ( प्रियतम ने ) भुजाओं में आलिंगन कन्धों में कस लिया ।
                                                                अलस भोर प्रीत के रंग आकाश में बिखरे और भरते चले ।।

    
                                                               शुक्रवार, 30 नवम्बर, 2012                                                                 

                                                 भिद भित  भीतर  भासु भिंसारे । रमन रतन कन नगन निसारे ।।
                                                 चारु चरन कर वपुधर देही । दुइ भुज सिखर लव लवन  लेहीं ।।
                                                  भवन खंड को बेध उषाकाल में सूर्यदेव भीतर पधारे । पीया ने जलकण रूपी रत्नों के 
                                                                   अनगिनत कणिकाएं उन्हें भेंट दी । सुन्दर चरण व  हाथ युक्त देह मूर्ति की दो भुजाओं 
                                                                   व काँधे  सुन्दर चमक लिए हुवे है ।

                                                 चाम तामरस चन्दन चाँके । तम धन हर कर हरिहहि झाँके ।
                                                 तूलि धर सुख कर गँधहि वासे । सघन सुमन सम उपवन बाँसे ।।
                                                  ताम्र वर्ण से युक्त त्वचा में चन्दन उक्त शोभा को चिन्हांकित कर सिद्ध कर रहा है 
                                                                   एवं चन्द्रमा की किरण स्वरूप यह चमक त्वचा के सावरेपन को अंधेर स्वरूप हर रही है 
                                                                    सघन पुष्प से युक्त उपवन के समान कपास पर सुखप्रदायक  गंध को देह ऊपर धारा ।।

                                                 बनवनहर धर बरन बानिके । रोचहिं रोचन लोचन नीके ।।
                                                 रचबत कंकत कुंतल कैसे । रची रजन जल रयनि तल जैसे ।।
                                                 वर्ण युक्त भेस से सँवरे सजन की सुन्दर चमक शोभा नयनों को लुभा रही है ।
                                                                 कंघी से केश कैसे संवारे जैसे ओसपूर्ण रजनी ही प्रेम मग्न हो कर संवर रही हो ।।

                                                 कसक करज कर काल पट्टिका । भव बंधन जनु तेहिं कर टिका ।।
                                                 धर दर्पन सजु सजहिं सुदेसा । निरख पूछहु कवन मम भेसा ।।
                                                  हाथों पर उँगलियों से घड़ी को ऐसे कसा मानो संसार का जन्म मरण का चक्र इन्हीं 
                                                                   के हाथ पर टिका हो । दर्पण देखते  सजन ने यथा काल स्वरूप संवरने हुवे पूछा 
                                                                   मैं कैसा लग रहा हूँ ??

                                                 बिंग बचन धर नयन नराचे । बधु मुसुकहि कहिं कहँ तइँ बाँचे ।।
                                                 परिहस तर कस अस न उतारो । जे न सुघर ते सुधर सँवारो ।।
                                                  नयनों में बाण रूपी परिहास भरे वचन धर प्रिया मुस्काती हुई बोली कहाँ से बखान
                                                                   प्रारम्भ करें । ऐसे उपहास पूर्ण तीर तो न उतारो यदि अच्छा नहीं लग रहा तो सुधार 
                                                                    कर संवार दो । 
                                                 
                                                 सहस मौलि मुख अमृतकर नयनन राँजन राँच ।
                                                 अंस कर अम्बर जुग धर रचन बसन कटि खाँच ।।
                                                  प्रभु का मुख चन्द्रमा कर नयनों में अनुराग का रंग भरते कंधे व हाथ में 
                                                                   तथा ऊपर निचे के वस्त्र पहनात करधनी में वस्त्र खचकर  सुन्दर संवारा  ।।